अनिद्रा से कैसे पाएं निजात

Jyoti Sohi

30th May 2020

लाॅकडाउन ने मानो जिदंगी के चल रहे पहिए को बीच में कहीं अचानक रोक दिया हो, जिसकी कल्पना शायद हमने कभी सपने में भी नहीं की थी। वुहान से आई महामारी ने एक ऐसा जादू किया कि हर वक्त,,,,, वक्त की कमी की शिकायत करने वाले अब वक्त काटने के लिए कई तरह के उपाय सोचने लगे। अब वक्त न कटने के कारण, जो परेशानी सबसे ज्यादा लोगों को घेर रही है, वो है नींद न आने की समस्या जिसे अंग्रेजी में एनसोमनिया भी कहते है।

अनिद्रा से कैसे पाएं निजात
आइए जानते हैं सबसे पहले इस बीमारी के लक्षण
याददाश्त कमज़ोर होना
अक्सर बहुत बार चीजों को याद करने की कोशिश करने पर भी बातें भूल जाना, और अपनी कही हुई बात ही कुछ ही देर में फिर दोहराना। अक्सर भरपूर नींद न आ पाने के कारण हम ऐसी समस्या का शिकार हो जाते हैं। 
काम में ध्यान न लगा पाना
किसी भी काम में फोकस न कर पाने का एक मात्र कारण है मस्तिष्क की थकान और ये तभी दूर होती है, जब हम रात की पूरी नींद लेते है। किसी भी काम में पूरी तरह से मन नहीं लगने का कारण है, नींद पूरी न होना। ऐसे में रात को आठ घंटे की नींद बेहद ज़रूरी है। 
हर वक्त थकान महसूस करना
दिन भर काम की व्यस्तता के कारण कई बार रात में नींद ढंग से नहीं आ पाती और ये समस्या दिनांे दिन गहराने लगती है। ऐसे में हमारा शरीर हर कार्य करने से पहले थकान का अनुभव करने लगता हैं। जो नींद की कमी का मुख्य लक्षण है। 
चिडचिड़ापन
हर वक्त मायूस और बुझेबुझे रहते हैं, कारण नींद पूरी न हो पाना। किसी से बात करने का मन न करना, हर वक्त नींद महसूस होना पर ढंग से सो न पाना। ऐसे में मन परेशान रहता है और धीरे धीरे चिड़चिड़ापन हमने घेरने लगता है।  
हाल ही में हुए लाॅकडाउन ने लोगों की जीवनशैली को काफी हद तक प्रभावित किया है। ऐसे में नींद न आना एक स्वाभाविक सी बात है। आइए जानते है, नींद न आने के कौन कौन से मुख्य कारण हैं
तनाव
हम दिनभर कुछ न कुछ सोचते रहते हैं, जिसका प्रभाव रात में सोने के वक्त हमारी मस्तिष्क पर सबसे ज्यादा पड़ता है और नतीजन नींद की समस्या बनी रहती है। ऐसे में रात को सोने से पहले कोई भी नकारात्मकता भरा विचार में मन में लाने से बचें और म नही मन दूसरों को कोसने की बजाय अच्छे विचारों के बारे में सोचकर सोने की भरपूर कोशिश करें।
भोजन अधिक करना
खाने की मेज़ पर शाम के वक्त हल्का भोजन रखना चाहिए, जो खाने में भी आसान हो और पचाने में भी। हांलाकि लाॅकडाउन के इस टाईम पीरियड में हमारी समय सारणी पूरी तरह से गड़बड़ा चुकी है और खाने के लिए भी हम तरह तरह के व्यजंन बनानो में मसरूफ रहते हैं। मगर इससे परे अपनी सेहत को ध्यान में रखते हुए सादा और हल्का भोजन सर्वश्रेष्ठ है और इससे नींद आने से परेशानी नहीं होती है।   
रात में चाय काॅफी से परहेज़
जो लोग रात में कैफीन का सेवन करते है, उन लोगों को अक्सर नींद न आने की समस्या रहती ही है। ऐसे में रात में चाय यां काॅफी जैसे पेय पदार्थों के सेवन से बचें और जल्दी सोने का प्रयास करें।
बदली दिनचर्या
ऑफिस जाना और खाना खाकर थककर सो जाना। मगर ये दिनचर्या लाॅकडाउन के दिनों में पूरी तरह से उलट हो गई है। इन दिनों न तो कहीं बाहर जा सकते हैं और न ही काम की बहुत ज्यादा व्यस्तता है। ऐसे में नींद न आने का कारण बदली हुई दिनचर्या भी हो सकता है। इसके लिए हम घर पर व्यायाम आदि आरंभ कर सकते हैं। 
नींद की समस्या को दूर भगाने के आसान उपाय
किताबें पढ़ना
सोने से पहले किताबें पढ़ना अच्छी आदतों में शुमार है। ऐसे में नींद न आने तक मन पसंद किताबें पढ़ सकते हैं और ज्ञान अर्जित कर सकते है।
सकारात्मक विचारों को सोचना
रात में सोते वक्त किसी भी बुरे यां ऐसे विषय पर विचार न करें, जिससे आपका मन परेशान हो जाए। खुद को सकारात्मक रखें और मन को पं्रसन्न करने वालों विचारों का ध्यान करें।
व्यायाम करें
नींद लौटने का सबसे सरल और आसान तरीका है व्यायाम। दिनभर में सुबह और शाम में कुछ वक्त व्यायाम के लिए निकालें। आप योग यां ऐरोबिक्स समेत व्यायाम के किसी भी प्रकार का इस्तेमाल कर सकते हैं।
सोने के समय में बदलाव न लाएं
कई बार समय में आया बदलाव भी नींद नहीं आने देता इसीलिए अच्छी और गहरी नींद लेने के लिए सोने का समय निश्चित कर लें।
मसाज थैरेपी
शरीर को आराम पहुंचाने के लिए नारियल तेल से शरीर की मालिश करें, जो मांसपेशियों को आराम पहुंचाकर नींद की समस्या में सुधार लाने का काम करती है। 
भाप
अच्छी नींद के लिए स्टीम बाथ का भी सहारा ले सकते हैं। इससे आपका शरीर थकान से मुक्त हो जाता है और आप गहरी नींद में सो जाते हैं। 
गर्म दूध का सेवन
रात में सोने से कुछ देर पहले गर्म दूध का सेवन करें। इसमें टरिपटोफैन नाम का अमीनो एसिड होता है, जो नींद को बढ़ावा देने का काम करता है। 
सुबह सैर पर जाएं
शरीर को दुरूस्त रखने के लिए सैर पर जाना बेहद ज़रूरी है। लाॅकडाउन के चलते पर्यावरण में काफी बदलाव नज़र आ रहा है। हवा प्रदूषण मुक्त हो रही है। ऐसे में सुबह सैर करना बेहद फायदेमंद है, जो शरीर का तंदरूस्त रखने के साथ नींद की समस्या का भी दूर करती है।
दिन में सोने से बचें
कई बार हम दिन मंे नींद की झपकी ले लेते है। अक्स औरतें दिनभर के काम से थकान महसूस करती है और कुछ देर सो जाती है। मगर एक झपकी आपकी रात की नींद खराब करने का काम कर सकती है। ऐसे में दिन में सोने से बचें और रात को सुय से सो जाएं।
फलों में छुपे अन्य उचाय
केला
अनिद्रा को दूर करने के लिए केला आपकी मदद कर सकता है। यह कई औषधीय गुणों से भरपूर होता है। एक रिपोर्ट के अनुसार केला मैग्नीशियम से भी समृद्ध होता है जो मांसपेशियों को आराम देने के लिए जाना जाता है और पर्याप्त नींद लेने में आपकी मदद करेगा
कीवी
कीवी एक खास फल हैए जो एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है। कीवी में सेरोटोनिन मौजूद होता हैए जो दिमाग को शांत करने में मदद करता है 
शहद
शहद में ग्लूकोज की मात्रा कम होती है, जो ओरेक्सिन को बंद करने के लिए मस्तिष्क के साथ संचार करता है। शहद नींद से जुड़ी परेशानियों से निजात दिलाने का काम करता है। 
चेरी
चेरी के रस में एंटी.इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। साथ ही इसमें मेलाटोनिन भी पाया जाता है, जो अच्छी नींद लेने में अहम भूमिका निभा सकता है। अध्ययन के अनुसार नींद विकारों से ग्रसित मरीजों में चेरी का रस नींद का समय बढ़ा सकता है।      

यह भी पढ़ें -स्वस्थ रहना है तो पीते रहिए पानी

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें-editor@grehlakshmi.com

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

गर्मी के मौस...

गर्मी के मौसम में बच्चों को इन 7 तरीकों से...

फिट और हेल्द...

फिट और हेल्दी रहना है तो 7 बजे के पहले करें...

रोजाना होने ...

रोजाना होने वाली ये 5 गलतियां इम्यून सिस्टम...

दिनभर रहती ह...

दिनभर रहती है थकान, तो कुछ मिनटों की ये डांस...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

चित्त की महत...

चित्त की महत्ता...

श्री गुरुदेव की कृपा के बिना कुछ भी संभव नहीं। अध्यात्म...

तुम अपना भाग...

तुम अपना भाग्य फिर...

एक बार ऐसा हुआ कि पोप अमेरिका गए, वहां पर उनकी कई वचनबद्घताएं...

संपादक की पसंद

शांति के क्ष...

शांति के क्षण -...

मानसिक शांति के अत्यन्त सशक्त क्षण केवल दुर्बल खालीपन...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला...

एक महिला बोली : मुनिश्री! मैं बड़ी दु:खी हूं। यों तो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription