जब हो जाये सहकर्मी से प्यार

सरिता शर्मा

27th May 2020

ऑफिस में अधिक काम होने की वजह से लोगों का ज्यादा समय ऑफिस में ही बीतता है । टीमवर्क के रूप में काम करते-करते सब के साथ एक स्नेहिल रिश्ता बन जाता है परन्तु कोई ऐसा भी हो सकता है जो एक सहकर्मी से बढ़कर अच्छा लगने लगता है ।

जब हो जाये सहकर्मी से प्यार
आप उससे अपने जीवन से जुड़ी हर बात शेयर करना पसंद करने लगते हैं ऐसे में साथ- साथ काम करने से प्राकृतिक रूप से एक-दूसरे के प्रति आकर्षण होना स्वाभाविक हैं। ऐसा भी देखने में आता हैं कि जब आप किसी प्रोजेक्ट में मिलकर काम कर रहे होते हैं तो एक दूसरे का सामीप्य होने से आप एक दूसरे को जानने लगते हैं । काम पूरा होने के बाद आप दोनों एक-दूजे कि कमी महसूस करने लगते हैं, मिलने को तड़पते  हैं बस यहीं  से प्यार की शुरुआत होती हैं । ऑफिस कलीग से प्यार कोई गलत  बात नहीं हैं। साथ में काम करते हुए भावनात्मक लगाव हो ही जाता हैं तो प्यार होना जायज़ है । कभी- कभी तो घरवालों  की रज़ामंदी से  बात शादी तक भी पहुंच जाती है ।ये तो  सब बाद की बातें है लेकिन इस प्यार का असर ऑफिस के काम पर भी देखने को मिल सकता है । दोनों ज्यादा समय साथ बिताना चाहते हैऔर ऑफिस टाइम में मिलने के बहाने ढूंढ़ते रहते हैं । उनमें मेसेजस का आदान-प्रदान शुरू होने से उनका काम भी प्रभावित होने लगता हैं । काम पूरा न होने पर परफॉर्मेंस पर भी गलत असर पड़ने लगता हैं नाराज़गी, झगड़े जैसे वाक्या भी होते रहते हैं जिस वजह से खराब मूड के चलते किसी काम में मन नहीं लगता, परिणामस्वरूप ऑफिस के काम अधूरे रह जाते हैं । 

 

सहकर्मी से प्यार करना अच्छी बात हैं लेकिन ऑफिस में मर्यादा में रहना ज़रूरी होता है । काम के समय सिर्फ काम को ही प्राथमिकता देनी चाहिए । प्रोफेशनल व निजी लाइफ को अलग-अलग रखना चाहिए । किसी भी तरह की इशारेबाजी करने से बचे क्योंकि किसी ने भी अगर आपको ऐसी हरकतें करते हुए देख लिया तो ऑफिस में आपका परिहास उड़ाया जा सकता है । इसके इलावा ऑफिस में आप सभी के लिए एक केंद्रबिंदु बन जायेंगे जो किसी न किसी तरह आपको हर गतिविधि में आपस में जोड़ कर नई-नई बातें बनाने से पीछे नहीं हटेंगे जो ऑफिस के माहौल के लिए सही नहीं होगा । कार्यस्थल पर कार्य में लापरवाही आपकी नौकरी को भी खतरे में डाल सकती है । यह सही है की प्यार हो जाने पर एक दूसरे से मिलने को, ढेर सारी बातें करने को मन करता है अतः मुलाकात के लिए छुट्टी का दिन निश्चित करें क्योंकि उस दिन आप पूरा समय आप एक-दूसरे के साथ व्यतीत कर सकते हैं । कई बार ऐसा भी देखने को मिलता है कि ऑफिस में किसी बात को लेकर आप अपने पार्टनर की गलती होने पर भी उसका साथ देते है तांकि उसे बुरा ना लगे, इन सबसे दूर रहकर हमेशा सही का साथ दें । मुद्दे की बात है कि प्यार अपनी जगह काम अपनी जगह होना चाहिए ।

 

 अपने कलीग से प्यार होने पर एक बड़ा फायदा यह होता है कि आप अच्छे से तैयार होकर ऑफिस जाने लगते हैं, आपके खान-पान और चाल-ढाल के तौर-तरीके बदल जाते हैं और आप एक बेफिक्र जीवनशैली से ज़िम्मेदार व्यक्तित्व में तब्दील हो जाते हैं । अपने पार्टनर से मिलने कि बेकरारी में हर रोज़ समय से ऑफिस आने लगते हैं । आपका मन खुश रहता है तो आप काम भी मन लगाकर करते हैं।  यही खुशमिजाजी आपको सकारात्मकता से भर देती है जिसे आप हमेशा ऊर्जा से भरे रहते है ।

 

आप उससे अपने जीवन से जुड़ी हर बात शेयर करना पसंद करने लगते हैं ऐसे में साथ- साथ काम करने से प्राकृतिक रूप से एक-दूसरे के प्रति आकर्षण होना स्वाभाविक हैं। ऐसा भी देखने में आता हैं कि जब आप किसी प्रोजेक्ट में मिलकर काम कर रहे होते हैं तो एक दूसरे का सामीप्य होने से आप एक दूसरे को जानने लगते हैं । काम पूरा होने के बाद आप दोनों एक-दूजे कि कमी महसूस करने लगते हैं, मिलने को तड़पते  हैं बस यहीं  से प्यार की शुरुआत होती हैं । ऑफिस कलीग से प्यार कोई गलत  बात नहीं हैं। साथ में काम करते हुए भावनात्मक लगाव हो ही जाता हैं तो प्यार होना जायज़ है । कभी- कभी तो घरवालों  की रज़ामंदी से  बात शादी तक भी पहुंच जाती है ।ये तो  सब बाद की बातें है लेकिन इस प्यार का असर ऑफिस के काम पर भी देखने को मिल सकता है । दोनों ज्यादा समय साथ बिताना चाहते हैऔर ऑफिस टाइम में मिलने के बहाने ढूंढ़ते रहते हैं । उनमें मेसेजस का आदान-प्रदान शुरू होने से उनका काम भी प्रभावित होने लगता हैं । काम पूरा न होने पर परफॉर्मेंस पर भी गलत असर पड़ने लगता हैं नाराज़गी, झगड़े जैसे वाक्या भी होते रहते हैं काम अधूरे रह जाते हैं । जिस वजह से खराब मूड के चलते किसी काम में मन नहीं लगता, परिणामस्वरूप ऑफिस के 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

क्या आपको भी...

क्या आपको भी हो गया है प्यार

क्या यही प्य...

क्या यही प्यार है

ये आदतें ऑफि...

ये आदतें ऑफिस में आपकी इमेज बिगाड़ सकती हैं...

पड़ोसी से रिश...

पड़ोसी से रिश्ते हों मजबूत

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

जन-जन के प्र...

जन-जन के प्रिय तुलसीदास...

भगवान राम के नाम का ऐसा प्रताप है कि जिस व्यक्ति को...

भक्ति एवं शक...

भक्ति एवं शक्ति...

शास्त्रों में नागों के दो खास रूपों का उल्लेख मिलता...

संपादक की पसंद

अभूतपूर्व दा...

अभूतपूर्व दार्शनिक...

श्री अरविन्द एक महान दार्शनिक थे। उनका साहित्य, उनकी...

जब मॉनसून मे...

जब मॉनसून में सताए...

मॉनसून आते ही हमें डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, जैसी...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription