क्यों हो गया सु 'शांत?'

Richa Mishra Tiwari

16th April 2021

सुशांत सिंह की मौत रहस्यमयी जरूर है, मगर उनकी ज़िंदगी उतनी ही फिल्मी। सुशांत सिंह बहुत ही साधारण परिवार में पैदा हुए थे, जिनका कोई भी फिल्मी बैकग्राउंड नहीं था। उनके पिता कृष्ण कुमार सिंह एक सरकारी अधिकारी थे। वो चार बहनों के बीच अकेले भाई थे।

क्यों हो गया  सु 'शांत?'

ये एक प्रश्न है जिसने सबको परेशान किया हुआ है कि आखिर ऐसा क्या हुआ कि उन्होंने अपने ही घर में खुद को फांसी लगा कर आत्महत्या जैसा बड़ा कदम उठा लिया। 14 मई को यह न्यूज़ लोगों तक पहुंची तो लोग अवाक् रह गए क्योंकि वो अभी इरफ़ान खान, ऋषि कपूर जैसे बड़े सितारों के मौत के सदमे से उभरे भी नहीं थे। उनके लिए यकीन कर पाना मुश्किल था कि उनका अपना हीरो इस दुनिया में नहीं रहा।

सुशांत सिंह राजपूत, ऐसे अभिनेता जो संघर्ष से इस मुकाम तक पहुंचे थे। उनका बॉलीवुड में कोई बैकग्राउंड नहीं था। उन्होंने अपना करियर बैक ग्राउंड डांसर से शुरू कियाय था। उन्होंने टीवी और फिल्मों दोनों में अपने काम का लोहा मनवाया। जब इस संघर्ष से पहुंचे इस बड़े सितारे की आत्महत्या की खबर लोगों को पता लगी और उसका कारण डिप्रेशन बताया गया तो उसने बॉलीवुड की चमचमाती दुनिया के पीछे के अंधेरे को लोगों के सामने ला दिया। 

सुशांत सिंह की मौत रहस्यमयी जरूर है, मगर उनकी ज़िंदगी उतनी ही फिल्मी। सुशांत सिंह बहुत ही साधारण परिवार में पैदा हुए थे, जिनका कोई भी फिल्मी बैकग्राउंड नहीं था। उनके पिता कृष्ण कुमार सिंह एक सरकारी अधिकारी थे। वो चार बहनों के बीच अकेले भाई थे, उनकी एक बहन मीतू सिंह राज्य स्तरीय क्रिकेट प्लेयर है। उनका जन्म पटना बिहार में हुआ था। बाद में उनका परिवार सन 2000 में पटना से दिल्ली शिफ्ट हो गया था, इसलिए उनकी स्कूली शिक्षा पटना और दिल्ली दोनों जगह हुई। दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। वो जितने अच्छे अभिनेता थे उतने ही बेहतर विद्यार्थी। अच्छे स्टूडेंट होने के बावजूद उन्होंने अपने पैशन को फॉलो किया जबकि उनका परिवार उनके फिल्मों में काम करने के लिए सहमत नहीं था।

सुशांत सिंह ने अपने कॉलेज की पढ़ाई करने के बाद मुम्बई का रुख किया, उन्होंने श्यामक डावर के डांस ग्रुप को ज्वाइन किया। उन्होंने कॉमन वैल्थ गेम्स में भी अपनी परफॉर्मेंस बैकग्राउंड डांसर के रूप में दी थी। उसके बाद बालाजी टेली फिल्म्स ने उनको टीवी पर पहला ब्रेक दिया। उनका पहला टीवी सीरियल ‘किस देश में है मेरा दिल' था। मगर उनकी असली पहचान मिली ज़ी टीवी के प्रोग्राम पवित्र रिश्ता से। उनका मानव देशमुख का किरदार उनको हर में एक अलग पहचान बनाई। उसके बाद ही उनको बड़े पर्दे पर ‘काय पो छे' (2013) फिल्म में काम करने का मौका दिया गया। इसके बाद उन्होने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। इस बीच उन्होंने ‘ज़रा नच के दिखा सीजन 2' और ‘झलक दिखला जा सीजन 4' जैसे रिएलिटी शो में प्रतिभागी के रूप में पार्टिसिपेट किया। ‘काई पो छे' के बाद उन्होने ‘शुद्ध देसी रोमांस', ‘पीके', ‘एमएस. धोनी', ‘केदारनाथ', ‘छिछोरे' जैसी फिल्मों में काम किया। ‘एमएस. धोनी' में किए गए कार्य को क्रिटिक्स ने भी सराहा। उन्होंने जिस प्रकार से धोनी के स्टाइल को कॉपी किया वो अपने आप बहुत बड़ी बात है। ‘दिल बेचारा' उनकी अखिरी फिल्म थी, जो लॉकडाउन  के कारण रिलीज नहीं हो पायी। इस फिल्म के रिलीज होने के पूर्व ही सुशांत का निधन हो गया।  

ज़ी टीवी के सीरियल की शूटिंग के दौरान उनकी मुलाकात उनकी सह कलाकार अंकिता लोखंडे से हुई। इस बीच उन दोनों के अफेयर की खबरें खूब आई जबकि कई मीडिया रिपोर्ट ने दोनों के लिव इन रिलेशनशिप में रहने के बात कहीं, मगर ये रिश्ता ज्यादा परवान नहीं चढ़ा। दोनों ने अलग होने का फैसला किया, मगर दोनों ने कभी भी इस रिश्ते को कैमरे पर कबूल नहीं किया।

देसी रोमांस', ‘पीके', ‘एमएस धोनी', ‘केदारनाथ', ‘छिछोरे' जैसी फिल्मों में काम किया। ‘एमएस धोनी' में किए गए कार्य को क्रिटिक्स ने भी सराहा। उन्होंने जिस प्रकार से धोनी के स्टाइल को कॉपी किया वो अपने आप बहुत बड़ी बात है। ‘दिल बेचारा' उनकी आखिरी फिल्म थी, जो लॉक डाउन के कारण रिलीज नहीं हो पाई। इस फिल्म के रिलीज होने के पूर्व ही सुशांत का निधन हो गया।

इसके बाद उनका नाम रिया चक्रवर्ती के साथ जुड़ा, उनकी मौत के बाद मुम्बई पुलिस ने उनसे 11 घंटे की पूछताछ की, जिसमें उन दोनों की शादी की बात निकल कर आई, जिसमें कहा गया कि नवंबर में दोनों की शादी होने वाली थी। उनकी मौत कई सवालों को जन्म दे गई है। उनकी मौत के बाद उसकी जांच मुम्बई पुलिस द्वारा की जा रही है। पुलिस उनकी मौत के कारणों को जानने के लिए कई फिल्मी हस्तियों, प्रोडक्शन हाउस से पूछताछ कर रही है। इस जांच से उम्मीद की जा रही है कि सही जानकारी लोगों तक पहुंचे। अगर कोई दोषी पाया जाए तो उसको सजा मिले जिससे कल कोई और सुशांत सिंह राजपूत अपनी जान देने को मजबूर न हो। 

यह भी पढ़ें -लॉकडाउन से परेशान टीवी एक्ट्रेस मिताली नाग यह खाने के लिए हैं बेताब

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

क्यों हो गया...

क्यों हो गया सु'शांत'?

काबिलियत की ...

काबिलियत की "खान" इरफ़ान

एकता तथा सद्...

एकता तथा सद्भावना की संगमस्थली मगहर

इरफ़ान खान...

इरफ़ान खान...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

चित्त की महत...

चित्त की महत्ता...

श्री गुरुदेव की कृपा के बिना कुछ भी संभव नहीं। अध्यात्म...

तुम अपना भाग...

तुम अपना भाग्य फिर...

एक बार ऐसा हुआ कि पोप अमेरिका गए, वहां पर उनकी कई वचनबद्घताएं...

संपादक की पसंद

शांति के क्ष...

शांति के क्षण -...

मानसिक शांति के अत्यन्त सशक्त क्षण केवल दुर्बल खालीपन...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला...

एक महिला बोली : मुनिश्री! मैं बड़ी दु:खी हूं। यों तो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription