अहोई व्रत में न करें ये गलतियां, संतान को मिलेगा भरपूर आशीर्वाद

चयनिका निगम

3rd November 2020

अहोई व्रत कई महिलाएं करती हैं लेकिन अंजाने में उनसे ऐसी गलतियां हो जाती हैं कि व्रत का पूरा यश बच्चों को नहीं मिल पाता है।

अहोई व्रत में न करें ये गलतियां, संतान को मिलेगा भरपूर आशीर्वाद
अपने बच्चों की लंबी उम्र और सुख समृद्धि के लिए अक्सर ही महिलाएं व्रत और त्योहार करती हैं। अहोई अष्टमी का व्रत भी ऐसा ही पर्व है, जब महिलाएं बच्चों के अच्छे भविष्य की कामना के लिए पूरे दिन व्रत रहती हैं और रात में पूरे दिल से प्रार्थना भी करती हैं। इस दिन गौरी मां की आराधना की जाती है और उनसे अपने बच्चों के लिए मन्नत भी मांगी जाती हैं। दरअसल माना जाता है कि मां पार्वती ही संतान की रक्षा करने वाली होती हैं। इस एक त्योहार पर करवाचौथ की तरह चांद की नहीं बल्कि तारों को अर्घ्य दिया जाता है और फिर व्रत पूरा माना जाता है। लेकिन इस दिन को अच्छे से बिताने और भरपूर आशीर्वाद के लिए कुछ नियमों का पालन भी किया जाना चाहिए। इन नियमों को न मानना मतलब पूरे व्रत का बेकार हो जाना। इसलिए कुछ गलतियों से इस दिन बचना चाहिए, ये गलतियों को पहचान लीजिए-
पहले आराध्य-
अहोई माता की पूजा अर्चना शुरू करने से पहले भगवान गणेश की आराधना जरूरी होती है। वैसे भी किसी भी पूजा से पहले भगवान गणेश की आराधना को जरूरी माना गया है। इसलिए अहोई पूजा से पहले भगवान गणेश को जरूर याद करें। 
व्रत में सोना-
इस दिन व्रत के दौरान कई महिलाएं कमजोरी या दूसरी बातों के चलते दोपहर में सो लेती हैं लेकिन व्रत के दौरान सोने से बचना चाहिए। माना जाता है, इस वक्त सोने से संतान की उम्र कम होती है। इसलिए इस व्रत में दिन के समय सोने से बचें। नींद न आए इसके लिए आप कुछ उपाय कर सकती हैं, जैसे शाम के खाने की तैयारी दोपहर में कर लें। या फिर अपने मनोरंजन के लिए भी कुछ किया जा सकता है। 
कांसे का बर्तन-
अहोई व्रत की पूजा में लोटे के इस्तेमाल को लेकर भी आपको सोचना-समझना होगा। दरअसल इस दिन कांसे के लोटे का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। कांसे को शुभ नहीं माना जाता है। 
करवाचौथ का करवा-
कई महिलाएं अहोई व्रत पूजा में करवाचौथ वाले करवे का ही इस्तेमाल कर लेती हैं, जबकि ये गलत है। साथ ही अहोई के खाने में प्याज-लहसुन का इस्तेमाल भी नहीं किया जाना चाहिए। इस दिन भले ही पकवान बनाएं लेकिन इनको सात्विक तरीके से बनाएं तो भरपूर आशीर्वाद मिलना तय ही माना जाता है। 
रंगों का इस्तेमाल-
करवाचौथ से ठीक चौथे दिन पड़ने वाले इस व्रत में भरपूर आशीर्वाद चाहिए तो आपको अपने कपड़ों के रंग ओर भी ध्यान देना होगा। इस दिन नीले और काले रंग के कपड़े पहनने से बचें। वैसे भी त्योहार पर महिलाएं लाल, हरे, नारंगी और पीले रंगों के कपड़े पहनती हैं। 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

बच्चों की लं...

बच्चों की लंबी आयु के लिए रखा जाता है 'अहोई...

अधिक मास पूर...

अधिक मास पूर्णिमा का व्रत है बेहद खास

मां संतोषी प...

मां संतोषी पूरी करेंगी मनोकामना, शुक्रवार...

पूजा विघ्न: ...

पूजा विघ्न: पूजा में इन रंगों से बनाएं दूरी...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

क्या है वॉटर...

क्या है वॉटर वेट?...

आपने कुछ खाया और खाते ही अचानक आपको महसूस होने लगा...

विजडम टीथ या...

विजडम टीथ यानी अकल...

पिछले कुछ दिनों से शिल्पा के मुंह में बहुत दर्द हो...

संपादक की पसंद

नारदजी के कि...

नारदजी के किस श्राप...

कहते हैं कि मां लक्ष्मी की पूजा करने से पैसों की कमी...

पहली बार खुद...

पहली बार खुद अपने...

मेहंदी लगाना एक कला है और इस कला को आजमाने की कोशिश...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription