संतान नहीं है तो अडाॅप्ट किजिए

Poonam Mehta

18th August 2020

आप भी बच्चा गोद लीजिए । खुद के बच्चे की तरह उसे प्यार देखभाल, सुरक्षा, शिक्षा और जीवन भर का सहयोग दें । देखिए कैसे बनती है आपकी जिन्दगी हसीन ।

संतान नहीं है तो अडाॅप्ट किजिए

शादी के कुछ साल बाद भी यदि आपकी जिंदगी मंे कोई किलकारी नहीं गूंजी है, तो निराश न हो, आप बच्चा गोद ले लें । बच्चा गोद ले के आप एक अनाथ बेसहारा बालक को माता-पिता का संरक्षण दे देंगे व अपने घर में भी खुशियाॅ ले आयेंगे । अच्छे संस्कारों व परवरिश से कोई भी बच्चा आपका अपना बन सकता है ।

केन्द्रीय महिला और बाल विकास मंत्रालय ने केन्द्रीय दत्तक ग्रहण तथा संसाधन प्राधिकरण बनाया है । दत्तक ग्रहण की प्रक्रिया के लिए केन्द्रीय दत्तक ग्रहण तथा संसाधन¼C.A.R.A.½ने इण्डियन प्लेसमेन्ट एजेन्सी और फोरेन प्लेसमेन्ट एजेन्सी को अधिकृत किया है ं।

करें शुरूआत-
गोद लेने का निर्णय पति-पत्नी साथ में लें । निर्णय मंे घर के बुजुर्गो को भी शामिल करें । गोद लिया बच्चा लड़का हो या लड़की पहले सोच लेना ही श्रेयस्कर है ।

क्या करें -
अपने शहर किसी मान्यता प्राप्त स्वयंसेवी समन्वय समिति की जानकारी ले । एजेन्सी या शिशु गृह से सम्पर्क करें ।

बच्चा गोद लेने के लिए पात्रता-
कोई भी भारतीय परिवार जो बालक को स्नेह,सुरक्षा तथा परवरिश द सकें दत्तक ग्रहण कर सकता है । वे बच्चे को स्नेहपूर्ण सुरक्षित सुविधा सम्पन्न पारिवारिक संरक्षण प्रदान करने योग्य होने चाहिए ।
हिंदू, सिख,बौद्व,जैन धर्मावलम्बी हिन्दू दत्तक ग्रहण और भरण पोषण अधिनियम, 1956 के अन्तर्गत बच्चा गोद ले सकता है । अन्य धर्म के अनुयायी "अभिभावक एवं संरक्षण अधिनियम" के अन्तर्गत बच्चा गोद ले सकते है ।

बच्चा गोद लेने वाले दंपत्ती की संयुक्त आयु (दोनों की जोड़कर) 90 वर्ष से ज्यादा नहीं होनी चाहिए ।

माता या पिता किसी अकेले के गोद लेने की स्थिति में आयु 45 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए ।

माता पिता और गोद लेने वाले बच्चे की उम्र में कम से कम 21 वर्ष का अन्तर होना चाहए ।

माता-पिता की आय का नियमित और स्थाई स्रोत होना चाहिए ।

माता पिता किसी गम्भीर बीमारी टी बी एड्स हेपेटाईटिस बी एचआई वी आदि से पीड़ित नहीं होने चाहिए है ।

माता पिता के विरूद्व कोई आपराधिक मामला विचाराधीन नहीं होना चाहिए है । 

दिए जाने वाले कागज-
1.    वोटर आई डी, पैन कार्ड, पासपोर्ट या ड्राईविंग लाइसेन्स मं से किसी एक की प्रति ।
2.    रहने का सुबूत-राशन कार्ड बिजली पानी के बिल
3.    शादी का सर्टिफिकेट अथवा फोटो
4.    सक्षम अधिकारी से प्रमाणित चिकित्सा प्रमाण पत्र । माता पिता को एच आई वी टी बी हेपेटाईटिस बी से ग्रसित नहीं होना चाहिए ।
5.    परिवार की अभी नई खिंची पोस्टकार्ड साईज फोटो
6.    दो लोगों के अनुशंसा पत्र जो गोद लेने वालों को जानते हो । यह उनके रिश्तेदार नहीं होने चाहिए ।
7.    पिछले तीन वर्षो के इन्कम टैक्स स्टेटमेन्ट
8.    स्थायी अस्थाई सम्पत्ति व ऋण की स्थिती दर्शाने वाले कागजात् ।
9.    तलाक की या संबंध विच्छेद की डिक्री अगर ऐसी स्थिती रही हो तो ।
10.    परिवार के किसी सदस्य से दिया गया शपथ पत्र की माता पिता की मृत्यू की स्थिती में वह बच्चे का ख्याल रखेंगे ।
11.    माता पिता दो चरित्र प्रमाण पत्र प्रस्तुत करेंगे । इनमें से एक समाज के प्रतिष्ठित व्यक्ति से तथा दूसरा जन प्रतिनिधि तहसीलदार या जिला कलक्टर से प्रमाणित होगा ।
12.    संबंधित राज्य का का मूल निवास प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा । दत्तक ग्रहिता माता पिता के स्वयं के नवीनतम पोस्ट कार्ड साईज फोटो तथा परिवार का फोटोग्राफ प्रस्तुत करना होगा । परिवार में यदि स्वयं के बच्चे है तो उनकी सहमति प्रस्तुत करनी होगी।

प्रक्रिया--
पति-पत्नी को शिशु गृह में जाने के पश्चात् एक फार्म भरना पड़ता है, जिसमें कई जानकारियां देनी पड़ती है । फार्म भर के देने के पश्चात् आपको एक से डेढ़ साल तक इन्तजार करना पड़ सकता है ।

आजकल संस्थाएं अपने शहर में ही बच्चा गोद दे सकती है । कहीं और से चाहने पर उस शहर के समाजकल्याण विभाग द्वारा  प्रार्थना पत्र दूसरे शहर की उस संस्था विशेष को अग्रेषित करवाना पड़ता है ।  दो महीने तक का बच्चा गोद नहीं दिया जा सकता ।

आपको संस्था से काॅल आने पर बच्चा दिखाया जाता  है । आपके हां करने पर अन्य कानूनी फारमेलिटीज पूरी करनी पड़ती है ।

बाल कल्याण समिति द्वारा एडाप्शन के लिए मान्य होते ही आप बच्चा गोद ले सकते हैं ।

फौलो अप- गोद दिए बच्चे जब तक फोस्टर केयर मंे होते है समिति उनके बारे में जानकारी लेती रहती है ।

होमस्टडी- गोद दिए जाने के पश्चात् बच्चा फोस्टर केयर में समिति के अधीन ही रहता है । होम स्टडी रिपोर्ट, गोद देने वाली संस्था के द्वारा बनायी जाती है, जिसमें कार्यकत्र्ता फैक्ट्स जाॅचता है ।
आजकल निकटतम थाने से रिपोर्ट ली जाती है जिससे रिपोर्ट आसान हो गई है । माता पिता के विरूद्व कोई आपराधिक मुकदमा दर्ज नहीं होना चाहिए । गोद लेने के पश्चात् न्यायालय में अभिभाषको व बच्चे को बुलाया जाता है । माता पिता व बच्चे यदि बोल सकता है तो उनके बयान होते है ।
कोर्ट की कार्यवाही के पश्चात् एडाप्शन डीड बनती है और रजिस्ट्री होती है । बच्चा कानूनी तौर पे माता पिता हो जाता है ।

विशेष-
अपने शहर की पास की संस्था में रजिस्ट्रेशन करवाएं ।

एड्रेस भली प्रकार लिखें । एप्लीकेशन पर बाद में चेन्ज नहीं हो सकते ।

रजिस्ट्रेशन होने के पश्चात् रजिस्ट्रेशन नम्बर नोट करें । पासवर्ड भी (यदि आन लाईन करवाया हो तो) गलत या अधूरी जानकारी देने पर आपको रजिस्ट्रेशन निरस्त हो सकता है ।

वेरिफिकेशन क वक्त मूल दस्तावेज प्रस्तुत करने पड़ेगें ।

दूसरी बच्चे को गोद तभी ले सकते है जब पहले वाले की कानूनी प्रक्रिया पूरी हो गयी हो ।

अकेले पुरूष को बालिका गोद नहीं दी जा सकती ।

अधिकार व जिम्मेदारी-

अधिकार-
पंजीकरण की तिथी के दो महिने बाद तक अगर कोई जानकारी न मिलें तो एजेन्सी से इसकी वजह पूछे ।

प्री और पोस्ट कांसलिंग एजेन्सी से जरूर लें ।

बच्चा स्वीकार करने से पहले इसकी मेडीकल रिपोर्ट देखें ।

बच्चा लेने की पूरी जानकारी संस्था से अवश्य लें ।

बच्चे से जुड़े मेडिकल खर्चे के प्रमाण पत्र की प्रति लें, वह केवल बच्चे के नाम पर हो । 

जिम्मेदारी-
हर सूचना लिखित में मांगे ।

बच्चा गोद लेने के सभी रिकाॅर्ड्स व पत्र सम्भाल कर रखें ।

पूरी प्रक्रिया के दौरान एजेन्सी या वहाॅ के कार्यकत्र्ताओं के साथ सहयोग बनाये रखें ।

बच्चा गोद लेते वक्त किसी किस्म का कोई भुगतान नहीं करना होता है । सिर्फ कोर्ट का खर्चा एवं वकील  की फीस देय होती है ।

भ्रांति और तथ्य-

भ्रांतियां-

सिंगल पेरेन्ट्स बच्चा गोद नहीं ले सकते ।

बच्चा गोद लेने वाले बच्चे का मेडिकल चेकअप नहीं करवा सकते ।

अगर संस्था पहले से करवा चुकी है ।

केवल वहीं बच्चा ले सकते है जिनके कोई ओलाद न हो ।

सच्चाई-

सिंगल पेरेन्ट्स को भी कानूनी हक है बच्चा गोद लेने का ।

अपनी तसल्ली के लिए पेरेन्ट्स अगर चाहे तो बच्चे की जाॅच करवा सकते है । चाहे एजेन्सी में पहले चेकअप करवाया हो ।

किसी तरह की कोई रोक नहीं है जिनके अपने बच्चे होते है वे भी बच्चा गोद ले सकते है ।

तो आप भी बच्चा गोद लीजिए ।खुद के बच्चे की तरह उसे प्यार देखभाल, सुरक्षा, शिक्षा और जीवन भर का सहयोग दें । देखिए कैसे बनती है आपकी जिन्दगी हसीन ।

यह भी पढ़ें -नवजात शिशु को संभालने में रखें इन बातों का ख्याल

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

कैसे करें बच...

कैसे करें बच्चे परीक्षा की तैयारी?

बच्चे को बना...

बच्चे को बनाएं चैम्पियन

जब बेटी ससुर...

जब बेटी ससुराल से वापिस आ जाए

गर्मी के मौस...

गर्मी के मौसम में बच्चों को इन 7 तरीकों से...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

क्या है वॉटर...

क्या है वॉटर वेट?...

आपने कुछ खाया और खाते ही अचानक आपको महसूस होने लगा...

विजडम टीथ या...

विजडम टीथ यानी अकल...

पिछले कुछ दिनों से शिल्पा के मुंह में बहुत दर्द हो...

संपादक की पसंद

नारदजी के कि...

नारदजी के किस श्राप...

कहते हैं कि मां लक्ष्मी की पूजा करने से पैसों की कमी...

पहली बार खुद...

पहली बार खुद अपने...

मेहंदी लगाना एक कला है और इस कला को आजमाने की कोशिश...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription