गर्म पानी दूर करे परेशानी

श्वेता राकेश

15th June 2020

आयुर्वेद में जल को पंच महाभूतों में से एक माना गया है। सुबह उठने से लेकर रात को सोने तक कई शारीरिक क्रियाएं पानी पर निर्भर होती हैं जो हमें कई रोगों से भी बचाती हैं, खासकर तब जब हम गुनगुने या गर्म पानी का सेवन करें।

गर्म पानी दूर करे परेशानी

 

दिन की शुरूआत लोग अमूमन एक कप गर्म चाय या कॉफी से करते हैं क्योंकि आलस्य भगाने के लिए ये पेय पदार्थ कारगर माने जाते हैं साथ ही कुछ गर्म-गर्म पीने की तलब भी पूरी हो जाती है लेकिन खाली पेट चाय-कॉफी नुकसानदायक है, कई बार इससे एसिडिटी की समस्या भी होती है। हममें से कई लोग यह जानते भी हैं लेकिन विकल्प के तौर पर कुछ न होने के कारण इसे पीते हैं ताकि तरोताजा महसूस कर सकें। लेकिन गर्म पानी या गुनगुना पानी एक बेहतर विकल्प हो सकता है-

गर्म पानी से हो दिन की शुरूआत-सुबह-सुबह खाली पेट गर्म पानी पीने से पाचन तंत्र दुरुस्त रहता है, कब्ज की शिकायत दूर होती है और शरीर के विषैले तत्त्व मल-मूत्र के रास्ते शरीर से बाहर निकल जाते हैं, खून साफ होता है, और शरीर में स्फूर्ति भी आती है।

वजन करे नियंत्रित-सुबह खाली पेट गर्म पानी पीने से चर्बी घटती है और वसा अपने आप खत्म होने लगता है, जिससे वजन नियंत्रित रहता है। कुछ लोग वजन घटाने के लिए इसमें शहद और नींबू भी डालते हैं। अगर आपको यह नापसंद है तो प्रतिदिन गर्म पानी पीना ही काफी है। सुबह ही नहीं, भोजन के कुछ घंटे बाद भी अगर आप आधा गिलास गुनगुना या गर्म पानी पीते हैं तो भोजन जल्दी पचता है, पेट हल्का रहता है, कब्ज और गैस की समस्या भी दूर होती है। गर्म पानी में नींबू निचोड़कर पीने से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़़ती है। 

पाचन क्रिया बेहतर बनाए-गर्म पानी से हमारी पाचन क्रिया अच्छी होती है। ठंडा पानी पाचन-तंत्र को धीमा कर देता है। इसकी तुलना में गर्म या गुनगुना पानी पीने से भोजन जल्दी पचता है। चाय, कॉफी और एनर्जी ड्रिंक की बजाय गुनगुना पानी पीना कहीं ज्यादा बेहतर है। यह शरीर में ऊर्जा का संचार करता है।

सर्दी-जुकाम में आराम- खांसी, सर्दी-जुकाम, गले में खराश हो तो गर्म पानी से बेहतर कुछ नहीं। आधी बीमारी तो इसके सेवन से ही ठीक हो जाती है। यह बदलते मौसम की परेशानियों से भी काफी हद तक निजात दिलाता है। खराश हो तो गर्म पानी से गारगल लाभ देता है। छाती में जमे कफ से भी राहत मिलती है।

रक्त संचार बढ़ाए- ठंडे पानी की बजाय यदि आप गुनगुना या हल्का गर्म पानी पीते हैं तो यह आपके ब्लड सर्कुलेशन के लिए भी अच्छा है क्योंकि ठंडा पानी पीने से आंतें सिकुड़ती हैं, रक्त का प्रवाह भी संकुचित होता है और हृदय पर बुरा असर पड़ता है। वहीं नियमित तौर पर गर्म पानी पीने से खून के थक्के नहीं जम पाते और धमनियों तक रक्त के प्रवाह को गति मिलती है। गर्म पानी नसों को फैलाता है, जिससे रक्त वाहिकाएं चौड़ी हो जाती हैं और आंतों का संकुचन भी खत्म होता है। पाचन तंत्र को भी मजबूती मिलती है। गर्म पानी से ब्लडप्रेशर बढ़ने, कोलेस्ट्रॉल जमा होने जैसी समस्याओं से मुक्ति मिलती है और हार्ट अटैक या लकवा आदि बीमारियों की आशंका भी घटती है।

त्वचा को दे प्राकृतिक निखार-कम उम्र में ही त्वचा की चमक खोने और झुर्रियों से परेशान हैं तो गर्म पानी पिएं क्योंकि इसके सेवन से शरीर के विषैले तत्त्व और गंदगी बाहर निकलते हैं, खून साफ होता है जिससे कील-मुहांसों जैसे समस्याओं से छुटकारा मिलता है, त्वचा में कसाव आता है। गर्म पानी से बालों के स्कैल्प में भी रक्त संचार बढ़ता है। गर्म पानी बालों की जड़ों को मजबूत बनाता है, डैंड्रफ से बचाता है। यह बालों की कोशिकाओं के लिए ऊर्जा का बेहतरीन स्रोत है।

माहवारी के दर्द में भी दे राहत-माहवारी यानी पीरियड्स के दौरान यदि सिरदर्द की शिकायत हो तो गर्म पानी पीना लाभदायक है। इतना ही नहीं उन दिनों पेट दर्द और मांसपेशियों की ऐंठन में भी गर्म पानी पीने से आराम मिलता है। इसके अतिरिक्त यह आमतौर पर होने वाले जोड़ों के दर्द और मांसपेशियों की ऐंठन दूर करता है।

बरतें कुछ सावधानी-

ये सभी स्वास्थ्य लाभ आप तभी ले पाएंगे जब पानी बैठकर पिएंगे। खड़े-खड़े पानी पीने से पानी गुर्दे के माध्यम से बिना अच्छी तरहे छने निकल जाता है। इस कारण मूत्राशय रोग, रक्त संबंधी अशुद्धि हो सकती है। खड़े होकर पानी पीने से शरीर में अन्य तरल पदार्थों का संतुलन बिगड़ जाता है। जोड़ों में दर्द और मांसपेशियों में खिंचाव की समस्या होती है।

जितना आवश्यक बैठकर पानी पीना है उतना ही आवश्यक है कि आप इस बात का भी ध्यान रखें कि पानी बोतल या ग्लास के ऊपर से न पिएं, मुंह खोलकर ऊपर से पानी पीने पर आहार नली में वायु प्रवेश कर जाती है। एसिडिटी और खट्टी  डकार की समस्या हो सकती है। इसके अतिरिक्त यदि आपको चक्कर आते हो, सीने में जलन की शिकायत हो या उल्टी हो रही हो, रक्त पित्त रोग हो तो सादा या ठंडा पानी ही पिएं।

गर्म पेय पदार्थ, जैसे- चाय, कॉफी, सूप के बाद, भुट्टा  खाने के बाद, फल खाने के बाद और धूप से आने के तुरंत बाद पानी न पिएं। इससे सर्दी-जुकाम या बुखार हो सकता है।

ज्यादातर बीमारियां दूषित जल और उल्टे-सीधे, उटपटांग खान-पान से होती है। ऐसे में पानी को गर्म करके और छानकर पीना ही उचित है। गर्म पानी पीना नहीं चाहते हों तो इसे ठंडा करके पिएं। पेट की बीमारियां नहीं सताएंगी।  

ध्यान रहे गर्म पानी से हमारा आशय गुनगुना या हल्के गर्म पानी से है न कि उबलते या खौलते पानी से। पानी अत्यधिक गर्म करने पर उसके प्राकृतिक गुण और खनिज लवण नष्टï हो जाते हैं। अत: वह शरीर के लिए नुकसानदायक है। 

- श्वेता राकेश

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

सुबह खाली पे...

सुबह खाली पेट एक गिलास गर्म पानी पीने के...

कई मर्ज की ए...

कई मर्ज की एक दवा है नींबू

पानी में छिप...

पानी में छिपी है स्वस्थ जिंदगानी

जानें गर्म प...

जानें गर्म पानी के 8 हेल्थ बेनिफिट्स

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

रम जाइए 'कच्...

रम जाइए 'कच्छ के...

गुजरात का कच्छ इन दिनों फिर चर्चा में है और यह चर्चा...

घट-कुम्भ से ...

घट-कुम्भ से कलश...

वैसे तो 'कुम्भ पर्व' का समूचा रूपक ज्योतिष शास्त्र...

संपादक की पसंद

मां सरस्वती ...

मां सरस्वती के प्रसिद्ध...

ज्ञान की देवी के रूप में प्राय: हर भारतीय मां सरस्वती...

लोकगीतों में...

लोकगीतों में बसंत...

लोकगीतों में बसंत का अत्यधिक माहात्म्य है। एक तो बसंत...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription