GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

जानें 'परफेक्शनिस्ट' होना कितना सही, कितना गलत ?

पूनम मेहता

11th April 2020

किसी काम को अच्छे-से-अच्छा करने की कोशिश करने में कोई बुराई नहीं है। पर यदि आप सब कुछ बिल्कुल परफेक्ट तरीके से करने के चक्कर में अपना दिमाग चकरघिन्नी की तरह इसलिए घुमाते हैं कि आपके काम में कोई गलती ना हो और आपको ‘परफेक्शनिस्ट’ का टैग मिले, तो इस तरह की सोच आप पर बुरा असर डाल सकती है।

जानें 'परफेक्शनिस्ट' होना कितना सही, कितना गलत ?

क्या आप हर काम तय करके करते हैं? शेड्यूल का कड़ाई से पालन करने में विश्वास करते हैं ? अव्यवस्था से आपको गुस्सा आ जाता है और आप खीज जाते हैं? दूसरे के द्वारा की जा रही लापरवाहीं से तुरन्त तैश में आ जाते हैं ? हर काम को वक्त से करने की आपकी आदत है? हर काम को अपना सौ प्रतिशत देने की आपकी कोशिश रहती है? और इसी सबके चलते आप तनाव में रहते हैं तो आप जान लें यह सभी लक्षण परफेक्शनिस्ट होने के हैं। यह बात सच है कि हर चीज समय पर करना अच्छी बात है पर आदत जब सनक बन जाए और जीवन के हर पहलू को प्रभावित करने लगे तो थोड़ा सोचने की आवश्यकता है। इसलिए कुछ तब्दीलियां स्वयं में लाएं और परफेक्शनिस्ट होने को अपनी कमजोरी नहीं ताकत बनाएं ।

अपनी सीमाओं को समझें 

इस बात को ध्यान में रखें कि आप काम को करने का सर्वोत्तम प्रयास और कोशिश ही कर सकते हैं। फल आपके क्षेत्राधिकार में नहीं इसलिए अपनी सीमाएं पहचानिए और परिणाम की टेंशन लेना बंद करिए।

इमोशन में न बहें

परफेक्शनिस्ट व्यक्ति अक्सर आदर्शवादी होते हैं। किसी को ना नहीं कह पाते और फिर अपेक्षाएं पूरी न कर पाने की वजह से तनाव में जीते हैं। इसलिए स्ट्रेस फ्री लाइफ जीने के लिए अपेक्षाओं के पहाड़ को अपने ऊपर ना लादें और उतना ही करें जितना सामान्य  रूप से किया जा सकता है। 

माफ करना सीखें

दूसरों को माफ करने के साथ-साथ आप स्वयं को भी माफ करना सीखें। आपका हर प्रयास सार्थक हो, जरूरी नहीं। कई बार सर्वोत्तम करने के बावजूद भी अपेक्षित परिणाम नहीं मिलते इसलिए l खुद को माफ करिए अन्यथा आप ग्लानि में ही जलते रहेंगे।

दोस्तों के साथ मिलेजुले

यदि आप परफेक्शनिस्ट है तो दोस्तों के साथ समय जरूर बिताएं और पार्टी में एन्जॉय करें ताकि आपका तनाव कम हो। दोस्तों के साथ आप जितना ज्यादा समय बिताएंगे आपको अपने बारे में उतना ही पता चलेगा। अगर आपकी कोई बात उनको पसंद नहीं आती तो अपनी गलतियों को हल्के में लेने की आदत डालें। 

ज्यादा न सोचें

कहते हैं चिंता चिता के समान है पर परफेक्शनिस्ट अक्सर सोचते ज्यादा है इसलिए आप अधिक विचारवान होने से बचें क्योंकि ज्यादा सोचने से कई बार नकारात्मकता पनपती है। किसी भी बात को सोचने के बजाय उसका हल तलाशें। पूरी नींद सोने से दिमाग को आराम मिलेगा।

रिलैक्स भी रहिए

सारा दिन ‘‘थॉट प्रोसेस'' में मत गुजारिए। कभी रिलैक्स भी रहिए। एक दिन रिलैक्सेशन के नाम कर  कर दें। हर हफ्ते एक दिन फिक्स रखें, फिर बॉडी साइकल उसी के मुताबिक अजस्ट हो जाएगा। रिलैक्स करने से आप पुनःऊर्जावान रहेंगे।  

योग व मैडिटेशन करें

ये दोनों चीज़ें सबसे अच्छा स्ट्रेस बस्टर हैं। इसलिए नियमित व्यायाम, योग, मेडीटेशन करने से आप अपनी आदत को कंट्रोल कर पाएंगे और आप फिट भी रहेंगे। इसके अलावा आप  मैडीटेशन भी करें। ऐसा करने से आप अपने को संभाल सकते हैं। इसलिए दिनचर्या में इन सभी चीज़ों को शामिल करें।

स्वयं को प्यार करें

हमारे जीवन की संजीवनी है खुद को प्यार करना। इसके बाद ही आप खुले दिल से किसी और को प्यार करने में सक्षम हो पाएंगी। इसलिए अपनी खूबियों और कमियों के साथ स्वयं को स्वीकारें। स्वयं को स्वीकारने और प्यार करने से व्यक्ति संतुलित रहता है और उसमें आत्मविश्वास पनपता है।

ना कहना सीखें

इस बात का ख़ास ध्यान रखें कि अनावश्यक काम अपने सिर पर ना लें बल्कि ना कहना भी सीखें, वरना नुकसान सिर्फ आपका ही होगा। इसके अलावा औपचारिक वश देखादेखी या झूठे दिखावें अथवा आदर्श में ऐसी चीज़ें /बातें न स्वीकारें, जिन्हें करना आपके बस में ना हो। यह न सोचें कि एकसाथ कई काम करने से लोग आप की तारीफ करेंगे बल्कि ऐसा करने से तो आप की परेशानी बढ़ेगी और आलोचना होगी। 

यह भी पढ़ें-

पॉजिटिव थिंकिंग अपनाएं , बीमारियों को दूर भगाएं

जानिए उम्र के हिसाब से कितनी नींद लेनी चाहिए

सेल्फ केयर है बहुत ज़रूरी

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

ज़रा संभल कर पियें नींबू पानी, नहीं तो हो...

default

क्या आप जानते हैं ब्राउन राइस के ये फायदे...

default

कोरोना की दहशत से न लें तनाव ,ये टिप्स अपनाएं...

default

लॉकडाउन में बच्चों को दिखाएं ये इंस्पिरेशनल...

पोल

सबसे अछि दाल कौन सी है

गृहलक्ष्मी गपशप

जानिए बॉलीवु...

जानिए बॉलीवुड की...

चलिए जानते हैं कुछ एक्ट्रेसेस के बारे में जिन्होंने...

चाणक्य के अन...

चाणक्य के अनुसार...

सदियों से ये सोच चली आ रही है महिलाएं शारीरिक और मानसिक...

संपादक की पसंद

रामायण: घर-घ...

रामायण: घर-घर में...

रामानंद सागर की 'रामायण' लॉकडाउन में जब दोबारा प्रसारित...

खाद्य पदार्थ...

खाद्य पदार्थ जो...

आजकल आप थके-थके रहते हैं। रोमांस करने की आपकी इच्छा...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription