GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

परिवार के सदस्यों के बीच कैसे सुधारें रिश्ते, काम आएंगी ये बातें

मोनिका अग्रवाल

29th May 2020

वर्तमान समय में परिवार में सामंजस्य बैठा पाना सबसे बड़ी चुनौती है, क्योंकि कहीं पिता-पुत्र में नहीं बनती तो कहीं भाई-भाई की बात नहीं सुनता। सास-बहू के बीच अच्छे रिश्ते की बात की सोची भी नहीं जा सकती। परिवार के सदस्यों के सामंजस्य न बैठ पाने के कई कारण हो सकते हैं जैसे- एक-दूसरे से सोच न मिलना, परिवार की जिम्मेदारियों को लेकर मनमुटाव, जनरेशन गेप आदि।

परिवार के सदस्यों के बीच कैसे सुधारें रिश्ते, काम आएंगी ये बातें

मजबूत परिवार ही संपूर्ण विकास

आजकल एकल परिवारों का चलन भले ही बढ़ा है लेकिन किसी भी परिवार में रिश्ते और बेहतर होते हैं जब सभी परिवारजन साथ में ज्यादा से ज्यादा वक्त गुजारें। इससे न सिर्फ एक-दूसरे के  साथ बॉन्डिंग मजबूत होती है बल्कि इससे सदस्यों में सुरक्षा की भावना भी मन में आती है। कई रिसर्च में यह बात साबित हुई है कि जिस परिवार के सदस्य साथ में ज्यादा वक्त गुजारते हैं, उनमें बच्चों में बेहतर सोशल स्किल्स डेवलप होते हैं और उनका कॉन्फिडेंस और आत्म सम्मान भी उच्च स्तर पर रहता है। परिवार जनों के बीच बेहतर रिश्ते की वजह से बढ़ते बच्चों का व्यवहार भी अच्छा रहता है। साथ ही उनकी एकेडेमिक परफॉरमेंस सुधरती है। अपने बिजी शेड्यूल और भाग दौड़ भरी जिंदगी से वक्त निकालकर आप कैसे आप परिवार में रिश्तों की नींव को और मजबूत कर सकते हैं। आइए जानते हैं।

फैमिली टाइम प्लान करें: चाहे कितने बिजी क्यों न हों। दिन या हफ्ते में कुछ वक्त ऐसा जरूर निकालें जिसे आप केवल अपने परिवार के साथ बिताएं।अगर आपके स्कूल जाने वाले बच्चे हैं तो उनसे पढ़ाई-लिखाई के बारे में जानकारी लें। उनकी हॉबी पर चर्चा, किसी टॉपिक पर उनके साथ डिस्कशन करें। अगर घर में बड़े-बुजुर्ग हैं तो उनके साथ बैठें। उनकी सेवा करें। देश, दुनिया, धर्म, खाने-पीने या अन्य किसी टॉपिक पर चर्चा करें। संडे या छुट्टी वाले दिन कोई ऐसी फन एक्टिविटी प्लान करें जिसमें सभी फैमिली मेंबर्स हिस्सा ले सकें। अगर वीकेंड पर टाइम मिलें तो आसपास का कोई ट्रिप प्लान करें।  

Grehlaxmi.com

साथ खाना खाएं: बिजी शेड्यूल की वजह परिवार के सभी सदस्य साथ खाना नहीं खा पाते लेकिन एक रूल बनाएं। सप्ताह में एक दिन ऐसा निकालें जिसमें सब लोग साथ बैठकर खाना खाएं।इस दौरान कोई फ़ोन या गैजेट न चलाएं और एक-दूसरे के साथ खूब बातचीत करें। स्टडीज में यह खुलासा हुआ है कि जो परिवार साथ में खाना खाता है उसमें पलने-बढ़ने वाले बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास बेहतर होता है। साथ ही इसके सदस्यों के बीच बॉन्डिंग भी मजबूत होती है।

साथ खाना खाएं

घर के साथ काम साथ करें: घर के काम साथ में करने से भी फैमिली बॉन्डिंग बढ़ती हैं। इसके लिए सदस्यों की लिस्ट बना लें और कौन क्या काम करेगा, यह पहले तय कर लें। जैसे कोई साफ-सफाई की जिम्मेदारी ले तो कोई कपड़े धोने की। कुछ सदस्य साथ में कुकिंग की जिम्मेदारी उठा सकते हैं। इससे घर के काम तो जल्दी निपट ही जाएंगे। साथ ही काम साथ करने से सदस्यों के बीच बॉन्डिंग भी बेहतर होगी। 

फैमिली मीटिंग करें: सप्ताह या महीने में कुछ घंटे ऐसे निकालें जिसमें सभी सदस्य मिलकर एक मीटिंग करें। इसमें अगर किसी सदस्य को कोई परेशानी आ रही है तो वो खुलकर कहे। सभी उसका हल निकालें। खर्चों, फ्यूचर प्लानिंग, वेकेशन प्लानिंग या आने वाले कोई बड़े आयोजन की चर्चा कर सकते हैं ताकि उसमें सभी अपनी राय दे सकें।

फैमिली मीटिंग करें

सपोर्ट सिस्टम बनें: अगर परिवार के किसी सदस्य को कोई भी परेशानी आ रही है तो उसकी मदद के लिए हमेशा तत्पर रहें। विपत्ति में परिवार का ही सहारा होता है। ऐसे में आप किसी की मदद करेंगे तो परेशानी में वो भी आपकी मदद करेगा। अगर आप उसकी परेशानी का हल नहीं निकाल सकते तो कम से कम उसे भावनात्मक सपोर्ट जरूर दें इससे परिवार में रिश्ते और गहरे होंगे।

 

सपोर्ट सिस्टम बनें
  1. मां कैसे डाल सकती है बढ़ते बच्चे में अच्छे संस्कार, जानें कुछ टिप्स

  2. अच्छे शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य के लिए जानें हीलिंग टच थेरेपी के बारे में

  3. ज़ीरो ऑयल कुकिंग -दिल की बीमारियों से छुटकारा

  4. डार्क चॉकलेट के इस्तेमाल से दूर होंगी बालों की समस्याएं 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

एक खुशहाल पर...

एक खुशहाल परिवार की क्या होती हैं विशेषताएं?...

लॉकडाउन के द...

लॉकडाउन के दौरान पति-पत्नी अपने रिश्ते को...

खेलें ये मजे...

खेलें ये मजेदार गेम व्हाट्सएप पर ,लॉकडाउन...

Family Healt...

Family Health - पारिवारिक स्वास्थ्य और फिटनेस...

पोल

आपकी पसंदीदा हिरोइन

गृहलक्ष्मी गपशप

पहली बार घर ...

पहली बार घर रहे...

लाॅकडाउन से पहले अक्षय कुमार की फिल्म सूर्यवंशी रीलीज़...

अनलाॅक 2 में...

अनलाॅक 2 में 31...

मिनिस्ट्री आफ होम अफेयर्स ने कहा है कि जो डोमैस्टिक...

संपादक की पसंद

गुरु एक सेतु...

गुरु एक सेतु है,...

गुरु तो एक सेतु है, एक संभावना है। गुरु एक तरह की रिक्तता...

दिल जीत लेंग...

दिल जीत लेंगे जयपुर...

जयपुर को गुलाबी शहर कहा जाता है लेकिन ये महलों का शहर...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription