6 ब्रीदिंग एक्सरसाइज करें रोज़ और बढ़ाएं इम्यूनिटी

Jyoti Sohi

9th January 2021

ब्रीदिंग का महत्व सालों पहले प्राणायाम के रूप में बताया गया है। केवल गहरी सांस लेने और छोड़ने से ही हमें कई तरह के फायदे होते हैं। ध्यान के दौरान डीप ब्रीदिंग का बड़ा महत्व है। डीप ब्रीदिंग के लिए सीधे बैठ जाएं और एक हाथ अपनी छाती पर रखें और दूसरा पेट पर। इसके बाद गहरी सांस लें और फिर धीरे.धीरे छोड़ें।

6 ब्रीदिंग एक्सरसाइज करें रोज़ और बढ़ाएं इम्यूनिटी

जब हम सांस लेते हैं तो इसके साथ हमारे शरीर में पहुंचने वाली ऑक्सीजन खून के माध्यम से शरीर की कोशिकाओं को पोषण देती है। ब्रीदिंग का महत्व सालों पहले भी प्राणायाम के रूप में बताया गया है। केवल गहरी सांस लेने और छोड़ने से ही हमें कई तरह के फायदे होते हैं। ध्यान के दौरान डीप ब्रीदिंग का बड़ा महत्व है। डीप ब्रीदिंग के लिए सीधे बैठ जाएं और एक हाथ अपनी छाती पर रखें और दूसरा पेट पर। इसके बाद गहरी सांस लें और फिर धीरे.धीरे छोड़ें। यदि ब्रीदिंग सही तरीके से की जाए तो इससे कई फायदे मिलेंगे। रिसर्च कहती है अगर हम सांस लेने के तरीकों को सुधार लें तो मोटापे और तनाव जैसी बीमारियों में मदद मिल सकती है। इसी तरह शरीर की परफॉर्मेंस सुधार सकते हैं। कई ऐसी ब्रीदिंग एक्सरसाइज भी हैं जो तनाव और मोटापा घटाकर इम्युनिटी को बढ़ाती है।

पेक्टोरल रोल

सबसे पहले किसी भी कमरे में यां बालकनी में सामने दिखने वाली दीवार की तरफ मुंह करके सीधे खड़े हो जाएं। अब कॉलर बोन के नीचे और छाती के पास एक मसाज बॉल को दीवार से चिपकाकर रख दें। अब आप धीरे धीरे करके दीवार की तरफ झुकते जाइए और दीवार से सटी हुई  बॉल को आहिस्ता से आगे पीछे और दाएं.बाएं रोल करें। इतना ही नहीं कॉलर बोन के नीचे की तरफ भी बाल को कई बार रोल करें। अब हुबहू इसी तरह से दूसरी तरफ भी करें।

इंटरकॉस्टल रोल

अब बिल्कुल सीधे दीवार से सटकर खड़े हो जाएं। अब धीरे धीरे अपना एक हाथ ऊपर की ओर ले जाएं और फिर एक पंजे को दीवार पर रख लें। अब मसाज बॉल को बगल के नीचे और पसलियों के ठीक ऊपर करके बीच में रख लें। अब अपना पूरा वज़न दीवार पर डालते हुए मसाज बॉल को धीरे धीरेआगे. पीछे करें। जो आपको काफी आराम पहुंचाएंगा। इसमें आपको एक.एक इंच बॉल को नीचे खिसकाते हुए मसाज करनी है, ताकि आप रिलैक्स हो सकें। 

अपर बैक रोल

 इसमें आपको दीवार की तरफ पीठ करके खड़े हो जाना है। अब अपनी मसाज बॉल को पीठ पर ऊपर की तरफ अच्छी तरह से टिकाकर रख लेना है। अब दीवार की तरफ दबाव डालते हुए कंधे के चारों तरफ गेंद को अच्छी तरह से घुमाएं। कंधे के ब्लेड की रेखा को आपको महसूस करना है। इसके लिए अपनी सहूलत के हिसाब से आप घुटनों को मोड़ सकते हैं। ऐसा ही बिल्कुल आप दूसरी तरफ भी करें।

 

वाइड लेग्ड.फॉरवर्ड फोल्ड

अब आप अपने पैरों को लगभग 2 से 3 फीट तक फैलाकर अपना बैलेंस बनाकर खड़े हो जाएं। अब अपनी एड़ियों को हल्का हल्का उठाते हुए पंजों पर आएं। अब दोनों हाथों को पीछे ले जाकर मिलाएं और फिर सभी उंगलियों को आपस में कस लें। ऐसा करने के बाद एक लंबी सांस लें और अपना सीना फुलाएं। उसके बाद आप अपनी दोंनों हथेलियां जोड़ लें। अब सांस छोड़ते हुए आगे की तरफ झुकें और हाथों को जितना हो सके सिर की तरफ ले आएं। अब इसी पोजिशन में आप 5 से 10 बार सांस लें।

सुपाइन स्पाइनल ट्विस्ट

इसमें आप अपनी पीठ के बल लेट जाएं। फिर बाएं घुटने को मोड़कर छाती से सटा लें। अब हाथों को फैला लें। सांस छोड़ते हुए घुटने को नीचे कर दाएं हाथ की तरफ ले जाकर जमीन से सटा लें। ध्यान रखें की इस दौरान कंधे जमीन से सटे हुए हों। फिर सिर को बाएं हाथ की तरफ मोड़ लें। थोड़ी देर सांस लें। अब लंबी सांस लेते हुए सामान्य अवस्था में आएं। फिर दूसरी ओर से यही प्रतिक्रिया दोहराएं।

 

 

 

यह भी पढ़ें -सेलिब्रिटी डाइट - फिट फिगर और स्लिम बॉडी रखने के लिए अंकुरित डाइट लेती हैं प्रियंका चोपड़ा

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें-editor@grehlakshmi.com

 

6ब्रीदिंग एक्सरसाइज करें रोज़ और बढ़ाएं इम्यूनिटी
जब हम सांस लेते हैं तो इसके साथ हमारे शरीर में पहुंचने वाली ऑक्सीजन खून के माध्यम से शरीर की कोशिकाओं को पोषण देती है। ब्रीदिंग का महत्व सालों पहले भी प्राणायाम के रूप में बताया गया है। केवल गहरी सांस लेने और छोड़ने से ही हमें कई तरह के फायदे होते हैं। ध्यान के दौरान डीप ब्रीदिंग का बड़ा महत्व है। डीप ब्रीदिंग के लिए सीधे बैठ जाएं और एक हाथ अपनी छाती पर रखें और दूसरा पेट पर। इसके बाद गहरी सांस लें और फिर धीरे.धीरे छोड़ें। यदि ब्रीदिंग सही तरीके से की जाए तो इससे कई फायदे मिलेंगे। रिसर्च कहती है अगर हम सांस लेने के तरीकों को सुधार लें तो मोटापे और तनाव जैसी बीमारियों में मदद मिल सकती है। इसी तरह शरीर की परफॉर्मेंस सुधार सकते हैं। कई ऐसी ब्रीदिंग एक्सरसाइज भी हैं जो तनाव और मोटापा घटाकर इम्युनिटी को बढ़ाती है।
पेक्टोरल रोल
सबसे पहले किसी भी कमरे में यां बालकनी में सामने दिखने वाली दीवार की तरफ मुंह करके सीधे खड़े हो जाएं। अब कॉलर बोन के नीचे और छाती के पास एक मसाज बॉल को दीवार से चिपकाकर रख दें। अब आप धीरे धीरे करके दीवार की तरफ झुकते जाइए और दीवार से सटी हुई  बॉल को आहिस्ता से आगे पीछे और दाएं.बाएं रोल करें। इतना ही नहीं कॉलर बोन के नीचे की तरफ भी बाल को कई बार रोल करें। अब हुबहू इसी तरह से दूसरी तरफ भी करें।
इंटरकॉस्टल रोल
अब बिल्कुल सीधे दीवार से सटकर खड़े हो जाएं। अब धीरे धीरे अपना एक हाथ ऊपर की ओर ले जाएं और फिर एक पंजे को दीवार पर रख लें। अब मसाज बॉल को बगल के नीचे और पसलियों के ठीक ऊपर करके बीच में रख लें। अब अपना पूरा वज़न दीवार पर डालते हुए मसाज बॉल को धीरे धीरेआगे. पीछे करें। जो आपको काफी आराम पहुंचाएंगा। इसमें आपको एक.एक इंच बॉल को नीचे खिसकाते हुए मसाज करनी है, ताकि आप रिलैक्स हो सकें। 
अपर बैक रोल
 इसमें आपको दीवार की तरफ पीठ करके खड़े हो जाना है। अब अपनी मसाज बॉल को पीठ पर ऊपर की तरफ अच्छी तरह से टिकाकर रख लेना है। अब दीवार की तरफ दबाव डालते हुए कंधे के चारों तरफ गेंद को अच्छी तरह से घुमाएं। कंधे के ब्लेड की रेखा को आपको महसूस करना है। इसके लिए अपनी सहूलत के हिसाब से आप घुटनों को मोड़ सकते हैं। ऐसा ही बिल्कुल आप दूसरी तरफ भी करें।
वाइड लेग्ड.फॉरवर्ड फोल्ड
अब आप अपने पैरों को लगभग 2 से 3 फीट तक फैलाकर अपना बैलेंस बनाकर खड़े हो जाएं। अब अपनी एड़ियों को हल्का हल्का उठाते हुए पंजों पर आएं। अब दोनों हाथों को पीछे ले जाकर मिलाएं और फिर सभी उंगलियों को आपस में कस लें। ऐसा करने के बाद एक लंबी सांस लें और अपना सीना फुलाएं। उसके बाद आप अपनी दोंनों हथेलियांे को जोड़ लें। अब सांस छोड़ते हुए आगे की तरफ झुकें और हाथों को जितना हो सके सिर की तरफ ले आएं। अब इसी पोजिशन में आप 5 से 10 बार सांस लें।
सुपाइन स्पाइनल ट्विस्ट
इसमें आप अपनी पीठ के बल लेट जाएं। फिर बाएं घुटने को मोड़कर छाती से सटा लें। अब हाथों को फैला लें। सांस छोड़ते हुए घुटने को नीचे कर दाएं हाथ की तरफ ले जाकर जमीन से सटा लें। ध्यान रखें की इस दौरान कंधे जमीन से सटे हुए हों। फिर सिर को बाएं हाथ की तरफ मोड़ लें। थोड़ी देर सांस लें। अब लंबी सांस लेते हुए सामान्य अवस्था में आएं। फिर दूसरी ओर से यही प्रतिक्रिया दोहराएं।

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

देश के 100 स...

देश के 100 साल पुराने मंदिरों से हो लीजिए...

ऐसे करें मेड...

ऐसे करें मेडिटेशन की शुरुआत

भगवान विष्णु...

भगवान विष्णु के 10 अवतारों की महिमा है अद्भुत...

करें सहस्रना...

करें सहस्रनाम पाठ, करें देवी को याद

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

क्या है वॉटर...

क्या है वॉटर वेट?...

आपने कुछ खाया और खाते ही अचानक आपको महसूस होने लगा...

विजडम टीथ या...

विजडम टीथ यानी अकल...

पिछले कुछ दिनों से शिल्पा के मुंह में बहुत दर्द हो...

संपादक की पसंद

नारदजी के कि...

नारदजी के किस श्राप...

कहते हैं कि मां लक्ष्मी की पूजा करने से पैसों की कमी...

पहली बार खुद...

पहली बार खुद अपने...

मेहंदी लगाना एक कला है और इस कला को आजमाने की कोशिश...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription