जानें क्या है रेकी हीलिंग थेरेपी

मोनिका अग्रवाल

28th May 2020

रेकी तकनीक द्वारा शरीर में ऊर्जा का संचार होता है। रेकी तकनीक द्वारा कई रोगों का इलाज आदमी अपने-आप कर सकता है। इस चिकित्सा पद्धति का विकास उन्नीसवीं शताब्दी में जापान में हुआ था। भारत में यह चिकित्सा पद्धति बीसवी सदी में आयी। शारीरिक एवं भावनात्मक रूप से शरीर को स्वस्थ रखने के लिए आपके शरीर में इस उर्जा को संतुलित रूप से बंटा रहना चाहिए।

कोरोना संक्रमण के चलते अधिकांश लोग इनदिनों किसी ना किसी प्रकार के तनाव में हैं। बढ़ती बीमारियों, अनियमित दिनचर्या और बहुत सारी नेगेटिविटी के बीच कहीं ना कहीं हम पिछड़ते जा रहे हैं। आज के इस आर्टिकल में हम आपको एक ऐसी हीलिंग स्किल के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे जानने के बाद आप ना सिर्फ नकारात्मकता के चक्रव्यूह से बाहर निकल सकेंगे बल्कि एक नई और पहले से कहीं बेहतर ज़िन्दगी जी सकेंगे। जी हां, यह सब संभव है 'रेकी' के माध्यम से जिसके द्वारा ना सिर्फ अपना बल्कि अन्य लोगों का भी भला कर सकेंगे। आइए जानते हैं रेकी के बारे में।

रेकी लेवल 1

रेकी हीलिंग क्या है ?

रेकी हीलिंग का अर्थ है परमात्मा की ऊर्जा, रे= परमात्मा और की - ऊर्जा, तो ऐसे मिलकर यह बनी परमात्मा की ऊर्जा। रेकी के कॉन्सेप्ट को दुनिया के सामने लाने का श्रेय जापान के डॉक्टर मिकाओ उसुई को जाता है। जिन्होंने जापान के कुरियामा पर्वत पर 21 दिन तपस्या करने के बाद रेकी के गूढ़ रहस्य को जाना और दुनिया के सामने लाए। रेकी के माध्यम से आप हीलिंग के द्वारा खुद का अन्य लोगों का उपचार कर सकते हैं। इसके माध्यम से ना सिर्फ आप नकारात्मकता के स्तर को बेहद कम कर सकते हैं बल्कि अपनी ऊर्जा को सही दिशा में लगाकर नई ऊँचाइयों को छू सकते हैं। रेकी से असाध्य रोगों के अलावा अन्य सभी बीमारियों का इलाज संभव है।खास बात ये है कि इसमें कोई दवाई भी नहीं लेनी पड़ती है।

 

रेकी लेवल 1 

रेकी हीलिंग के प्रथम चरण में आपको एक योग्य रेकी गुरु द्वारा रेकी ऊर्जा दी जाती है। इसे अट्यूनमेंट या शक्ति का संचार भी कहते हैं। इस प्रक्रिया के द्वारा रेकी मास्टर आपको परमात्मा द्वारा दी जाने वाली ऊर्जा से जोड़ता है। जिसके बाद आप रेकी के अगले चरण को सीखने यानी लेवल 2 के लिए तैयार माने जाते हैं। लेवल 1 को सीखने के लिए आपको 4-5 घंटों की ज़रुरत होती है। इसमें रेकी की थ्योरी क्लास और प्रैक्टिकल शामिल है। 

 

रेकी लेवल 2 

लेवल 2 में शामिल है रेकी ऊर्जा की मदद से खुद को हीलिंग देना। इसके अंतर्गत शरीर में सात चक्रों - मूलाधार चक्र ,स्वाधिष्ठान चक्र, मणिपुर चक्र, अनाहत चक्र, विशुद्ध चक्र, आज्ञा चक्र और सहस्त्रार चक्र की उर्जा को बैलेंस किया जाता है। इसके साथ ही शरीर के 24 अलग-अलग पॉइंट्स पर रेकी ऊर्जा का प्रवाह करके आप खुद को ऊर्जावान बना सकते हैं।  रेकी  लेवल 2 में आप अन्य लोगों को भी हीलिंग देकर उनका स्वास्थ्य ठीक करते सकते हैं।यही नहीं, इस लेवल में आपको दूर बैठे व्यक्तियों को कैसे हीलिंग देना है यह भी सिखाया जाता है।  रेकी  लेवल 2 में कुल 21 दिन तक खुद पर नियमित हीलिंग का अभ्यास करना पड़ता है।

रेकी लेवल 2

मास्टर हीलर 

रेकी का तीसरा चरण है मास्टर हीलर यानी वह व्यक्ति जो दूसरों को रेकी सिखा सकता है। आपको बता दें कि रेकी में कई चिन्हों, मैजिक नंबर्स और क्रिस्टल आदि पद्धति से उपचार किया जाता है। रेकी का लेवल  1 और  2 सीखने की फीस भारत में लगभग  2 से 5 हज़ार के बीच है। साथ ही इसे घर बैठे भी सीखा जा सकता है। वहीं मास्टर ट्रेनर और रेकी के अन्य एडवांस कोर्स के लिए आपको 10-15 हज़ार तक इन्वेस्ट करना पड़ेंगे।

 

यह भी पढ़ें

  1. अच्छी सेक्स लाइफ से जॉब में भी लगता है मन, जानें कैसे  

  2. मां कैसे डाल सकती है बढ़ते बच्चे में अच्छे संस्कार, जानें कुछ टिप्स

  3. अच्छे शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य के लिए जानें हीलिंग टच थेरेपी के बारे में

  4. ज़ीरो ऑयल कुकिंग -दिल की बीमारियों से छुटकारा

  5. डार्क चॉकलेट के इस्तेमाल से दूर होंगी बालों की समस्याएं

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

रेकी थेरेपी ...

रेकी थेरेपी के स्वास्थ्य और सेक्स पर प्रभाव...

अच्छे शारीरि...

अच्छे शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य...

इम्युन सिस्ट...

इम्युन सिस्टम को मजबूत करने में कारगर है...

क्या आपका ब्...

क्या आपका ब्लड शुगर कंट्रोल के बाहर है? ऐसे...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

क्या है वॉटर...

क्या है वॉटर वेट?...

आपने कुछ खाया और खाते ही अचानक आपको महसूस होने लगा...

विजडम टीथ या...

विजडम टीथ यानी अकल...

पिछले कुछ दिनों से शिल्पा के मुंह में बहुत दर्द हो...

संपादक की पसंद

नारदजी के कि...

नारदजी के किस श्राप...

कहते हैं कि मां लक्ष्मी की पूजा करने से पैसों की कमी...

पहली बार खुद...

पहली बार खुद अपने...

मेहंदी लगाना एक कला है और इस कला को आजमाने की कोशिश...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription