कमाओ, बचाओ फिर खर्चो...याद रखो

चयनिका निगम

22nd July 2020

मेहनत करके कमाते हैं लेकिन समय पर पड़ने पर पैसों की कमी हो जाती है तो आपको बजी बचत से जुड़ा खास फॉर्मूला अपनाना होगा। ये एक तरीका है, जो आपको भविष्य में मजबूत स्थिति में ला सकता है।

कमाओ, बचाओ फिर खर्चो...याद रखो
'बचत से जुड़ी एक बहुत पुरानी कहावत है। कमाओ, बचाओ और खर्चो। आपको कमाते हुए भविष्य के लिए बचत भी करनी है तो ये ही एक आसान तरीका है। ये एक ऐसी लाइन है, जिसे हमेशा याद रखें तो कभी पछतावा नहीं होगा।' रुचि ने 1 साल पहले कमाना शुरू किया है। पेशे से इंजीनियर रुचि को उनके पिता ने ठीक यही सलाह दी थी। पिता की सलाह का नतीजा ही है कि उन्होंने एक साल में ही बड़ी रकम जमा कर ली है। वो अगले पांच साल में अपना घर भी खरीद लेना चाहती हैं। रुचि कहती हैं कि पापा का बताया फॉर्मूला मेरे काम आ रहा है और आगे भी मेरा सपना इसी से पूरा होगा, मुझे लगता है। सिर्फ रुचि ही नहीं 'कमाओ, बचाओ फिर खर्चो' वाला फॉर्मूला सभी के काम आ सकता है। इस नियम को अपनाना कठिन नहीं है, बस खुद को कुछ बातें समझानी होंगी। ताकि वर्तमान के साथ भविष्य में भी आर्थिक सुरक्षा बनाई रहे। आइए जानें इन्हें-
अगर नहीं माना तो-
अगर ये फॉर्मूला आप अपने जीवन में नहीं अपनाएंगी तो आपको कई सारे नुकसान भी हो सकते हैं। इसको ऐसे समझिए कि अगर आप कमाने से ज्यादा खर्च कर देंगी तो आपके पास सबसे पहले कैश की कमी रहने लगेगी। कमी कभी इतनी ज्यादा भी हो सकती है कि आपको उधार लेना पड़े। अगर आप पहले से कर्ज में हैं तो स्थिति और खराब हो सकती है। जबकि कमाई से कम खर्च करने से एक तो आपके पास कैश की कमी कभी नहीं होगी दूसरे ये कैश आपको कर्जे की स्थिति में आने नहीं देगा। अगर आप कर्जे में आ भी जाती हैं तो यही कैश आपको वापस मजबूत स्थिति में ले आएगा। 
कमाई, बचत और खर्च का मतलब-
कमाई, बचत और खर्च का फॉर्मूला अपनाने से पहले इसका मतलब जान लेना जरूरी हो जाता है। हां-हां आप जरूर इसका मतलब जानती होंगी लेकिन असल मतलब हम बताते हैं, इनको जानकार इन शब्दों के असल मायने आप समझ पाएंगी-
कमाई-आपकी पैसे लाने की क्षमता
खर्च- आपकी वो योग्यता, जो आपको बहुत सोच समझकर खर्च करने के साथ आरामपसंद जिंदगी जीने का मौका देती है 
बचत- कमाई को लगातार बढ़ाते रहने के लिए सही समय पर लिए गए निर्णय
दरअसल हर शख्स में ये तीनों काम बेस्ट तरीके से करने की खासियत नहीं होती है। कोई किसी काम को बेहतरी से कर पाता है तो कोई किसी काम को। मगर बेहतर रिजल्ट तब ही मिलते हैं, जब तीनों काम अच्छे से किए गए हों। 
सबसे कठिन-
इन तीनों कामों में सबसे कठिन काम है, खर्चे को संभालना। इस पूरे फॉर्मूला में खर्चा सही जगह पर करने की कला सीखना ही कठिन कहा जा सकता है। पर इसमें भी कुछ बदलाव करके सुधार किए जा सकते हैं। आप जितना भी ज्यादा कमाते हों लेकिन बचत का सही तरीका नहीं अपनाएंगे तो ज्यादा से ज्यादा कमाई भी बेकार ही होगी। आपका मकसद कमाई और खर्चे में बड़ी दूरी बनाना होना चाहिए। मतलब ये कभी बराबर न हों। पर कैसे आइए जानें-
• सबसे पहले तो किसी भी खर्च को यूंहीं न करें। हर खर्च की वजह दिमाग में जरूर दर्ज करें। 
• खरीदारी के लिए सेल का इंतजार करने में कोई खराबी नहीं है। 
• ब्याज के पैसे देने से बचें। इसके लिए आपको सबसे पहले कर्जों से मुक्त होना पड़ेगा। 
• किफ़ायत की बात सिर्फ बड़ी ख़रीदारी में नहीं बल्कि हर दिन छोटे-छोटे खर्चों में याद रखना भी जरूरी है। 
• यातायात एक ऐसा तरीका है, जिस पर पैसा आसानी से बचाए जा सकते हैं। 
बचत का राज है आपके पास-
बचत करने को सिर्फ कमा कर बचा लेने के एंगल पर मत देखिए बल्कि बचत को भी बढ़ा लेना असल में बचत है। दरअसल बचा कर अपने पास रख लेना तो कोई भी कर लेता है लेकिन इसे बढ़ाने की सोचना ही असली बचत होती है। 
• बचत को निवेश करके मेहनत की कमाई से बनी इस बचत को और बढ़ाया जा सकता है। 
• कम में ख़रीदों ज्यादा में बेचो वाला फंडा बचत करने वालों के बहुत काम आता है। बहुत बड़े-बड़े निवेशक यही काम करते हैं। वो कम में घर, सोना, और शेयर खरीद कर ज्यादा में बेच देते हैं। 
• दूसरों के कहे अनुसार निवेश करना हर बार सही नहीं होता, इसलिए जब भी बचत के नजरिए से निवेश करें तो खुद की जरूरत के हिसाब से ही पैसा लगाएं। 
• आप आर्थिक तौर पर तभी मजबूत होंगे, जब बचत को भी और बढ़ाते रहने की आदत डालेंगे। 
कमाई हो तेज और लगातार-
बचत और खर्च को बनाए रखने के लिए कमाई को लगातार बनाए रखने की कोशिश की जानी चाहिए। इसके लिए सबसे पहले जरूरी होगा कि करियर हमेशा अपनी पसंद का चुना जाए। इसके बाद खुद को इतना पर्फेक्ट कर लें कि फिर वेतन हमेशा बढ़े ही। इसके अलावा अगर कोई हॉबी है तो उसे भी भूलने की बजाय इस हॉबी को पूरा करते हुए उससे भी पैसे बनाए जा सकते हैं। जैसे आप पेंटिंग करती हैं तो छोटे बच्चों को पेंटिंग सिखा कर पैसे बनाइए या फिर पेंटिंग बेच कर। एक चीज और है जो नियमित कमाई तो नहीं लेकिन एक बार में कैश का इंतजाम जरूर कर सकती है। ये है घर के स्टोर रखा, वो सामान जो सही हालात में है लेकिन बिना इस्तेमाल के ऐसे ही पड़ा है, इन सामान को बेच कर पैसे बनाए जा सकते हैं। इसके अलावा याद रखिए कि इस कमाई का सबसे पहला साधन मेहनत है और कुछ नहीं। एक लंबी उम्र तक कमाते रहने और भविष्य के लिए जोड़ते रहने के लिए सिर्फ ये एक काम है जो लगातार करते रहना होगा और कमाई को बढ़ाते रहने की तरकीबें लगाती रहनी होंगी। एक नौकरी और सीमित आय पर संतुष्ट हो जाना सही है लेकिन हमेशा नहीं। 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

आप हैं कंजूस...

आप हैं कंजूस या मितव्ययी?

जब पति हों ख...

जब पति हों खर्चीले

कंजूस बनिए, ...

कंजूस बनिए, भविष्य सुरक्षित कीजिए

मैनेजमेंट के...

मैनेजमेंट के गुण, बनाएं जिंदगी खुश

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

रम जाइए 'कच्...

रम जाइए 'कच्छ के...

गुजरात का कच्छ इन दिनों फिर चर्चा में है और यह चर्चा...

घट-कुम्भ से ...

घट-कुम्भ से कलश...

वैसे तो 'कुम्भ पर्व' का समूचा रूपक ज्योतिष शास्त्र...

संपादक की पसंद

मां सरस्वती ...

मां सरस्वती के प्रसिद्ध...

ज्ञान की देवी के रूप में प्राय: हर भारतीय मां सरस्वती...

लोकगीतों में...

लोकगीतों में बसंत...

लोकगीतों में बसंत का अत्यधिक माहात्म्य है। एक तो बसंत...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription