कैसे और किस रंग के होने चाहिए घर के परदे

Jyoti Sohi

23rd April 2021

जब घर की साज सज्जा की बात आती है, तो ज़हन में सबसे पहला ख्याल पर्दो के रंग और उनके डिज़ाईन को लेकर आता है। अक्सर देखा जाता है कि पूरे घर में एक ही तरह के पर्दें लगा दिए जाते हैं। हांलाकि वक्त के साथ साथ अब लोगों का टेस्ट बदल रहा है। ऐसे में अब लोग कमरों के हिसाब से अलग तरह के प्रिंटस और कलर के पर्दे भी लगाने लगे हैं।

कैसे और किस रंग के होने चाहिए घर के परदे

जब घर की साज सज्जा की बात आती है, तो ज़हन में सबसे पहला ख्याल पर्दो के रंग और उनके डिज़ाईन को लेकर आता है। अक्सर देखा जाता है कि पूरे घर में एक ही तरह के पर्दें लगा दिए जाते हैं। हांलाकि वक्त के साथ साथ अब लोगों का टेस्ट बदल रहा है। ऐसे में अब लोग कमरों के हिसाब से अलग तरह के प्रिंटस और कलर के पर्दे भी लगाने लगे हैं। अगर आप भी पर्दों की खरीददारी के बारे में सोच रहे हैं, तो कुछ बातों का विशेषतौर पर ख्याल रखें।  

 

कहां कैसे परदे लगाए

 

लालरंग के पर्दे

वास्तु शास्त्र के अनुसार परदे भी काफी हद तक हमारी कई परेशानियों को हल कर सकते हैं। हमें अपने घरों में दिशा के हिसाब से परदों का रंग बदलना चाहिए। अगर किसी के परिवार में अक्सर लड़ाई झगड़े हो रहे हैं या घर के लोगों का आपस में मनमुटाव चल रहा है तो ऐसे में घर की दक्षिण दिशा में लाल रंग के परदे लगाने से परिवार के लोगों के बीच आपसी प्रेम बढ़ता है और घर में शांति आती है।

 

नीलेरंग के पर्दे

अगर आप आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं। कर्ज लेने की नौबत आ रही है तो घर की उत्तर दिशा में नीले रंग के परदे लगाने चाहिए। इससे कर्ज मुक्ति होती है और पैसा टिकने लगता है। नीला यह रंग हमारे सपने को साकार करता है तथा समृद्धि और सुकून देने वाला माना जाता है। इस रंग के परदे का प्रयोग मुख्य रूप से मेडिटेशन रूम, बेडरूम और ड्राइंग रूम में करना चाहिए। इस रंग के प्रभाव से जातक में शांति और धैर्य का भी विकास होता है।

 

सफेदरंग के पर्द

अक्सर ऐसा देखा गया है कि कठिन परिश्रम करने के बाद भी सकारात्मक फल नहीं मिलता। यदि आप भी ऐसा महसूस कर रहे हैंए तो घर की पश्चिमी दिशा में सफेद रंग के परदे लगाने चाहिए। ऐसा करने से आपको परिश्रम के अनुरूप फल मिलने लगेगा।  

यह रंग शांति प्रदान करने वाला है। यह रंग सर्वगुण सम्पन्न् है। यदि आपका बेडरूम उत्तर पश्चिम या केवल पश्चिम दिशा में है तो आप क्रीम या सफेद रंग के परदे लगा सकते हैं। ड्राइंग रूम में भी आप क्रीम या सफेद रंग के परदे का प्रयोग कर सकते हैं।

 

हरेरंग के पर्द

अगर आप नौकरी की तलाश कर रहे हैं और लाख भटकने के बाद भी सफलता नहीं मिल पा रही है तो घर की पूर्वी दिशा में हरे रंग के परदे लगवाएं। अगर व्यापार में लाभ नहीं मिल पा रहा तो भी प्रतिष्ठान की पूर्वी दिशा में हरे रंग के परदे लगाएं। दरअसल, हरा रंग विकास तथा सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है। वास्तु या ज्योतिष में इस रंग को शुभ माना गया है। यह रंग शरीर के स्नायु तंत्र को मजबूत करके हमारे मन मस्तिष्क को स्फूर्ति प्रदान करता है। यही कारण है कि इसे अच्छे स्वास्थ्य का प्रतीक भी माना जाता है। इसीलिए सभी हॉस्पिटल में हरे रंग के परदे का प्रयोग होता है। यह रंग बीमार व्यक्ति को शीघ्र ही स्वस्थ्य होने की ताकत देता है। घर में परदे के रूप में इस रंग का प्रयोग करने से उस स्थान का वातावरण खुशनुमा हो जाता है। यदि आप इस रंग के परदे का प्रयोग स्टडी रूम में करते हैं तो एकाग्रता बढ़ती है।

 

लालरंग के पर्दे 

वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि पर्दे हमारी कई परेशानियों को हल कर सकते हैं। बताया गया है कि हमें अपने घरों में दिशा के हिसाब से पर्दों का रंग बदलना चाहिए। अगर किसी के परिवार में प्रायः लड़ाईण्झगड़े और कलह हो रही है या घर के लोगों का आपस में मनमुटाव चल रहा है तो ऐसे में घर की दक्षिण दिशा में लाल रंग के पर्दे लगाने से परिवार के लोगों का आपसी प्रेम बढ़ता है और घर में शांति आती है।

 

ब्राउनरंग 

घर के डायनिंग स्पेस के खिड़की दरवाजों पर आपको हल्के या फिर ब्राउन रंग के पर्दे लगाने चाहिए। अग्नेय कोण में ऐसे रंग सबसे शुभ माने जाते हैं। आपको अपने अतिथियों के लिए हल्के बादामी या फिर क्रीम कलर के पर्दे लगाने चाहिए। ऐसा करने से घर में बरकत आती है। घर के मुखिया के कमरे में नीले रंग के या फिर नारंगी रंग और ब्राउन रंग के पर्दे लगाना शुभ माना जाता है। नीला रंग तरक्की को दर्शाता है। नीले रंग के पर्दे घर के मालिक के लिए तरक्की के रास्ते खोलते हैं। खड़ी लाईनों यां पट्टियों वाले पर्दो का इस्तेमाल घर की पूर्व दिशा के लिए करना चाहिए। उत्तर दिशा में इस्तेमाल किए जाने वाले पर्दों में लहरों जैसे पैटर्न का प्रयोग करना चाहिए ।

 

कभीलगाएं इस रंग के पर्द

कभी भी घर में काले रंग के पर्दे नहीं लगाने चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि घर में काले रंग के पर्द लगाने से नकारात्मकता आती है। इससे घर का पूरा माहौल निराशाजनक और तनावपूर्ण बना रहता है। 

 

घर के इंटीरियर डेकोरेशन में दीवारों के रंग और पर्दों की भूमिका अहम् होती है। इस प्रकार के पर्दे इनदिनों लोग खासतौर से इस्तेमाल कर रहे हैं

 

घर की दीवारों और पर्दों के रंग का सही चुनाव करना चाहिए ताकि सकारात्मक ऊर्जा और समृद्धि में वृद्धि हो, अलग

 

रंग के पर्दे घर को न केवल खूबसूरत बनाते हैंए बल्कि घर में पॉजिटिव एनर्जी बनाए रखने में सहायक होते हैं।

 

सुंदरता के लिए आप डबल परदे भी लगा सकते हैं। यानी नेट के झीने सफेद रंग के परदे और उसके साथ जॉर्जेट के परदे। इससे जहां लुक में भी बदलाव आएगाए वहीं कमरा हवादार भी बना रहेगा। 

 

पर्दों के लिए बाजार में खूबसूरत क्लिप्स भी मिलते हैं। दीवारों से मिलतेण्जुलते कलर में या फिर पर्दे से एक शेड हल्का या एक शेड डार्क के क्लिप्स सजाएं। पर्दों पर अलग से कांच की पतली रंगबिरंगी नलियां पिरो कर लगाने से घर खूबसूरत लगेगा।

 

राजस्थानी या गुजराती हैंडवर्क से सजे हाथीए घोड़े, चिड़िया, कांच, गुड़िया, कोड़िया, कठपुतली आदि से भी पर्दे पर साजसज्जा की जा सकती है। 

 

आर्टिफिशियल फूलों की सुंदर और सजीव बेलें भी पर्दे के साथ लटकाई जा सकती है।

 

इसके अलावा ब्लाॅक प्रिंटस वाले पर्दे भी लोगों को इन दिनों खूब पसंद आ रहे हैं।

 

वास्तु सम्बन्धी यह आलेख आपको कैसा लगा ?  अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही  वास्तु से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

ये भी पढ़े

घर में हाथी की प्रतिमा रखने के ये हैं, फायदे

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

दीवार-पर्दो ...

दीवार-पर्दो को करें मैच

वास्तु के 15...

वास्तु के 15 उपाय जो नवविवाहित दम्पति के...

विंटर में हो...

विंटर में होम मेकओवर के ये आइडिया बदलेंगे...

करें सपनों क...

करें सपनों को हकीकत में तब्दील

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

चित्त की महत...

चित्त की महत्ता...

श्री गुरुदेव की कृपा के बिना कुछ भी संभव नहीं। अध्यात्म...

तुम अपना भाग...

तुम अपना भाग्य फिर...

एक बार ऐसा हुआ कि पोप अमेरिका गए, वहां पर उनकी कई वचनबद्घताएं...

संपादक की पसंद

शांति के क्ष...

शांति के क्षण -...

मानसिक शांति के अत्यन्त सशक्त क्षण केवल दुर्बल खालीपन...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला...

एक महिला बोली : मुनिश्री! मैं बड़ी दु:खी हूं। यों तो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription