जानिए क्या है एक्सपायरी, बेस्ट बिफोर और यूज़-बाय डेट में फर्क

Sonal Sharma

7th September 2020

लोगों को इन तीनों में फर्क कम ही समझ आता है। खास बात यह है कि इस चक्कर में लोग खाने-पीने या इस्तेमाल की चीजों को समय से पहले ही फेंक देते हैं।

जानिए क्या है एक्सपायरी, बेस्ट बिफोर और यूज़-बाय डेट में फर्क

Best Before dates

कोई भी सामान खरीदों तो उसकी एक्सपायरी डेट जरूर देखते हैं कि आखिर कब तक उस सामान को यूज़ कर सकते हैं। अब वह किराने का कोई सामान हो सकता है, कोई फूड, दवाईयां या फिर ब्यूटी प्रोडक्ट भी। हालांकि आपने नोटिस किया हो कि किसी पैकेट पर एक्सपायरी डेट लिखा होता है तो किसी पर बेस्ट बिफोर डेट और यूज़-बाय डेट। लोगों को ज्यादातर एक्सपायरी डेट का पता होता है कि सामान को उसी दिन तक यूज कर सकते हैं। यही नहीं लोग फूड्स को निर्देशानुसार सही तापमान में नहीं रखते हैं और ऐसे में चीजों डेट के पहले ही खराब हो जाती है। पैकेट्स पर कई बार बताया जाता है कि किसी विशेष प्रोड्क्ट को किस तरह से स्टोर करना है और क्या तापमान पर रखना सही रहेगा।

बेस्ट बिफोर डेट वास्तव में क्वॉलिटी इंडिकेटर है और इसका मतलब यह नहीं कि उस डेट के बाद उत्पाद सुरक्षित नहीं है। बेस्ट बिफोर डेट की बात करें तो यह खाने की गुणवत्ता यानी उसकी क्वॉलिटी के बारे में है। इसका मतलब है कि इस तारीख के बाद खाने का स्वाद, उसके पोषक तत्व, गंध या बनावट खो सकता है। बेस्ट बिफोर डेट आमतौर पर ड्राइड फ्रूड्स, फ्रोजन फूड्स और टिंड फ्रूड्स के पैकेट पर दिखते हैं। यह तारीख निकल जाने के बाद जरूरी नहीं है कि खाद्य पदार्थ सुरक्षित नहीं है बल्कि यह आपको तय करने है कि क्या इसे अभी भी खाया जा सकता है। यह व्यक्ति को अपने गंध और स्वाद पर विश्वास कर फैसला लेना होगा। अगर इसकी बनावट या स्वाद बदल रहा हो तो इस्तेमाल न करें।

इस तरह बेस्ट बिफोर डेट को एक्सपायरी डेट समझकर तुरंत फेंक न दें। एक्सपायरी डेट के मुताबिक उस आखिरी तारीख तक ही कोई उत्पाद इस्तेमाल करने के लिए सुरक्षित है। वहीं बेस्ट बिफोर डेट के मुताबिक फूड को उस तारीख से अपने सही शेप में नहीं है और यह केवल अपना स्वाद, पोषक तत्व या ताजगी खो सकता है।

वहीं यूज़-बाय डेट्स सेफ्टी से जुड़ा इंडिकेटर है। यूज़-बाय डेट उन फूड्स पर होता है जिनकी तारीख जल्दी खत्म हो जाती है जैसे रेडी-टू-ईट सैलेड, दूध या मीड प्रोडक्ट्स। इसके स्टोरेज को लेकर खास ख्याल रखना होता है जो कि पैकेजिंग के निर्देशानुसार होना चाहिए। इस डेट के बाद उत्पाद का इस्तेमाल न करें, भले ही यह हर तरह से अच्छा दिख रहा हो। फिलहाल देश में सिर्फ ब्रेड, दूध व अन्य डेयरी प्रोडक्ट्स पर ही यूज़ बाय डेट छपी होती है। भारत एशिया के दूसरे सबसे बड़े पैकेज्ड फूड बाजारों में शामिल है।

बेकरी प्रोडक्ट्स पर भी लिखा होता है कि सम्बंधित तारीख तक इसका का स्वाद और ताजगी बरकरार रहेगी, लेकिन इस तारीख के पहले भी इनमें बदलाव आ सकता है। जरूरी नहीं है कि वह प्रोडक्ट उस तारीख को एक्सपायर हो। बेहतर है कि इन चीजों में अंतर समझें ताकि खाद्य पदार्थों को समय से पहले ही न फेंक दें या फिर गलत तरीके से स्टोरेज कर डेट से पहले ही सामान को खराब कर सेहत के साथ खिलवाड़ न करें।

ये 5 चाइनीज़ फूड घर पर जरूर बनाकर देखिए

किचन को ऐसे बनाएं बच्चों के लिए सुरक्षित, इन बातों का रखें ध्यान

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

दवाइयों पर ए...

दवाइयों पर एक्सपायरी डेट क्यों होती है

खाने की वो च...

खाने की वो चीज़ें जो कभी खराब नहीं होती

किचन छोटा है...

किचन छोटा है तो उदास मत होइए, ये टिप्स काम...

लाडली को गृह...

लाडली को गृहकार्य भी सिखाइए

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

क्या आप भी स...

क्या आप भी स्किन...

स्किन केयर डिक्शनरी

सुपर फूड्स फ...

सुपर फूड्स फाॅर...

माइग्रेन का सिरदर्द अक्सर सुस्त दर्द के रूप में शुरू...

संपादक की पसंद

क्या आज जानत...

क्या आज जानते हैं,...

आज हम आपको बताने जा रहे हैं एक नायाब घड़ी के बारे में।...

महिलाएं पीरि...

महिलाएं पीरियड्स...

मासिक धर्म की समस्या

सदस्यता लें

Magazine-Subscription