GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

सम्मान पति पत्नी के रिश्ते में

Poonam Mehta

14th May 2020

पति पत्नी के रिष्ते की धुरी प्रेम विश्वास व सम्मान ही है । इनमें से एक भी यदि कम हुआ तो रिष्ता बिगड़ते देर नहीं लगगी ।

सम्मान पति पत्नी के रिश्ते में
पति-'पत्नी का रिश्ता बेहद नाजुक, प्रेम से भरा । दो अनजान लोग विवाह बंधन में बॅधके "एक" हो जाते हैं और पूरी उम्र साथ काटते हैं । उनके सुख-दुःख, सपने, सन्ताने सब एक हो जाते हैं । हमारे देश में तो विवाह सात जन्मों का बंधन माना जाता है । पाश्चात्य संस्कृति और आधुनिक भारत में तलाक का बढ़ता अनुपात भी इस रिश्ते की खूबसूरती व अपनेपन को तोड़ नहीं सकता ।
इस रिश्ते को तोड़ती है तो केवल एक दूसरे के प्रति सम्मान की कमी । कई बार देखा गया है कि कई पुरूष पत्नी को अपने सामने कुछ नहीं समझते है और बच्चों व दूसरों के सामने उन्हें बेइज्जत करने से बाज नहीं आते ।
पत्नी भले ही उनसे अधिक योग्य  हो या ज्यादा कमाती हो, ज्यादा अच्छी हो या खूबसूरत हो ये पुरूष उसे यथोचित सम्मान नहीं देते । मित्रों रिश्तेदारों या घर की बाईयों के सामने भी वे अपनी पत्नी की इन्सल्ट कर बैठते है ।
क्यों करते है पुरूष ऐसा-
हमारे देश में लड़के को बचपन से ही सिखाया जाता है कि वह अपने साथ जन्मी बहिन से बेहतर है । समाज में लड़के के जन्म को सेलीब्रेट किया जाता है । मुण्डन, थाली या पराथ बजाना लड़के के जन्म पर होता है । प्रारम्भ से ही लड़कों को ज्यादा अहमियत दी जाती है और इसीलिए उसके मन में "महत्वपूर्ण" होने की अवधारणा विकसित हो जाती है । वे स्वयं को सुपीरीयर समझने लगता है ।
सामान्यतः लड़कियों, स्त्रियों, महिलाओं का एक्सपोजर पुरूषों जितना नहीं होता, इसलिए उनकी जानकारी व नॉलेज घर के बाहर के क्षेत्रों में कम होती है । पुरूष  इसी बात से स्वयं को अधिक निपुण समझने लगता है । कई बार पुरूषों की हीन भावना भी उन्हें आक्रामक होने को विवश करती है ।  स्वयं से योग्य या सुन्दर पत्नी होने पर वो उसकी खीज पत्नी को गाहे-बगाहे बेइज्जत करके निकालते है । स्त्री को कमतर समझने पर या उसके उपर रौब गॉठने की मनःस्थिती भी पुरूष  को पत्नी के सम्मान को ठेस पहुचाने को उकसाती है ।
कई बार चिढ के, जानबूझ कर, पति पत्नी को चोट पहुॅचाने या मन दुःखाने के लिए बेइज्जती करता है तो कई बार आदतवश भी ऐसा कर बैठता है ।  
क्या हो सकता है ?
बुरी तरह से ट्रीट होना हम में से किसी को भी पसंद नहीं आता फिर घर की लक्ष्मी का तिरस्कार, कई मामलों में उसकी रूचि खत्म कर सकता है । पत्नी भी मौके और बहाने ढूढ सकती है पति का अपमान करने का । दोनों के रूचि पूर्ण सम्बन्ध खत्म हो सकते है । यदि दोनों र्विर्कगं है तो ईगो क्लेश हो के तलाक हो सकता है ।
क्यों दे सम्मान ?
दूसरे को सम्मान देना तो हमारी तहजीब व संस्कृति है इसमें भला शर्म कैसी ? पत्नी तो अर्द्वागिनी है ।आपके बराबर की सुख दुःख की हकदार । उससे गंदी तरह बोलने का हक आपको कदापि नही है । पत्नी यदि होम मेकर भी है तो भी उसकी अपनी अहमियत है । उसे सम्मान देना आपका फर्ज है । दूसरों को सम्मान देने से स्वयं, आपके संस्कार पता चलते    हैं । अक्सर फलों से लदी डाली ही  झुकी हुई होती है । वाद विवाद से नेगेटिव एनर्जी जेनरेट होती है, सम्बन्ध बिगड़ते है ।
आप अपने बच्चों के लिए अच्छा उदाहरण कभी नहीं बन पायेंगे । स्वयं की श्रेष्ठता प्रमाणित करने के लिए कभी भी अपशब्दों का सहारा लेने से काम नहीं बनेगा । पत्नी को नीचा दिखाने के चक्कर में कई बार पति भूल करते रहते हैं । पढ़े-लिखें अच्छे घर के लोग भी अपने पद व प्रतिष्ठा के चलते पत्नियों से मारपीट तक करते हैं । अक्सर लोग वाईफ को "टेकन फार ग्रान्टेड"  ले लेते है और उससे कैसा भी व्यवहार कर बैठते है ।
क्या होता है ऐसे रिश्तों में-
यदि पति पत्नी को अकेले में या सबके सामने या घर पर सम्मान नहीं देता तो इससे दाम्पत्य जीवन पर बुरा असर पड़ता है ।
बच्चे भी मॉ को सम्मान नहीं देंगे । सास ससुर भी घर की स्त्री को इम्पौरटेन्स नहीं देंगे ।
संयुक्त परिवार है तो अन्य रिश्ते नातों पर भी फर्क पड़ेगा ।
पत्नी के मन में या तो कुंठा पलने लगेगी या ष्विद्रोह पनपेगा ।
पत्नी यदि जवाब देने लग जाए अथवा विरोध करेगी तो घर युद्व का मैदान बन जाएगा ।
बच्चों में अच्छे संस्कार नहीं पनपेंगे । उनकी भाषा भी असंयत हो जाएगी ।
पापा की तरह वो भी या तो मॉ को कुछ नहीं समझेंगे या फिर मॉ के पक्ष में होकर पिता के विरूद्व  हो जाऐंगे ।
परिवार दरकने लगेंगे । पत्नी यदि सह भी लेगी  है तो भी देखने वालों को बुरा लगेगा ।
कैसे बदले आदत-
यदि आप भी आज तक पत्नी को कमतर समझते आ रहे है तो प्रण कीजिए कि अपनी आदत बदलेंगे ।
शुरूआत उसके हर काम को एक्नॉलेज करने से करें ।
शुक्रिया-धन्यवाद कहने से पत्नी का मनोबल बढ़ेगा ।
यदा कदा तारीफ करें तो बड़प्पन आप ही का झलकेगा ।
पत्नी से ऊंची आवाज में बात करना या छोटी छोटी गल्तियों के लिए उसे डाटना बंद कर दीजिए ।
बच्चों से भी मम्मी से ऊंची आवाज में बात करने को मना करें ।
पत्नी की राय किन्हीं मुद्दों पर आपसे अलग है तो धैर्यपूर्वक उसकी बात सुने, हो सकता है वो सही हो ।
शुरूआत में हिचक हो सकती है पर घबराएॅ नहीं, आप सुदृढ़ दाम्पत्य की ओर ही कदम बढ़ायेंगे ।
प्यार से बोल के तो देखें-
पत्नी से प्यार से बोल कर तो देखें उसे सम्मान दे के तो देखें आपका दाम्पत्य गुलजार हो जाएगा ।
वो दोड़ दौड़ के आपका काम करेगी । हर व्यक्ति प्यार का भूखा होता है । पत्नी भी आप ही की तरह प्यार व सम्मान की हकदार है । आप परिवार के मुखिया है तो क्या हुआ, पत्नी की हैसियर भी आप ही के समकक्ष है ।
सम्मान केवल बोली में ही नहीं, हाव-भाव आचार-व्यवहार में भी दिखना चाहिए ।
गृहस्थी तो दो पहियों की गाड़ी है यदि एक पहिया भी इमबैलेन्स हुआ तो मुश्किल हो जाएगी। ं
जीवन साथी को सम्मान देने से कभी भी आप नीचे नहीं हो जाते है बल्कि आपका बड़प्पन संस्कार, शिक्षा व उसके प्रति चिन्ता झलकती है ।
पति पत्नी के रिश्ते की धुरी प्रेम विश्वास व सम्मान ही है । इनमें से एक भी यदि कम हुआ तो रिश्ता बिगड़ते देर नहीं लगगी ।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

पति-पत्नी के रिश्ते में जरूरी है सम्मान

default

उत्सव की तरह मनाएं जीवन का हर क्षण है

default

कैसे करे डील ड्रामेबाज पार्टनर को

default

प्यार करें नफरत भरे ससुराल के रिश्तों से...

पोल

सबसे अछि दाल कौन सी है

गृहलक्ष्मी गपशप

अच्छे शारीरि...

अच्छे शारीरिक, मानसिक...

इलाज के लिए हर तरह के माध्यम के बाद अब लोग हीलिंग थेरेपी...

आसान बजट पर ...

आसान बजट पर पूरा...

आपकी शादी अगले कुछ दिनों में होने वाली है। आपने इसके...

संपादक की पसंद

आध्यात्म ऐसे...

आध्यात्म ऐसे रखेगा...

आध्यात्म को कई सारी दिक्कतों का हल माना जाता है। ये...

बच्चों को हा...

बच्चों को हाइड्रेटेड...

बच्चों के लिए गर्मी का मौसम डिहाइड्रेशन का कारण बन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription