नौ कन्याओं का पूजन

गृहलक्ष्मी टीम

18th October 2020

हमारे यहां नारि को देवी का रूप माना जाता है, इसका साक्षरता प्रमाण है नवरात्र का त्योहार। नवरात्र पूजा के आठवें व नौवें दिन नौ कुंवारी कन्याआं का पूजन कर उन्हें भोजन कराने व यथोचित उपहार देने की परंपरा रही है। विस्तार से जानिए लेख में।

नौ कन्याओं का पूजन

शास्त्रों में 2 से 10 वर्ष तक की कन्याओं का पूजन करने का परामर्श दिया गया है। दो वर्ष की कन्या को कुमारी, तीन वर्ष की कन्या को त्रिमूर्ति, चार वर्ष की कन्या को कल्याणी, पांच वर्ष की कन्या को रोहिणी, छह वर्ष की कन्या को कालिका, सात वर्ष की कन्या को शांभवी और आठ वर्ष की कन्या को सुभद्रा कहा गया है। नौ कन्याओं को मां के नौ रूप शैलपुत्री, ब्राहृचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कन्दमाता, कात्थायनी, कालरात्रि, महागौरी व माता सिद्धिदात्री जानकर उनकी पूजा करने से मां दुर्गा की कृपा प्राप्त होती है।

कुमारी कन्या के पूजन से दुख-दरिद्रता का नाश होता है। मां शत्रुओं का क्षय और धन, आयु तथा बल में वृद्धि करती है।

त्रिमूर्ति कन्या का पूजन करने से धर्म, अर्थ, काम की पूर्ति होती है। धन-धान्य का आगमन होता है और पुत्र-पौत्र आदि की वृद्धि होती है।

जो राजा विद्या, विजय, राज्य तथा सुख, की कामना करता हो उसे सभी कामनाएं प्रदान करने वाली कल्याणी कन्या का पूजन करना चाहिए।

शत्रुओं का नाश करने के लिए भक्ति पूर्वक कालिका कन्या का पूजन करना चाहिए।

धन तथा ऐश्वर्य की अभिलाषा रखने वाले को चंडिका कन्या की अर्चना करनी चाहिए।

सम्मोहन, दुख-दारिद्रय के नाश तथा संग्राम में विजय के लिए शांभवी कन्या की पूजा करनी चाहिए।

क्रूर शत्रु के नाश और परलोक का सुख पाने के लिए दुर्गा नामक कन्या की आराधना करनी चाहिए।

मनुष्य अपने मनोरथ की सिद्धि के लिए सुभद्रा की सदा पूजा करें।

रोग नाश के निमित्त रोहिणी की विधिवत पूजा करें।

यह भी कहा गया है कि अपने सामर्थ्य अनुसार पांच या इससे अधिक कन्याओं की पूजा करनी चाहिए और उनके साथ एक बालक यानी एक लड़के को भोजन करवाकर दक्षिणा देने की रीत है, लेकिन उसे चूड़ियां नहीं दी जाती। इस दिन स्वयं निर्जल और निराहार रहकर कंजकों को आमंत्रित करें, उनके पैर धोकर आसन पर बैठाएं, उनके बाएं हाथ पर रोली बांधें, माथे पर रौली का तिलक लगाएं। फिर हलवा, पूरी व चने का प्रसाद तथा फल आदि कंजकों को खिलाएं। अपने सामर्थ्य अनुसार लाल चुनरी, चूड़ियां और दक्षिणा देकर उनके पांव छूएं और उनसे आशीर्वाद के रूप में थपकी लें।

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

जानिए किस आय...

जानिए किस आयु की कन्या के पूजन से मिलता है...

देवी एवं दिन...

देवी एवं दिन अनुसार स्तुति तथा मंत्र जाप...

नवरात्र व्रत...

नवरात्र व्रत की पूजन विधि

नवरात्रि स्प...

नवरात्रि स्पेशल:धन और ऐश्वर्य चाहिए तो करें...

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

टमाटर से फेस...

टमाटर से फेस पैक...

 अगर आपको भी त्वचा से संबंधी कई तरह की परेशानी है तो...

पतले और हल्क...

पतले और हल्के बालों...

 तो सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए आज हम आपको कुछ ऐसा बता...

संपादक की पसंद

टीवी की आदर्...

टीवी की आदर्श सास,...

हर शादीशुदा महिला के लिए करवा चौथ का त्योहार बेहद ख़ास...

मैं एक बदमाश...

मैं एक बदमाश (नॉटी)...

आप लॉकडाउन कितना एन्जॉय कर रही है... मेरे लिए लॉकडाउन...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription