GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

यही है मेरी दुल्हनिया

ग्रहलक्ष्मी टीम

25th June 2020

यही है मेरी दुल्हनिया

तब मैं छह-सात साल का था। मेरी दादी प्यार से मुझे अपने पास बिठाती, खाना खिलाती। कभी-कभी मुझे कहतीं, 'देख तेरी दुल्हनिया आएगी तो मैं उसे अपने कड़े दे दूंगी, अपनी सोने की माला दे दूंगी।' मैं सुनता और खुश होता, फिर पूछता कि वह जो भी मांगेगी आप दे दोगी। दादी भी कहती हां-हां, वह मांगे तो मैं कुछ भी दे दूंगी। एक बार मेरे घर मेरे स्कूल के दोस्त आए। उनमें एक लड़की भी थी, जो मुझे बहुत अच्छी लगती थी। उसे मैं दादी के पास ले गया और बोला, 'दादी, इसे अपने कड़े, अपनी सोने की चेन दे दो। यही है मेरी दुल्हनिया।' यह सुन वह लड़की बेचारी रोने लगी और घर के बाकी लोग हंसने लगे। आज भी इतने साल बाद मैं यह बात याद करके हंस लेता हूं।

 

टूटा दिल जोड़ना है
बात तब की है, जब मैं छोटी बच्ची थी। बचपन की पढ़ाई के दौरान किसी विषय में परीक्षा में मेरे काफी कम मार्क्स आए थे। मुझे तब इतनी समझ नहीं थी कि नंबर ज्यादा या कम आने से क्या होता है।
मेरी मम्मी मुझे बहुत प्यार करती थी। उन्होंने जब मेेरे नंबर कम देखे तो उन्हें बहुत दु:ख हुआ। इसी वेदना के चलते उनके मुंह से निकला, 'दीपू, तूने तो मेरा दिल ही तोड़ दिया।'
मां की बात ने मेरे दिल पर गहरा असर डाला तो मैंने अपनी गुल्लक तोड़कर उसमें जमा किए सिक्के निकाले। उन पैसों को पापा को देते हुए बोली, 'पापा इन पैसों से आप फेविकोल लेकर आना। मम्मी के टूटे दिल को जोड़ना है।'
तोतली भाषा में कही मेरी बात सुन जहां पापा हंसने लगे, वहीं पास खड़ी मेरी मम्मी भी मंद-मंद मुस्काने लगी और मुझे गोद में भींच लिया।
बचपन अनूठा होता है बिल्कुल भोला और निश्छल।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

पितृविहीना

पितृविहीना

खपती अंकल

खपती अंकल

प्रायश्चित क...

प्रायश्चित का रास्ता

पांच के सिक्के

पांच के सिक्के

पोल

आपकी पसंदीदा हिरोइन

गृहलक्ष्मी गपशप

पहली बार घर ...

पहली बार घर रहे...

लाॅकडाउन से पहले अक्षय कुमार की फिल्म सूर्यवंशी रीलीज़...

अनलाॅक 2 में...

अनलाॅक 2 में 31...

मिनिस्ट्री आफ होम अफेयर्स ने कहा है कि जो डोमैस्टिक...

संपादक की पसंद

गुरु एक सेतु...

गुरु एक सेतु है,...

गुरु तो एक सेतु है, एक संभावना है। गुरु एक तरह की रिक्तता...

दिल जीत लेंग...

दिल जीत लेंगे जयपुर...

जयपुर को गुलाबी शहर कहा जाता है लेकिन ये महलों का शहर...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription