उत्तराखंड की प्रसिद्ध 5 डिशेज़ घर पर जरूर बनाइए

Sonal Sharma

26th September 2020

उत्तराखंड की ये फेमस डिशेज़ घर-घर में लोकप्रिय है और खूब चाव से खाई जाती है।

उत्तराखंड की प्रसिद्ध 5 डिशेज़ घर पर जरूर बनाइए

Uttarakhand Dishes

उत्तराखंड की खूबसूरती का तो हर कोई दीवाना है और हो भी क्यों ना, वहां की कुदरती खूबसूरती सबका मन मोह लेती है। वहीं उत्तराखंड के स्वादिष्ट पकवान खाने का अपना मजा है। वहां के लोग अक्सर पहाड़ी खाना पसंद करते हैं। वे नमकीन खाने के साथ-साथ मीठा खाना भी बहुत पसंद करते है, जो कि खाने में स्वाद के साथ ही पौष्टिक आहार भी है। यहां जानिए उत्तराखंड की कुछ फेमस डिशेज जिसे आप घर पर आसानी से बना सकते हैं। यह डिशेज उत्तराखंड के घर-घर में लोकप्रिय है और अगर आप वहां किसी के घर मेहमान बनकर भी जाएं तो इन डिशेज़ की फरमाइश कर सकते हैं। इन डिशेज़ का खाएं बिना वहां से लौट आने पर आप बहुत कुछ मिस कर देंगे।

भट्ट के डुबके

सामग्री

1 कप भट्ट की दाल 

2 टेबल स्पून चावल

2 टेबल स्पून सरसों का तेल 

4-5 सूखी खड़ी लालमिर्च

1 कप बारीक कटा प्याज 

1 टी स्पून जीरा  

1 टी स्पून अदरक लहसुन का पेस्ट  

½ टी स्पून हल्दी पाउडर 

1 टी स्पून लालमिर्च पाउडर

1 टी स्पून गर्म मसाला 

2-3 हरी मिर्च बारीक कटी   

1 टेबल स्पून कटा हरा धनिया

¼ टी स्पून हींग

नमक स्वादानुसार   

पानी आवश्यकतानुसार

विधि

  • सबसे पहले भट्ट की दाल और चावल को साफ पानी से धोकर 5-6 घंटे पानी में भिगोकर रख दें।
  • अब दाल, चावल को मिक्सर के जार में दरदरा पीस कर पेस्ट तैयार करें।
  • एक कढ़ाई में तेल डालकर गैस को मीडियम आंच पर चालू करें। तेल गर्म हो जाने पर जीरा का तड़का लगाकर  खड़ी लाल मिर्च, अदरक लहसुन का पेस्ट, कटी हरी मिर्च और प्याज डालकर हल्का ब्राउन होने तक भूनें।
  • अब हल्दी पाउडर, लालमिर्च पाउडर, गर्म मसाला और हींग डालें।  
  • दाल का पेस्ट डालकर चम्मच से चलाते हुए 5-7 मिनट के लिए पकाएं। पानी डालकर 40- 45 मिनट गाढ़ा होने तक पकाएं।
  • पक जाने पर एक बोल में निकालकर ऊपर से कटा हरा धनिया गरम गरम सर्व करें। उत्तराखंड के पकवानों में सबसे ज्यादा आनंद के साथ खाई जाने वाली डिशेज में से एक भट्ट के डुबके है।

  

लिंगुड़े की सब्जी

सामग्री

250 ग्राम लिंगुड़े  

1 कप कटे प्याज 

 1 टी स्पून लहसुन का पेस्ट

1 टेबल स्पून सरसों का तेल

½  टी स्पून हल्दी पाउडर

1 टी स्पून धनिया पाउडर 

1 टी स्पून लालमिर्च पाउडर

 ½ टी स्पून अमचुर पाउडर  

नमक स्वादानुसार

पानी आवश्यकतानुसार  

विधि

  • सबसे पहले लिंगुडे की सब्जी के रेशे चाकू से साफ करें। और बारीक काटकर साफ पानी से धोकर एक छलनी पर रखें।
  • अब एक तपेले में पानी डालकर गैस को तेज आंच पर चालू करें और पानी में कटी सब्जी, नमक और थोड़ा-सा पानी डालकर ढ़ककर पकने तक उबालें।
  • कढ़ाई में तेल गर्म होने के लिए रखें। तेल गर्म हो जाने पर सरसो डालकर लहसुन का पेस्ट डालकर भूने। अब कटे प्याज डालकर ब्राउन होने तक भूनें।
  • भून जाने पर उबली लिंगुडे की सब्जी और नमक, लालमिर्च पाउडर, हल्दी पाउडर, धनिया, अमचुर पाउडर डालकर चम्मच से चलाते हुए पकाएं। लीजिए तैयार है पहाड़ी लिंगुडे की सब्जी इसे रोटी या परांठे के साथ खाएं।

आलू के गुटके

सामग्री

4-5 आलू   

 3-4 कटी हरीमिर्च 

1 टेबल स्पून कटा हरा धनिया  

 ½  टी स्पून राई 

½  टी स्पून हल्दी पाउडर

1 टी स्पून लालमिर्च पाउडर

4 टी स्पून सफेद तिल्ली

¼ टी स्पून हींग

नमक स्वादनुसार

सरसों का तेल आवश्यकतानुसार

विधि

  • सबसे पहले कुकर में पानी और आलू डालकर गैस को तेज आंच पर चालू कर 2-3 सीटी ले लें।
  • आलू के छिलके उतारे और चाकू से आलू के थोड़े बड़े-बड़े टुकड़े कर लें।  
  • अब गैस पर कढ़ाई रख कर मीडीयम आंच पर सफेद तिल्ली को भूनें।
  • मिक्सर के जार में भुनी हुई तिल्ली, हरी मिर्च और हरा धनिया डालकर पीस कर पेस्ट बना लें।
  • एक कढ़ाई में तेल डालकर गर्म होने पर राई डालकर भूनें। हींग और कटी हरी मिर्च डालकर भून लें।
  • भून जाने पर उबले कटे आलू डालकर चम्मच से चलाते हुए कुरकरे होने दें। फिर सारे मसाले डालें जिसमें हल्दी पाउडर, लालमिर्च पाउडर और नमक डालकर मिला दें।
  • ऊपर से तैयार तिल्ली का पेस्ट डालकर और मिलाकर पकाएं। गैस को बंद कर दें और इसके बाद आखिरी में ऊपर से नींबू का रस डालकर आलू के गुटके तैयार करें। अब प्लेट में निकालकर ऊपर से तिल्ली डालकर डेकोरेट करें और सर्व करें।

अरसा

सामग्री

250 ग्राम चावल

200 ग्राम गुड़

1 टी स्पून इलायची पाउडर 

2 टेबल स्पून घी  

सरसों का तेल आवश्यकतानुसार

विधि

  • सबसे पहले चावल को 7-8 घंटे के लिए पानी में भिगोकर रखें। फिर वह पानी निकालकर अच्छे पानी से धोकर एक साफ कॉटन के कपड़े में चावल फैलाकर सूखने के लिए रख दें।
  • चावल के सूख जाने पर मिक्सर के जार में पीसकर निकाल लें। एक कढ़ाई में घी डालकर गैस को मध्यम आंच पर चालू कर के गुड़ के टुकडे करके डाले और चम्मच से चलाते हुए कड़क चाशनी बनाएं।
  • चाशनी बन जाने पर चावल जो पीस कर रखें थे, वह थोड़ा-थोड़ा डालें और चम्मच से चलाते जाएं।
  • चावल का आटा इतना डालें कि मिश्रण के लड्डू बन जाएं। ठंडा हो जाने पर लड्डू को चपटा कर के अरसा बनाकर तैयार कर लें।
  • एक कढ़ाई में सरसों का तेल डालकर गैस को मध्यम आंच पर चालू करें। तेल गर्म हो जाने पर तैयार अरसा डालकर गोल्डन होने तक मध्यम आंच पर तलें और गरमा-गरम सर्व करें।

सिंगोड़ी

सामग्री

1 मिली दूध  

1 टी स्पून इलायची पाउडर

5-6 पान के पत्ते  

100 ग्राम शक्कर

 2 टेबल स्पून खोपराबुरा 

1 टेबल स्पून टूटी-फ्रुटी

विधि

  • सबसे पहले एक कढ़ाई में दूध डालकर गैस को तेल आंच पर चलाते हुए उबालें। पान के पत्ते को कोण को आकार में बनाकर एक टूथ पीक लगाकर अच्छे से पेक कर दें।
  • जब दूध उबल कर गाढ़ा होने लगे तो शक्कर डालकर अच्छे से मिलाकर चम्मच से चलाते हुए मावा बनाकर तैयार कर लें।
  • गैस बंद कर दें और इलायची पाउडर डालकर मिलाते हुए ठंडा होने पर एक चम्मच से तैयार कोण मावा दबाकर डालें।
  • ऊपर से खोपराबुरा लगाकर बीच में टूटी-फ्रुटी लगाकर सिंगोड़ी बनाकर तैयार कर लें। तैयार है उतराखंड की बहुत ही फेमस मिठाई जो कि खाने में बहुत ही टेस्टी होती हैं।

गोवा को मिस कर रहे हैं, ये 5 डिशेज़ घर में बनाकर यादें ताजा कर लीजिए

बची हुई इडली से बनाइए 3 तरह के चटपटे स्नैक्स

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

आप भी ट्राय ...

आप भी ट्राय कीजिए केरल की स्वादिष्ट और जायकेदार...

ये 5 चाइनीज़...

ये 5 चाइनीज़ फूड घर पर जरूर बनाकर देखिए

झारखंड में श...

झारखंड में शौक से बनाई जाती है 5 डिशेज़,...

घर पर ट्राय ...

घर पर ट्राय एग बिरयानी की 5 यमी रेसिपी

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

रम जाइए 'कच्...

रम जाइए 'कच्छ के...

गुजरात का कच्छ इन दिनों फिर चर्चा में है और यह चर्चा...

घट-कुम्भ से ...

घट-कुम्भ से कलश...

वैसे तो 'कुम्भ पर्व' का समूचा रूपक ज्योतिष शास्त्र...

संपादक की पसंद

मां सरस्वती ...

मां सरस्वती के प्रसिद्ध...

ज्ञान की देवी के रूप में प्राय: हर भारतीय मां सरस्वती...

लोकगीतों में...

लोकगीतों में बसंत...

लोकगीतों में बसंत का अत्यधिक माहात्म्य है। एक तो बसंत...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription