मेरा कसूर क्या था?

Rinkal Sharma

29th August 2020

मृत्यु द्वार पे खड़ी द्रौपदी अब अंतिम विदाई लेती है। करुण, व्यथित मन और निश्तेज़ नयन से हस्तिनापुर से पूछती है कि बता आख़िर मेरा कसूर क्या था?

मेरा कसूर क्या था?

नवजीवन के स्वप्न आंखों में

संजोये अर्जुन की नववधू बन

तेरे द्वार पे आई

बांट दिया अज्ञानवश मुझको पांचों पांडवो में और जीवन पर्यन्त

‘पांचाली' मैं कहलाई

तब हे! हस्तिनापुर तू बता कि

माता कुंती की उस भूल में

भला मेरा कसूर क्या था?

सत्तामोह के वशीभूत कौरवों ने

युद्धभूमि में षड्यंत्र रचाया

पांडवों से प्रतिशोध की

खातिर अश्वत्थामा ने

मेरे सपूतों का रक्त बहाया

खो दिए सब लाल अपने

और निपूती मैं ही कहाई

तब हे! हस्तिनापुर तू बता कि

महाभारत के उस युद्ध में

भला मेरा कसूर क्या था?

कोख मेरी उजड़ी, हुई मैं कलंकित

निर्लज्जों ने परिहास बनाया

निरपराध बनीं अपराधी

युद्ध का दोषी भी मुझे ही ठहराया

नियति का ये खेल निराला

मुझको तनिक समझ न आया

स्वामियों संग इस अंतिम यात्रा पर

क्यूं पापिन जान,

धर्मराज ने भी ठुकराया

अब हे! हस्तिनापुर तू बता कि

ईश्वर की रची इस लीला में

भला मेरा कसूर क्या था?

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

श्रीकृष्ण जन...

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी: इस उपवास की महिमा है...

बस, अब और नहीं

बस, अब और नहीं

मुझे कुछ कहन...

मुझे कुछ कहना है...

टू एग्जाम पेपर

टू एग्जाम पेपर

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

समृद्धिदायक ...

समृद्धिदायक लक्ष्मी...

यू तो लक्ष्मी साधना के हजारों स्वरूपों की व्याख्या...

कैसे करें लक...

कैसे करें लक्ष्मी...

चौकी पर लक्ष्मी व गणेश की मूर्तियां इस प्रकार रखें...

संपादक की पसंद

कैसे दें घर ...

कैसे दें घर को फेस्टिव...

कैसे दें घर को फेस्टिव लुक

घर पर भी सबक...

घर पर भी सबकुछ और...

‘जब से शादी हुई है सिर्फ लाइफ मैनेज करने में ही सारी...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription