लॉकडाउन स्ट्रेस - महिलाएँ कैसे करें इसका सामना?

Dr. Snehal Singh

5th May 2020

लॉकडाउन स्ट्रेस से काफ़ी महिलाएँ परेशान हो रही हैं। खान पान और सही पोषण के साथ महिलाओं को चाहिए शारीरिक और मानसिक विश्राम। यदि आपका मन शांत होगा तभी आप खुश रह सकती है - साथ ही आपके काम योग्य तरीके से कर सकती हैं। ऐसे में जानिये अपना मनःस्वास्थ्य बनाये रखने के कुछ आसान पर जरूरी चीज़े।

लॉकडाउन स्ट्रेस - महिलाएँ कैसे करें इसका सामना?

देशव्यापी लॉकडाउन  के कारण  सभी के घरो में काफी चीज़े बदल गयी हैं। घर के कामों में कोई सहायता नहीं मिल रही और महिलाओं को अधिक मुसीबतों का सामना करना पड रहा है। अब तो सभी घर पर है - पुरुष, महिलाएँ और बच्चे भी। यदि कोई बुजुर्ग घर पर हो तो उनका विशेष ख्याल भी रखना है। अब तो न ऑनलाइन फ़ूड सर्विस है न घर के कामों में किसीकी मदद हैI ऐसे हालात में जो महिलाएँ दफ्तर जाती थी उनको अब घरसे ही दफ्तर का काम करना पड़ रहा है। मतलब खान पान और बच्चों को सँभालने से लेकर वर्क फ्रॉम होम तक - यक़ीनन आजकल महिलाएँ बहुत ही ज्यादा परेशान हो रही हैं।

ऐसे में एक ही बात मन में आती है - क्या हमारी महिलाएँ स्वस्थ है? क्या उन्हें सही पोषण और आराम मिल रहा है? इस लॉकडाउन में शारीरिक स्वस्थ्य के साथ साथ मानसिक संतुलन बनाये रखना भी उतना ही जरूरी है। महिलाएँ लॉकडाउन के दौरान हो रहे मानसिक तनाव का सामना कैसे करें? क्या आप लॉकडाउन स्ट्रेस से राहत पाने के लिए कुछ कर सकती हैं ?

आइये जानते हैं, इन हालातों में मनःस्वास्थ्य बनाये रखने के कुछ प्रभावी तरीके।

  • आप के दिनचर्या का उचित नियोजन करें - घर के कामों को आपस बाँट लें। कुछ कामों में बच्चों की और घर के अन्य सदस्यों की मदद लें। आपकी जीवनशैली या लाइफस्टाइल पर ध्यान दें - सही समय पर खान-पान ,रात की नींद और दिनभर के कामों का योग्य आयोजन करें। आपका ‘वर्क फ्रॉम होम' सही तरीके से नियोजित करें I समय का सदुपयोग और सही ‘टाइम मैनेजमेंट' से आप का काम आसान हो सकता हैं।
  • आपके आहार पर विशेष ध्यान दें - आहार में रोटी और चावल के साथ जरूरी तत्त्व जैसे दाल, मटर, चना, हरी सब्ज़ीयाँ और फल आवश्य लें। साथ में दूध, दही या छांस और मेवा - बादाम, अखरोट, और खजूर का भी सेवन करें। दिन भर पानी पीना भी उतना ही जरूरी है।
  • रोज़ाना व्यायाम करें - जब हम तनाव दूर करने की बात करते हैं तो एक अहम् चीज़ होती है - नियमित व्यायाम! आप चाहे जो व्यायाम करें - एरोबिक्स हो या योग हो - नियमित रूप से करने पर आपको जरूर फायदा होगा। व्यायाम न केवल आपके शरीर को स्वस्थ रखता है बल्कि आपके मनःस्वास्थ्य का भी ख्याल रखता है। योग और प्राणायाम करने से कईं सारे फायदे है और सबसे अहम् है मन की शांति।
  • परिवार के साथ वक़्त बिताएं - इन दिनों सभी घर पर होने के कारण काफ़ी समय भी मिल जाता है। अपने कार्य ख़तम करके आप कुछ समय अपने घर के अन्य सदस्यों के साथ बिता सकते हैं। बच्चों से खेलिए, बाते करें, उन्हें कहानियां सुनाइए। बुजुर्गो से उनके अनुभव सुने और अपने जीवन को अच्छे विचारों से भर दे। आपस के भेद भाव और मनमुटाव दूर करने का भी यही सही समय है। परिवार में बातचित होती रहे सब एक होकर रहें, इसमें आप खुशहाल महसूस करेंगे।
  • अपने लिए कुछ समय निकले - पुरे दिन में आप अपने लिए कुछ समय निकालें यह उतना ही आवश्यक है। जैसे आजकल कहते हैं 'मी टाइम' - मतलब 'आपका समय' - आपके मनःस्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी है। इसमें अपना मन चाहा कार्य कर सकते हैं - जैसे किताब पढ़ना, गाना सुनना या कोई कला सीखना ।

इन तरीकों का उपयोग करके देखिये - आप को जरूर ख़ुशी मिलेगी। जहाँ ख़ुशी होगी, वहाँ आप तनाव मुक्त महसूस करेंगे। तो देखिये अपनी ज़िन्दगी को एक अलग नज़रिये से - और लॉक डाउन में भी बनाये रखिये अपना मनः स्वास्थ्य।

यह भी पढ़ें -जाने पीरियड्स की सही उम्र और उसके बाद लड़की के शरीर आने वाले बदलाव

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें-editor@grehlakshmi.com

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

लॉकडाउन की स...

लॉकडाउन की स्वास्थ्य समस्याओं से कैसे बचें?...

उन दिनों को ...

उन दिनों को कैसे बनाएं सुरक्षित

स्किनिमलिज़्...

स्किनिमलिज़्म-2021 में दिखाएं अपनी प्राकृतिक...

सर्दी के मौस...

सर्दी के मौसम में बच्चों की देखभाल ऐसे करें...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

चित्त की महत...

चित्त की महत्ता...

श्री गुरुदेव की कृपा के बिना कुछ भी संभव नहीं। अध्यात्म...

तुम अपना भाग...

तुम अपना भाग्य फिर...

एक बार ऐसा हुआ कि पोप अमेरिका गए, वहां पर उनकी कई वचनबद्घताएं...

संपादक की पसंद

शांति के क्ष...

शांति के क्षण -...

मानसिक शांति के अत्यन्त सशक्त क्षण केवल दुर्बल खालीपन...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला...

एक महिला बोली : मुनिश्री! मैं बड़ी दु:खी हूं। यों तो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription