GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

चैत्र नवरात्रि के साथ प्रारम्भ होता है हिंदू नव वर्ष, जानें क्या है इसका महत्त्व

संविदा मिश्रा

25th March 2020

हिन्दुओं के प्रमुख त्यौहारों में से एक है नवरात्रि। नवरात्रि एक संस्कृत शब्द है जिसका शाब्दिक अर्थ होता है नौ रातें। कहा जाता है कि इन नौ रातों के दौरान, शक्ति के नौ रूपों की पूजा की जाती है।

चैत्र नवरात्रि के साथ प्रारम्भ होता है हिंदू नव वर्ष, जानें क्या है इसका महत्त्व
वैसे तो  नवरात्रि वर्ष में चार बार आती  है- पौष, चैत्र, आषाढ और अश्विन मास में , परन्तु इनमें से दो नवरात्रों का अलग ही महत्त्व है  । नवरात्रि के नौ रातों में तीन देवियों - महालक्ष्मी, सरस्वती और दुर्गा के नौ स्वरुपों की पूजा होती है जिनको क्रमशः नंदा देवी, रक्ततदंतिका,शाकम्भरी, दुर्गा,भीमा और भ्रामरी नवदुर्गा कहते हैं। नवरात्रि हिन्दुओं का एक महत्वपूर्ण त्यौहार  है जिसे पूरे भारत में उत्साह के साथ मनाया जाता है। ख़ासतौर पर चैत्र मास में आने वाली नवरात्रि का अपना विशेष महत्त्व है क्योंकि इसी से हिन्दू नव वर्ष का आरम्भ होता है। 

क्या है हिंदू नव वर्ष 

भारतीय कैलेंडर के अनुसार हिंदू नव वर्ष चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा के साथ प्रारंभ होता है और पूरे देश में  इसे अलग -अलग रूपों में जैसे महाराष्ट्र में गुड़ी पड़वा और संपूर्ण देश में नवरात्रि या नव वर्ष के रूप में मनाया जाता है।  इसे नवसंवत्सर कहते हैं और मान्यताओं के अनुसार भगवान द्वारा विश्व को बनाने में सात दिन लगे थे इसलिए इस सात दिन के संधान के बाद नया वर्ष मनाया जाता है। इसके अलावा यह भी कहा जाता है कि चैत्र के महीने के शुक्ल पक्ष की प्रथम तिथि या प्रतिपदा को सृष्टि का आरंभ हुआ था इसीलिए हिन्दुओं का नववर्ष चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को शरू होता है और  हिन्दी महीने की शुरूआत इसी दिन से होती है |

चैत्र नवरात्रि का महत्त्व 

इस वर्ष 25 मार्च से नया संवत्सर 2077 आरंभ हो गया है। प्रति वर्ष चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से नया हिंदू वर्ष शुरू हो जाता है। साथ ही इसी तिथि पर नवरात्रि का पहला दिन होता है। हिंदू परंपरा में नव संवत्सर को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। हिंदू मान्यतानुसार चैत्र शुक्ल प्रतिपदा की तिथि को सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण तिथि माना गया है। ब्रह्मपुराण में उल्लेख है कि चैत्र प्रतिपदा को ही ब्रह्मा जी ने सृष्टि की रचना की थी। जिस दिन दुनिया अस्तित्व में आई, उसी दिन प्रतिपदा मानी गई। इसीलिए चैत्र नवरात्रि को अति विशिष्ट तरीके से मनाया जाता है और इसका महत्त्व निश्चय ही विशेष है। 
ये भी पढ़ें-

 

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

गुप्त नवरात्...

गुप्त नवरात्रि में ऐसे करें देवी मां की आराधना,...

जानिए शरद पू...

जानिए शरद पूर्णिमा का महत्व और पूजन विधि...

जानिए किस आय...

जानिए किस आयु की कन्या के पूजन से मिलता है...

जानें अप्रैल...

जानें अप्रैल महीने में पड़ने वाले प्रमुख व्रत...

पोल

आपकी पसंदीदा हिरोइन

गृहलक्ष्मी गपशप

पहली बार घर ...

पहली बार घर रहे...

लाॅकडाउन से पहले अक्षय कुमार की फिल्म सूर्यवंशी रीलीज़...

अनलाॅक 2 में...

अनलाॅक 2 में 31...

मिनिस्ट्री आफ होम अफेयर्स ने कहा है कि जो डोमैस्टिक...

संपादक की पसंद

गुरु एक सेतु...

गुरु एक सेतु है,...

गुरु तो एक सेतु है, एक संभावना है। गुरु एक तरह की रिक्तता...

दिल जीत लेंग...

दिल जीत लेंगे जयपुर...

जयपुर को गुलाबी शहर कहा जाता है लेकिन ये महलों का शहर...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription