घर में घुसते ही सैनिटाईजिंग स्टेशन का होना क्यों है ज़रूरी और इसे कैसे बनाएं

Jyoti Sohi

1st February 2021

घर में घुसते ही खुद को साफ करें और बाहर से आने वाले सामान के अलावा अपना बैग, जूते और ओवर कोटस वहीं पर रख दें। दरअसल, भीड़ से बचना ज़रूरी है और अगर आप बाहर से आएं तो खुद को सेनिटाईज करना बिल्कुल न भूलें। इसमें कोई दोराय नही है कि जितना खुद को ख्याल रखेंगे कोराना वायरस से संक्रमण का खतरा उतना ही कम होगा।

घर में घुसते ही सैनिटाईजिंग स्टेशन का होना क्यों है ज़रूरी और इसे कैसे बनाएं

कोरोना वायरस से बचने का एकमात्र उपाय है. सफाई। खुद को हमेशा साफ रखें। हाथों को बार बार धोएं और कपड़ों को भी बाहर से आने के बाद जरूर बदल लें।  इन सभी स्टैप्स को अपनाने से आपका घर खुद ब खुद साफ रहेगा। सफाई के अलावा जो बात सबसे ज्यादा अहम है, वो ये है कि घर में एक सैनिटाइजिंग स्टेशन को मेंटेन करें। जी हां घर में घुसते ही खुद को साफ करें और बाहर से आने वाले सामान के अलावा अपना बैग, जूते और ओवर कोटस वहीं पर रख दें। दरअसल, भीड़ से बचना ज़रूरी है और अगर आप बाहर से आएं तो खुद को सेनिटाईज करना बिल्कुल न भूलें। इसमें कोई दोराय नही है कि जितना खुद को ख्याल रखेंगे कोराना वायरस से संक्रमण का खतरा उतना ही कम होगा। आइए जानते हैंए कैसे रखें यह सफाई।

मास्क को हैंग करें

घर में प्रवेश करते ही दरवाजे़ के पास कुछ हुक्स लगाएं, जिस पर आप अपने मास्क को हैंग कर सकें, ताकि बाहर से आने वाले कीटाणु घर के अंदर प्रवेश न कर पाएं। मास्क को यहां वहां रखने की बजाय पर उन्हें हुकस पर टांग दें और नियमित तौर पर उन्हें धोेएं। इसके अलावा साफ मास्क के लिए भी एक बास्केट मैंटेन करें, ताकि अगले दिन के लिए आप साफ मास्क पहनें और खुद को सुरक्षित रखें। ध्यान रखें कि अगर आपका मास्क इस्तेमाल करते करते ढ़ीला हो चुका है, तो उसे तुरंत बदलें।

जूतों के लिए रैक

घर में घुसते ही दरवाजे़ के पास एक शूज का रैक भी ज़रूर होना चाहिए। , ताकि बाहर से आने वाली धूल मिट्टी जूते के साथ अंदर जाने की बजाय बाहर की निकाल कर आएं। इससे घर में स्वच्छता बरबरार रहती है। 

स्टेडिंग सैनिटाईजर स्टैण्ड

दरवाजे़ के पास स्टैंडिंग सैनिटाईजर स्टैण्ड ज़रूर रखें, ताकि बिना छूए हुए आप अपने हाथों को सैनिटाईज़ कर पाएं। इसके अलावा सामान को भी सैनिटाईज़ करना न भूले। 

गंदे कपड़ों के लिए टोकरी

बाहर से आने के बाद अपने स्वेटर, जुराबें और टोपी को आप गेट के पास निकालकर ही घर में प्रवेश करें। ताकि बच्चे और बुजुर्ग किसी तरह के संक्रमण से प्रभावित न हो सके।

पानी की बाल्टी और मग

दरवाज़े के पास एक पानी की बाल्टी और मग भी रखे, ताकि आप अपने पैर अच्छी तरह से धोकर ही घर में प्रवेश करें।

सैनिटाईजिंग स्टेशन का होना क्यों है ज़रूरी

कीटाणुओं से राहत 

घर में घुसते ही सेनिटाईजिंग स्टेशन होना बेहद फायदेमंद हैं। इससे बाहर से आने सभी लोग अपने कपड़े और बाकी सामान वहीं रख सकते हैं और खुद को सेनिटाईज़ करके अंदर आ सकते हैं। ताकि बाकी लोगों की कीटाणुओं से रखा हो सके और वो किटाणुओं के संपर्क में आने से बच सकें। 

दिनचर्या का हिस्सा

घर पर पहुंचते ही अगर आप रोज़ाना खुद को सेनिटाईज़ करते हैं, तो ये आपकी दिनचर्या का हिस्सा बन जाता है। एन्टरी गेट के पास सेनिटाईजेशन स्टेशन होने से हर कोई खुद को सेनिटाईज करने के बाद ही अंदर जाता है, जो हमें कई प्रकार की बीमारियों से दूर रखने में फायदा पहुंचचाता हैै।

बच्चों और बुजुर्गों के लिए फायदेमंद

बच्चे हो यां फिर बुजुर्ग आसानी से किसी भी बीमारी की चपेट में आ जाते है। कारण इम्यूनिटी का कम होना। ऐसे में सेनिटाईजेशन को मेंटेन करना बेहद ज़रूरी है, ताकि घर के सभी सदस्य सेहतमंद बने रहें।  

सफाई व्यवस्था

घर में इधर उधर सामान रखने से हर कोना सेनिटाईज करना पड़ता है। लेकिन अगर आप वही सामान एक जगह पर रख देंगे, तो घर में सफाई व्यवस्था काम कायम रहेगी और किसी प्रकार का वायरस फैलने का खतरा भी कम हो जाता है।

यह भी पढ़ें -सर्दियों में उबले अंडे खाने के फायदे

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें-editor@grehlakshmi.com

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

बीमारी में अ...

बीमारी में अपनाएं शिष्टाचार, इस तरह से रखें...

ऐसे रहें सर्...

ऐसे रहें सर्दियों में भी फिट

बहू जब करने ...

बहू जब करने लगी मनमानी

चाहिए स्वस्थ...

चाहिए स्वस्थ और सुंदर तन तो अपनाएं ये घरेलू...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

घर पर वाइट ह...

घर पर वाइट हैड्स...

वाइट हैड्स से छुटकारा पाने के लिए 7 टिप्स

बच्चे पर मात...

बच्चे पर माता-पिता...

आपकी यह कुछ आदतें बच्चों में भी आ सकती हैं

संपादक की पसंद

तोहफा - गृहल...

तोहफा - गृहलक्ष्मी...

'डार्लिंग, शुरुआत तुम करो, पता तो चले कि तुमने मुझसे...

समझौता - गृह...

समझौता - गृहलक्ष्मी...

लेकिन मौत के सिकंजे में उसका एकलौता बेटा आ गया था और...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription