मेहंदी की ठंडक

Jyoti Sohi

29th May 2020

मेहंदी एक ऐसा कुदरती पौधा है, जिसके पत्तों, फूलों, बीजों एवं छाल में औषधीय गुण समाए हुए हैं। हांलाकि प्राचीन काल से हथेलियों पर मेहंदी लगाने की प्रथा चली आ रही है। मेहंदी जहां हथेली और बालों की सुंदरता को निखारती है, वहीं इसकी पत्तियां स्वास्थ्य के लिये भी अत्यंत लाभदायक साबित होती है। आयुर्वेदिक ग्रथों में इसके रोग-निवारक गुणों का वर्णन आसानी से मिल जाता है।

मेहंदी की ठंडक

आइये जानते हैं मेहंदी के स्वास्थ्य वर्धक फायदे-

पीलिया से राहत

मेंहदी के सूखे पत्तों को एक गिलास पानी में रातभर भिगो कर रख दें। सुबह इस पानी का सेवन करने से आठ से दस दिनों में पीलिया का रोग ठीक होने लगता है। इसके अलावा लगभग ५ ग्राम मेंहदी के पत्ते लेकर रात को मिटटी के बर्तन में भिगो दें और प्रातःकाल इन पत्तियों को मसलकर तथा छानकर रोगी को पिला दें। एक सप्ताह के सेवन से पुराने पीलिया रोग में अत्यंत लाभ होता है।

नाखूनों का खुरदरापन करे दूर

मेहंदी के चूर्ण में जरा सा नींबू का रस मिला कर हाथों एवं पैरों के नाखूनों पर इसका लेप करने से नाखूनों का खुरदरापन समाप्त हो जाता है और उनमें चमक आती है। पैरों में जलन तथा एडियों के फटने पर यह लेप लाभप्रद है।

हाई ब्लड प्रेषर से निजात

मेंहदी की गुणकारी पत्तियों को पीसकर उसका लेप तैयार कर लें और हाई ब्लड प्रेषर की षिकायत होने पर उसे हथेलियों और पैरों के तलवों पर अच्छी तरह से मल लें। कुछ ही देर में ब्लड प्रेषर सामान्य होने लगता है। 

पैरों की उगंलियां गलना

उंगलियां गलने की समस्या को दूर करने के लिए सबसे पहले सरसों के तेल को उंगलियों में लगाएं और उसके उपर मेंहदी पाउडर को हल्के हाथों से छिडकें। इसके अलावा एक चम्मच मेंहदी पाउडर और आधा चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर रोज़ाना दो बार लगाने से भी काफी राहत मिलती है। 

नकसीर

मेंहदी पत्तियों, मुल्तानी मिट्टी, जौ का आटा और धनिया को बराबर पीस कर लेप बना लें। इस लेप को नाक पर लगाकर उपर से मलमल का कपडा भिगोकर रखें। इससे नकसीर के रोगी को विषेश लाभ मिलता है। 

खांसी से राहत

20 ग्राम मेंहदी की पत्तियों का रस, 10 ग्राम हल्दी और 5 ग्राम गुड को एक साथ मिलाकर चाटने से कफ पतला होता है और निकल जाता है। साथ ही खांसी से भी राहत मिलती है। 

घमौरियां

नहाते समय पानी में मेंहदी की पत्तियों को पीसकर पानी में मिला लें और फिर इससे रोज़ानरा स्नान करें। कुछ ही दिनों में घमौरियों से राहत मिल जाती है।     

पैरों में छाले

अगर पैर में छाले हो जाए या चप्पल काट खाए तो नारियल के तेल में मेंहदी की पत्तियों का पाउडर मिलाकर उस स्थान पर लगाएं। छालों में होने वाली जलन से तुरंत आराम मिल जाएगा।

चोट लगने पर

शरीर के किसी हिस्से में चोट लग जाए और दर्द सहा न जाये तो मेंहदी के पत्तों को पीस कर उसमें थोड़ी सी हल्दी मिलाकर उस स्थान पर बांधे। इससे आपको जल्द ही दर्द में राहत मिलेगी।

बालों को अच्छा बनाएं 

बालों में रूसी या अन्य कोई समस्या हो तो हिना का प्रयोग करें। यह बालों का प्राकृतिक कंडीशनर है जिससे बालों में चमक आती है। बालों में हल्का रंग भी इसे लगाने से आता है जो काफी लम्बे समय तक चढ़ा रहता है।

ठंडक पहुंचाएं

आर्युवेद में मेंहदी को उत्तम माना गया है। मेंहदी बहुत ठंडी होती है जिसके कारण इसमें कई गुण समाएं रहते है। हिना की पत्तियां, शरीर से गर्मी को दूर भगाती है। अगर आप पैरों में मेंहदी का लेप लगाएं तो आपको गर्मी या लू नहीं लगेगी। यह काफी प्रभावशाली होती है।

जलन शांत करें

अगर कहीं चोट लगा जाये या जल जाएं तो मेंहदी की पत्तियां पीसकर लेप लगाने से राहत मिलती है। इसमें ठंडक होती है जिसके कारण जलन जल्द शांत हो जाती है। सूजन वाली जगह पर भी इसे पीसकर लगाएं। 

सिर दर्द से राहत दिलाएं

मेंहदी की पत्तियों को पीसकर लगाने से दर्द में तुरंत राहत मिलती है। अगर सिर में दर्द हो रहा हो, तो मेंहदी की पत्तियों को पीसकर लगा लें। इसके अलावा मेंहदी का पत्तियां इतनी फायदेमंद होती हैं कि इनमें माइग्रेन के दर्द को ठीक करने की क्षमता होती है। 

एंटीफंगल तत्व

हिना में एंटीफंगल तत्व पाए जाते हैं जो शरीर में किसी भी प्रकार के होने वाले फंगल इंफेक्शन को बचाता है। दाद की समस्या होने पर हीना को पीस कर उस जगह पर लगाएं इससे दाद कुछ ही दिनों में ठीक हो जाएगा।

घुटनों यां जोडों का दर्द

घुटनों यां जोडों के दर्द से राहत पाने के लिए मेंहदी और अरंडी के पत्तों को बराबर मात्रा में पीसकर और इस मिश्रण को हल्का सा गर्म करके घुटनों पर लेप लगाएं, जो काफी लाभप्रद साबित होता है। 

मुँह के छाले करे दूर

दस ग्राम मेंहदी के पत्तों को 200 मिली पानी में भिगोकर रख दें,थोड़ी देर बाद छानकर इस पानी से गरारे करने से मुँह के छाले शीघ्र शांत हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें -त्वचा निखारने और वज़न कम करने में टमाटर कैसे फायदेमंद

आपको हमारे ब्यूटी टिप्स कैसे लगे? अपनी प्रतिक्रियाएं हमें जरूर भेजें। ब्यूटी-मेकअप से जुड़े टिप्स भी आप हमें ई-मेल कर सकते हैं-editor@grehlakshmi.com                                                            

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

पत्तों में छ...

पत्तों में छुपा स्वास्थ्य

अमृतफल के जै...

अमृतफल के जैसा है अमरूद

पौधे जो वायु...

पौधे जो वायु को रखें शुद्ध

चाहिए स्वस्थ...

चाहिए स्वस्थ और सुंदर तन तो अपनाएं ये घरेलू...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

चित्त की महत...

चित्त की महत्ता...

श्री गुरुदेव की कृपा के बिना कुछ भी संभव नहीं। अध्यात्म...

तुम अपना भाग...

तुम अपना भाग्य फिर...

एक बार ऐसा हुआ कि पोप अमेरिका गए, वहां पर उनकी कई वचनबद्घताएं...

संपादक की पसंद

शांति के क्ष...

शांति के क्षण -...

मानसिक शांति के अत्यन्त सशक्त क्षण केवल दुर्बल खालीपन...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला...

एक महिला बोली : मुनिश्री! मैं बड़ी दु:खी हूं। यों तो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription