भारतीय परिवारों की विरासत हमेशा सोने की तरह चमकती है

मोनिका अग्रवाल

8th October 2020

भारत में हर पीढ़ी सोने की कद्र अपने दिल से करती हैं जोकि बिल्कुल सही भी है।

भारतीय परिवारों की विरासत हमेशा सोने की तरह चमकती है

अजंता के भित्तिचित्रों,एलोरा,खजुराहो,कोणार्क,साँची,भरहुत और कलचुरि की मूर्तियों तथा प्राचीन संस्कृत ग्रंथों के अध्ययन से पता चलता है की,प्राचीनकाल से ही स्त्री-पुरुषों के मन में अपने शारीरिक सौंदर्य और आभूषणों के लिए अत्यधिक ललक थी। वाल्मीकि रामायण में वनगमन के दौरान श्री राम तो अपना शिरोभूषण "मौलि-मानी" उतारकर जटा-जूट बाँध लेते हैं । लेकिन, सीता जी अपने गहने नहीं उतारतीं।गंगाजी पार करने के बाद वे एक मुद्रिका तो केवट को दे देती हैं और रावण द्वारा अपहरण किए जाने पर अपने शेष आभूषण किष्किन्धा के समीप गिरा देती हैं। जिन्हें लक्ष्मण देखते ही तुरंत पहचान लेते हैं।

प्रेमचंद  ने अपनी कालजयी कृति "ग़बन" मे कहा था,"गहनों का मरज न जाने इस ग़रीब देश में कैसे फैल गया"। ये तो हुई पुरातन काल और साहित्य की बात। लेकिन आज भी आभूषणों के दीवाने भारत देश में गहनों का आकर्षण कम नहीं हुआ है। हर भारतीय का दिल सोने का होता है। भारत में हर पीढ़ी सोने की कद्र अपने दिल से करती हैं जोकि बिल्कुल सही भी है।

पीढ़ी दर पीढ़ी रिवाज

हमने अपनी माता, बहनों व दादी को हर एक पर्व पर सोने के आभूषणों से अलंकृत होते देखा है। हमने अपनी माता, बहनों व दादी को हर एक पर्व पर सोने के आभूषणों से अलंकृत होते देखा है। यह एक पीढ़ी दर पीढ़ी  का रिवाज है। एक पीढ़ी अपने आभूषण अपनी आने वाली पीढ़ी को दे देती है और यह हर एक लड़की का सपना होता है कि उसे यह गहने कब पहनने को मिलेंगे। जैसे एक सास अपनी बहू को उसकी मुंह दिखाई के तौर पर अपने कड़े या अपना हार दे देती है जो उसे अपनी सास से मिले थे। 

दादी खरीदें पोती बरते

उनके लिए उनकी दादी का दिया हुआ सतलड़ा,और नानी का दिया हुआ जड़ाऊ सेट ,पोल्क़ी के कंगन और बाज़ूबंद या हीरों के कर्णफूल या ब्रोच,न सिर्फ़ उनकी सालगिरह ,या विवाह की वर्षगाँठ वाली पोशाक को निखारने का एक आदर्श तरीक़ा है,बल्कि यह लगातार उनके साझा प्रेम की भी याद दिलाता रहता है। माँ का दिया हुआ एक सोने का ब्रेसलेट ,और सोने की चेन,न केवल उनके लाड़ले के भविष्य के लिए एक निवेश के रूप में कार्य करता है,बल्कि यह सोने से प्राप्त होने वाली ख़ुशी और शांति का लाभ उठाने का एक शानदार तरीक़ा है। सासू माँ का,अपनी स्नातक पोती या दोहात्रि को उपहार में दिया एक सुनहरा जड़ाऊ पेन उन्हें,नई पारी का संचालन करने के लिए आत्मविश्वास दिलाता है।

विरासत की सुंदर निशानी

गहनों के एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में देना हमारी विरासत का एक बहुत सुंदर चिन्ह है। भारत में यह बहुत आम है कि मां अपनी बेटी को उसकी शादी में देने के लिए कुछ आभूषण बचा कर रखती है और जब वह अपने ससुराल जाती है तो उसकी सास भी उसे स्वागत उपहार के रूप में कोई गहना देती है। कई बार सोने के कड़े शादी के रिश्ते जुड़ने का एक संकेत माना जाता है तो कई बार यह माता पिता का उनके बच्चों के प्रति प्यार को दर्शाता है।

एक बड़ा निवेश

शादी में आभूषण खरीदना एक बहुत बड़ा निवेश होता है चाहे बात लड़की वालों की हो या लड़के वालों की इसलिए परिवार वाले शादी के लिए कुछ समय पहले ही गहने खरीद कर रख लेते हैं क्योंकि भविष्य में हो सकता है सोने के भाव बहुत अधिक बढ़ जाएं। यह भारत में लगभग हर घर में ही होता है। जैसे एक बच्चा पैदा होता है, उसकी मां उसके लिए तभी से ही आभूषण खरीदना शुरू कर देती है। यह गहने तब प्रयोग किए जाते हैं जब उनके बच्चों की शादी हो जाती है। शादी में इन गहनों के साथ साथ माता पिता विरासत में मिले गहनों को भी अपने बच्चों को ही दे देते हैं। यह रिवाज आगे भी ऐसे ही चलती है। 

हर शादी का अभिन्न अंग

सोना हर एक शादी का एक अभिन्न अंग बन गया है इसके पीछे का एक कारण यह भी माना जाता है कि जब नए जोड़े की शादी होती है तो उन्हें धन के बारे में ज्यादा चिंता न करनी पड़े। परिवार अपने विरासत के व अपने द्वारा खरीदे गए गहनों को अपने बच्चों को दे देता है ताकि वह उन्हें बेच सकें और अपनी नई जिंदगी शुरू कर सकें। परंतु गहने बेचना हमारे रीति रिवाजों में ज्यादा प्रचलित नहीं है क्योंकि विरासत का होने के कारण उनसे हमारी भावनाएं जुड़ी होती हैं। इसलिए आप नए जोड़ों को पैसों के लिए कई अन्य स्रोतों का प्रयोग करते देखने परंतु वह पैसे कमाने के लिए अपने गहनों को नहीं बेचेंगे। 

यह भी पढ़ें-

एक गाइड- दुल्हन की ज्वैलरी व आभूषणों पर



कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

एक गाइड- दुल...

एक गाइड- दुल्हन की ज्वैलरी व आभूषणों पर

अपने गहनों क...

अपने गहनों का रखें ख्याल, सालों-साल

विदाई के बाद...

विदाई के बाद के रीति रिवाज जब बहू नए घर आती...

इन आसान टिप्...

इन आसान टिप्स से रखें गहनों की चमक हमेशा...

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

टमाटर से फेस...

टमाटर से फेस पैक...

 अगर आपको भी त्वचा से संबंधी कई तरह की परेशानी है तो...

पतले और हल्क...

पतले और हल्के बालों...

 तो सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए आज हम आपको कुछ ऐसा बता...

संपादक की पसंद

टीवी की आदर्...

टीवी की आदर्श सास,...

हर शादीशुदा महिला के लिए करवा चौथ का त्योहार बेहद ख़ास...

मैं एक बदमाश...

मैं एक बदमाश (नॉटी)...

आप लॉकडाउन कितना एन्जॉय कर रही है... मेरे लिए लॉकडाउन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription