GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

औरतों में पीसीओएस समस्‍याएं- लक्षण और उपचार

मोनिका अग्रवाल

17th June 2020

पीसीओएस के लिए कोई ज्ञात स्थायी इलाज नहीं है। हार्मोनल संतुलन को सही करने और पीसीओएस को ठीक करने के लिए दवाएं दी जाती हैं।

औरतों में पीसीओएस समस्‍याएं- लक्षण और उपचार

वर्तमान समय में, पीसीओएस की समस्‍या युवतियों के लिए कमोबेश महामारी का रूप ले चुकी है। आधुनिक जीवनशैली और आदतें इस समस्‍या के लिए जिम्‍मेदार हैं। पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिजीज या पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम प्रजनन- आयु वर्ग की महिलाओं में होने वाला सबसे सामान्‍य इंडोक्राइन विकार है।


पीसीओएस के कुछ लक्षणों में अग्रलिखित शामिल हैं- अनियमित मासिक धर्म, बांझपन, मुंहासा, सिर या सिर के किनारे के हिस्‍सों के बालों का झड़ना, शरीर पर अवांछित बाल, जो सामान्‍य तौर पर होंठ के ऊपरी हिस्‍से, ठुड्डी, चेहरे के किनारे-किनारे, गर्दन में दिखाई देते हैं। मोटापे के साथ-साथ गर्दन के पिछले हिस्‍से की त्‍वचा का कालापन व फोल्‍ड्स जैसे लक्षण भी इसमें दिखाई देते हैं।


पीसीओएस की पहचान कई ब्‍लड टेस्‍ट्स, गर्भाशय व अंडाशयों की सोनोग्राफी के साथ-साथ कुछ लक्षणों के जरिए होती है। पीसीओएस की गांठों को हटाने के लिए सर्जरी की जरूरत नहीं होती है।
पीसीओएस का वास्‍तविक कारण अज्ञात है। कुछ अध्‍ययनों के मुताबिक, इंसुलिन रेजिस्टेंस के चलते एंड्रोजन (पुरुषों में पाया जाने वाला हॉर्मोन) का स्राव बढ़ जाता है। मरीज के अंडाशयों में हल्‍की-सी जलन होने के चलते एंड्रोजन का स्राव हो सकता है। पीसीओएस में आनुवांशिक कारकों की भी प्रमुख भूमिका होती है। किशोरियों में पीसीओएस के चलते माहवारी में देरी हो सकती है, वजन बढ़ सकता है और शरीर पर अवांछित बाल हो सकते हैं। पीरियड्स शुरू होने के बाद शुरू के 5 वर्षों तक माहवारी में अनियमितता बनी रहती है, ऐसी स्थिति में यह परामर्श है कि किसी स्‍त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श करें, ताकि पीसीओएस के उपचार में कोई देरी न हो।


जल्दी और देर से वयस्कता में पीसीओएस प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है और अक्सर महिलाएं गर्भवती होने में असमर्थ होने पर ही मदद मांगती हैं। उपचार में अंडाशय को अंडे की वृद्धि की निगरानी के साथ अंडाशय को उत्तेजित करने के लिए दवा शामिल है। गंभीर मामलों में आईवीएफ की जरूरत पड़ सकती है। पीसीओएस में अंडों की संख्या में तेजी से कमी होती है। कुछ गंभीर पीसीओएस रोगियों में समय से पहले रजोनिवृत्ति हो सकती है। इंसुलिन प्रतिरोध को कम करने के लिए दवाओं के साथ-साथ पीरियड्स को नियमित करने के लिए ज्यादातर एक हार्मोनल गोली दी जाती है और पुरुष को हार्मोन का स्तर दिया जाता है।


बुजुर्ग आयु समूह में पीसीओएस का मोटापा, मधुमेह और उच्च रक्तचाप पैदा करने में स्थायी प्रभाव पड़ता है। इससे गर्भाशय कैंसर और फाइब्रॉएड होने का खतरा भी बढ़ जाता है।


पीसीओएस के लिए कोई ज्ञात स्थायी इलाज नहीं है। हार्मोनल संतुलन को सही करने और पीसीओएस को ठीक करने के लिए दवाएं दी जाती हैं। व्यायाम की तरह जीवनशैली में बदलाव होता है, जो 30 मिनट के लिए सप्ताह में 3-4 बार कार्डियो वर्कआउट का कुछ रूप है। आहार संशोधनों में लक्षणों के 70 प्रतिशत नियंत्रण में योगदान होता है। कम कार्बोहाइड्रेट, अधिक ताजे फल और सब्जियां, उच्च प्रोटीन और कम वसा वाले आहार की सिफारिश की जाती है। रिफाइंड आटे, शक्कर, जंक फूड और प्रिजर्वेटिव लोडेड भोजन के अत्यधिक सेवन से बचना चाहिए।


पीसीओएस को कम करने के लिए तनाव को दूर करना भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे एंड्रोजन का स्राव घट जाता है।  
पीसीओएस आधुनिक समय की बीमारी है जिसके लिए आंशिक रूप से हम स्‍वयं जिम्‍मेदार होते हैं और तनाव को कम करके, इसे अच्छी तरह से प्रबंधित और नियंत्रित किया जा सकता है।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

महिलाओं में ...

महिलाओं में होने वाली एक हार्मोनल समस्या...

थाइरॉइड समस्...

थाइरॉइड समस्या - क्या सच है और क्या नहीं...

किशोरावस्था ...

किशोरावस्था की मुश्किल घड़ी असंतुलित हार्मोन...

क्या है एंडो...

क्या है एंडोमीट्रियोसिस और क्या है इसका इलाज...

पोल

आपकी पसंदीदा हिरोइन

गृहलक्ष्मी गपशप

पहली बार घर ...

पहली बार घर रहे...

लाॅकडाउन से पहले अक्षय कुमार की फिल्म सूर्यवंशी रीलीज़...

अनलाॅक 2 में...

अनलाॅक 2 में 31...

मिनिस्ट्री आफ होम अफेयर्स ने कहा है कि जो डोमैस्टिक...

संपादक की पसंद

गुरु एक सेतु...

गुरु एक सेतु है,...

गुरु तो एक सेतु है, एक संभावना है। गुरु एक तरह की रिक्तता...

दिल जीत लेंग...

दिल जीत लेंगे जयपुर...

जयपुर को गुलाबी शहर कहा जाता है लेकिन ये महलों का शहर...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription