योगा से खुद को बनाएं स्वस्थ व तंदुरूस्त

मोनिका अग्रवाल

6th July 2020

कई महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान पेट,कमर , पैर या पेड़ू में काफी दर्द होता है।इसलिए अधिकांश महिलाएं पीरियड के दौरान एक्सरसाइज करने से बचतीं हैं। लेकिन कुछ योगासन हैं जिन्हें आप इस दौरान भी कर सकती हैं ।आप एनर्जेटिक फील करेंगी। आपको कोई थकान महसूस नहीं होगी । योग हर बीमारी का इलाज है।

योगा से खुद को बनाएं स्वस्थ व तंदुरूस्त

योगा से खुद को बनाएं स्वस्थ व तंदुरूस्त

योगा से आप अपने  को हृष्ट पुष्ट व स्वस्थ बना सकती हैं। यदि आप बहुत अधिक काम करती हैं , इस वजह से आप हमेशा स्ट्रैस व प्रेशर में रहती हैं। तो योगा करना आप के लिए बहुत लाभकारी सिद्ध हो सकता है।  परंतु आज हम आप को जो योगा आसन बताएंगे वह आप कभी भी कर सकती हैं। देखा गया है कि महिलाएं  अपने मासिक धर्म के चलते एक्सरसाइज नहीं कर पाती हैं। लेकिन ये आसन एक दम दर्द रहित होंगे और इन को कर के आप स्वयं को बहुत रिलैक्स महसूस करेंगी। 

 मासिक धर्म के दौरान  उन्हें  मूड स्विंग्स की बहुत दिक्कत होती है। उन्हें हर छोटी छोटी बात से चिढ़ महसूस होती है। आप अपने मूड को स्थिर रखने के लिए भी  निम्नलिखित आसनों को अपना सकती हैं। 

सुप्त बद्ध कोनासन

अधोमुखा विरासन

बद्धा कोनासन

उपाविष्टा कोनासन

अधो मुखा उपाविष्टा कोनासन

जनु सिरसासन

पश्चिमोत्तानासन

सुप्त पदनगुष्ठा

सेतु बंध सर्वांगासन

शवासन

मासिक धर्म के दौरान योगा करने के कुछ टिप्स

  1. जितनी हो सके उतनी अपनी एनर्जी को बचाएं। खुद को ज्यादा न थकाएं। 
  2. यह ध्यान रखें कि जो योगा आप कर रहीं हैं वह रिस्टोरेटिव टाइप की हो जिस से कि आप के हारमोन्स बैलेंस हो जाएं और आप का मूड ठीक रहे। 
  3. स्ट्रैस व अधिक प्रेशर को जितना ज्यादा हो उतना अवाइड करें। यह समय आप को अपनी अंतर आत्मा से मिलने का  है।
  4. उन आसनों को ही करें जिस से अबडोमिन एरिया की पैल्विक खुल सके(श्रोणि उदर क्षेत्र और नलिकाएं)
  5. अपने सिर को उसी जगह पर रखें जहां उस को सहारा मिल सके। 
  6. आसनों का लंबे समय तक अभ्यास करें। 

इस समय आप हाई इंटेंसिटी या ज्यादा थकाने वाले वर्क आउट जैसे आर्म वर्क आउट, इंटेंस ट्विस्टिंग आदि न करें। 

यदि आप इन टिप्स को फालो करती हैं तो आप बड़ी आसानी से अपने मासिक धर्म के समय भी आसन कर सकेंगी। अच्छी बात यह है कि आप योगा से ज्यादा थकेंगी भी नहीं और आप का मूड भी फ्रेश हो जाएगा। आम तौर पर इस समय ज्यादातर महिलाएं गुस्से में व चिड़चिड़े स्वभाव की हो जाती हैं। जो कि स्वाभाविक है। परंतु यदि आप इस समय योग व मेडिटेशन का सहारा लेंगी तो आप खुद को इन समस्याओं से भी मुक्त कर सकेंगी। आप को अपने शरीर के लिए हर रोज़ सुबह 30 से 40 मिनट जरूर निकालने चाहिए जिस से कि यह स्वस्थ रहे और रोगों से मुक्त रह सकें।

 

यह भी पढ़ें-

सही वेट लॉस प्लान क्या है,कुछ जरूरी बातें

सैनिट्री पैड : हर महिला की जरूरत

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

महिलाएं पीरि...

महिलाएं पीरियड्स के समय चिड़चिड़ापन क्यों...

रखती हैं हाइ...

रखती हैं हाइजीन पीरीयडस के दिनों में?

उन दिनों को ...

उन दिनों को कैसे बनाएं सुरक्षित

क्या आप एक प...

क्या आप एक पैरेंट के रूप में भावनात्मक रूप...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

बरसाती संक्र...

बरसाती संक्रमण और...

बारिश में भीगना जहां अच्छा लगता है वहीं इस मौसम में...

खाओ लाल और ह...

खाओ लाल और हो जाओ...

 इसी तरह 'जिनसेंग' जिसके मूल का आकार शिश्न जैसा होता...

संपादक की पसंद

ककड़ी एक गुण ...

ककड़ी एक गुण अनेक...

हममें से ज्यादातर लोग गर्मियों में अक्सर सलाद या सब्जी...

विटामिनों की...

विटामिनों की आवश्यकता...

स्वस्थ शरीर के लिए विटामिन बहुत आवश्यक होता है। इनकी...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription