मिलियन डालर स्माइल

रेणु गुप्ता

17th September 2020

हैपी बर्थडे टू यू मां, मे गॉड ब्लेस यू...' पार्श्व में बजते संगीत के मध्य आभा अपनी अस्सी वर्षीय वयोवृद्धा मां को सहारा देते हुए लंदन के फाइव स्टार होटल में लाल गुलाबों, जलती हुई सुगंधित मोमबत्तियों और मां-पापा के बड़े-बड़े पोस्टरों से सजे डाइनिंग हाल में ले जा रही थीं।

मिलियन डालर स्माइल

 अपने अस्सीवें जन्मदिन पर विदेशी धरती पर इतने खुशनुमा इंतज़ामों को देख मां की आंखों में एक अद्भुत चमक और चेहरे पर असीम खुशी की लहर तिर आईजिसे देख आभा अवर्चनीय खुशी से उमग उठीं। आज मां का इस पकी उम्र में विदेश यात्रा का सपना पूरा हुआ। और यह कमाल हुआ था उसकी अपनी बेटियोंअन्विति और अनुकृति के प्रयासों से।

वह स्वयं तो अपनी दोनों बेटियों के पास लंदन पिछले तीन वर्षों से आती रही है। एक दिन बातों-बातों में मां ने उससे कहा था, 'मैं अब बहुत बूढ़ी हो गईअनुकृतिअन्विति लंदन दस सालों पहले गई होतीं तो मैं भी परदेस घूम लेती। तेरे पापा ने तो इंडिया के इंडिया में ताजमहल तक नहीं दिखायाकहती रह गई मैं।'

और बस तभी से आभा के दिमाग में यह बात रह-रह कर कुलबुला रही थी। क्या अस्सी वर्ष की उम्र में हर $क्त जोड़ों के दर्द से कराहती मां आठ-नौ घंटों की लंबी हवाई यात्रा की परेशानी झेल पाएंगीलेकिन जब उसने मां की इस इच्छा के बारे में एम.एनसीज में उच्च पदों पर कार्यरत अपनी दोनों बेटियों को बताया थाउन्होंने तपाक से कहा था, 'बस इतनी सी बातनानी बिजनेस क्लास में लेटे-लेटे बड़े आराम से इतना लंबा सफर तय कर लेंगी।' और उन दोनों ने मिल कर माह भर में तो उसकी एकोनोमी क्लास और मां की बिजनेस क्लास में टिकट करवा दी थी।

बेटियों को अपनी और मां की टिकटों पर एक बहुत बड़ी रकम खर्च करते देख एकबारगी को तो वह गहन अपराध भावना से भर गई थीकि बेटियों का बहुत पैसा नाहक में ही घूमने-फिरने जैसी गैर जरूरी बातों में खर्च हो जाएगा। अपनी बेटियों से यह कहने पर अन्विति बोली थीं, 'मम्मानानी ने सारी जिंदगी आप बच्चों की अच्छी परवरिश के लिए होम कर दी। नानाजी की सीमित आय में अपनी हर छोटी-बड़ी इच्छाओं का गला घोंट उन्होंने आप पांच भाई बहनों को अच्छी से अच्छी शिक्षा दी। आज आप और हम जिस मुकाम तक पहुंचे हैंउसमें उनका भी महत योगदान है। तो आप यह गिल्ट मत पालो कि हमारा बहुत पैसा नानी पर खर्च हो जाएगा। बल्कि आप तो यह सोचो कि यह विदेश यात्रा उन्हें कितनी बेहिसाब खुशी देगी। अपनी इच्छा पूरी होने पर उनके चेहरे पर जो मिलियन डालर स्माइल आएगीउसकी तुलना में ये रुपये कुछ भी नहीं।

बेटी की ये बातें सुन आभा कि आंखें नम हो आईं थी और भर आए गले से वह बोली थी, 'सदा सुखी रहो मेरी बच्चियोंईश्वर तुम्हें हर खुशी दे।'

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

बिना कपड़ों ...

बिना कपड़ों के ही रखा

कहानी--- खिल...

कहानी--- खिलौना..

घूंघट से बाह...

घूंघट से बाहर निकल रहा है देश का भविष्य

उलझन

उलझन

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

टमाटर से फेस...

टमाटर से फेस पैक...

 अगर आपको भी त्वचा से संबंधी कई तरह की परेशानी है तो...

पतले और हल्क...

पतले और हल्के बालों...

 तो सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए आज हम आपको कुछ ऐसा बता...

संपादक की पसंद

टीवी की आदर्...

टीवी की आदर्श सास,...

हर शादीशुदा महिला के लिए करवा चौथ का त्योहार बेहद ख़ास...

मैं एक बदमाश...

मैं एक बदमाश (नॉटी)...

आप लॉकडाउन कितना एन्जॉय कर रही है... मेरे लिए लॉकडाउन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription