शरारती बंदर : हितोपदेश की कहानियां

गृहलक्ष्मी टीम

28th November 2020

एक बार किसी मंदिर में निर्माण कार्य हो रहा था। पास ही दो बढ़ई काम कर रहे थे। वे आरी से लकड़ी का बड़ा लट्ठा चीरने की कोशिश कर रहे थे।

शरारती बंदर : हितोपदेश की कहानियां

दोपहर को खाने का समय हआ, तो वे अधुरा काम छोड़ कर खाना खाने के लिए उठ गए, पर उन्होंने जाने से पहले लट्ठे के चीरे में एक लंबी कील फँसा दी ताकि वापस आकर उसे चीरने में मुश्किल न हो।

 

मंदिर के बरामदे के साथ वाली दीवार पर बंदरों का एक दल रहता था। ज्यों ही बढ़ई वहाँ से हटे, वहाँ कुछ बंदर आ पहुँचे और लट्ठों पर उछल-उछल कर खेलने लगे।

 

उनमें से एक बंदर काफी नटखट और धृष्ट था। उसका ध्यान लठे से निकली लंबी कील पर पड़ा। वह एक भी क्षण सोचे बिना लकड़ी के लठे पर बैठ गया और कील निकालने लगा। उसने पूरा जोर लगा कर कील तो खींच ली, पर उसकी पूँछ लट्ठे के दोनों हिस्सों में फंस गई। वह दर्द से चिल्लाया और अपनी पूँछ निकालने की भरपूर कोशिश करने लगा पर जितना ज्यादा निकालने की कोशिश करता, उतना ही तेज दर्द होता।

 

उसके दोस्तों ने भी मदद करने की पूरी कोशिश की पर कोई फायदा नहीं हुआ।

 

कुछ देर बाद बढ़ई खाना खा कर लौटे, तो बेचारे बंदर को चीखते-चिल्लाते सुना। उसकी हालत खराब हो गई थी। पूँछ से काफी खून निकल रहा था।

 

उन्होंने झट से पूँछ निकाल कर, शरारती बंदर की जान बचाई। बंदर की पूँछ पर चोट तो आई थी, पर उसे सबक मिल गया था कि बिना मतलब, दूसरों के काम में टाँग नहीं अड़ानी चाहिए।

 

शिक्षाः- बिना किसी उद्देश्य के कोई काम मत करो।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

सारस और चतुर...

सारस और चतुर केंकड़ा: पंचतंत्र की कहानी

कैसे रहें दू...

कैसे रहें दूर नकारात्मक विचारों से

एक और पहलू

एक और पहलू

बंदर और घंटा...

बंदर और घंटा : हितोपदेश की कहानियां

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

6 बेहतरीन बॉ...

6 बेहतरीन बॉडी केयर...

6 बेहतरीन बॉडी केयर टिप्स

24 घंटे में ...

24 घंटे में समझें...

अवध की तहजीब का शहर है लखनऊ। इस शहर में मॉडर्न दुनिया...

संपादक की पसंद

क्या आप सौंद...

क्या आप सौंदर्य...

सौंदर्य प्रतियोगिता अपने आप को सर्वश्रेष्ठ साबित करने...

महिलाओं और प...

महिलाओं और पुरुषों...

महिलाओं और पुरुषों में सेक्स और वर्जिनिटी की धारणा...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription