साईं बाबा खुद हैं भगवान राम की भक्ति में लीन

चयनिका निगम

12th November 2020

श्रीराम के चरणों पर बैठी हुई साईं बाबा की मूर्ति देखनी हो तो आपको इंदौर आना होगा। ये अनोखा मंदिर 30 साल पहले बनवाया गया था।

साईं बाबा खुद हैं भगवान राम की भक्ति में लीन
आगे लिखी सभी बातें साईं बाबा के भक्तों के लिए ही हैं और जो लोग उनके भक्त नहीं हैं वो भी इस अनोखे मंदिर के बारे में जानकार उनके भक्त जरूर बन जाएंगे। श्रीराम के भक्त भी बराबरी से इस मंदिर के दर्शन करने को तैयार हो जाएंगे। चलिए फिर जानते हैं। पहले तो आपने रावण के मंदिर के बारे में शायद ही सुना हो फिर क्या उस मंदिर के बारे में सुना है, जहां साईं बाबा खुद भगवान राम की भक्ति में लीन हों? अगर नहीं तो आपको इंदौर आकार ये दोनों ही चीजें देखने को मिल जाएंगी। दरअसल इंदौर के एक मंदिर में ऐसा ही है, इस मंदिर को रावण का मंदिर कहा जाता है। खास बात ये है कि इस मंदिर में साईं बाबा की मूर्ति कुछ ऐसा बनी है मानो श्री राम से झुक कर आशीर्वाद ले रहे हों। इस मंदिर में आने वालों की तादाद दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। भक्तों को इस अनोखे मंदिर में आकार सुख-शांति और इच्छापूर्ति का एहसास होता है। इस मंदिर से जुड़ी और भी बातें, आइए जानें-
राम का निराला धाम-
इस मंदिर का नाम भी निराला है। इसका नाम राम का निराला धाम है, जो रावण का मंदिर जैसा ही हटकर फील देता है। ये इंदौर के वैभव नगर में बना है और बायपास के रास्ते पर है। मंदिर को ढूंढना वैसे भी कठिन नहीं है क्योकि भक्तों के बीच इसकी अलग ही पहचान बन चुकी है। 
चरणों में साईं-
इस मंदिर में श्री राम के चरणों में साईं बैठे हैं लेकिन इसके पीछे भी एक कहानी है। साईं बाबा ने खुद ही ऐसा करने की बात कही थी। यहां के पुजारी को उन्होंने सपना दिया था कि जो मैं कहूं उसे पूरा करना। साईं बाबा ने कहा कि मैं राम भक्त हूं और चाहता हूं तुम मुझे उनके चरणों में बैठा दो। फिर जब तक ये काम शुरू नहीं हुआ,पुजारी को ये सपना आता ही रहा। ये सपना करीब 8 दिन तक आता रहा। पुजारी को फिर समझ आ गया कि ये मूर्ति बनवाकर ही सपना आना बंद होगा। फिर कुछ दिन बाद उन्होंने श्रीराम का चरणों पर बैठी साईं बाबा की मूर्ति बनवाई। 
30 साल पहले-
ये मंदिर अभी नया-नवेला बिलकुल भी नहीं है। इसकी स्थापना 1990 में आज से 30 साल पहले की गई थी। इसकी स्थापआ 3 जुलाई, 1990 को की गई थी। खास बात ये है कि ये मंदिर अभी भी बन ही रहा है। 
108 बार श्री राम-
इस मंदिर मे आने वालों को एक नियम जरूर पूरा करना होता है। उन्हें 108 बार श्री राम लिखना होता है। इस नियम से किसी को भी छूट नहीं दी जाती है, फिर वो कोई भी हो। 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

शिरडी हो आए ...

शिरडी हो आए तो अब इन साई मंदिरों को भी देख...

साईं बाबा की...

साईं बाबा की समाधि से जुड़ी विशेष बातें, दशहरे...

साईं बाबा के...

साईं बाबा के जीवन से जुड़ी रहस्यमय बातें

सिर्फ 6 इंच ...

सिर्फ 6 इंच लंबी हनुमान मूर्ति के दर्शन,...

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

समृद्धिदायक ...

समृद्धिदायक लक्ष्मी...

यू तो लक्ष्मी साधना के हजारों स्वरूपों की व्याख्या...

कैसे करें लक...

कैसे करें लक्ष्मी...

चौकी पर लक्ष्मी व गणेश की मूर्तियां इस प्रकार रखें...

संपादक की पसंद

कैसे दें घर ...

कैसे दें घर को फेस्टिव...

कैसे दें घर को फेस्टिव लुक

घर पर भी सबक...

घर पर भी सबकुछ और...

‘जब से शादी हुई है सिर्फ लाइफ मैनेज करने में ही सारी...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription