सारे शरीर में दर्द के क्या है कारण कहीं यह है रूमेटाइड गठिया तो नहीं , जानिए विस्तार से

मोनिका अग्रवाल

26th November 2020

रुमेटीइड गठिया (आरए) एक पुरानी स्थिति है जो आपके जोड़ों में दर्द, सूजन और कठोरता पैदा कर सकती है। एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को देखना और उपचार योजना विकसित करना आरए को प्रबंधित करने और इसके कारण होने वाले दर्द को सीमित करने के लिए महत्वपूर्ण है।

सारे शरीर में दर्द के क्या है कारण कहीं यह है रूमेटाइड गठिया तो नहीं , जानिए विस्तार से

गठिया, जिसका नाम लेने से ही एक अजब से दर्द का एहसास होता है। देखा जाए तो गठिया कई तरह की हो सकती है जिसमें शरीर के कई हिस्सों के जोड़ों में दर्द, सूजन और कठोरता पैदा हो जाती है। गठिया का दर्द हमारी रोजमर्रा की जिन्दगी में बेहद गम्भीर असर डाल सकता है। दर्द से राहत पाने के लिए आपको अपने पूरे शरीर की देखभाल की खास जरूरत होती है। हालांकि शरीर के अलग-अलग जोड़ों के गठिया के दर्द से राहत पाने के तरीके भी अलग-अलग होते हैं। और वो राहत आपको कैसे मिलेगी बताएंगे हम।

1. जरूरी है शरीर की देखभाल- दर्द कहीं का भी हो लेकिन कभी न कभी जानलेवा बन ही जाता है। इससे बचने के लिए पूरे शरीर की देखभाल सबसे ज्यादा जरूरी होती है। अगर आप भी शरीर के दर्द से प्रेषण हैं तो अपने डॉक्टर्स से इसका उपचार जरुर करवाएं। इसके अलावा आप 15 से 20 मिनट के लिए दर्द वाली जगहों पर हिटिंग पैड से सिकाई कर सकते हैं। क्योंकि गर्माहट से हमारी मांसपेशियां नरम हो जाती हैं, और दर्द से राहत भी मिलती है। ध्यान रखें शरीर में उतनी ही सिंकाई करें जिसकी गर्माहट आपका शरीर झेल सके। फिर भी आपको आराम न मिले तो अपने डॉक्टर को जरुर बताएं। 

2. हाथ और कलाई की देखभाल- जोड़ों के सर्द में हाथ और कलाई का दर्द भी शामिल है। हाथ और कलाई में दर्द होने से स्पके बहुत से काम प्रभावित हो सकते हैं। अपने हाथों और कलाई में दर्द को कम करने में मदद करने के लिए कोई भी चीज़ ताकत के साथ न पकड़ें। अपने हाथों को धीरे-धीरे घुमाकर एक्सरसाइज कर सकते हैं। इसके अलावा आप अपने डॉक्टर से जरुर राय लें कि आप पनी कलाई और हाथ में कोई ऑर्थोटिक उपकरण पहन सकते हैं ये नहीं। हालंकि आप गर्म पानी या पैराफिन मोम में अपने हाथों को डुबो कर हीट थेरेपी भी ले सकते हैं।

3. गर्दन, पीठ और कूल्हे की देखभाल- अपनी गर्दन के पीछे के हिस्से से लेकर पीठ और कूल्हों में दर्द को प्रबंधित करने में मदद करने के लिए भारी सामान उठाने से बचें। चलते समय झुककर न चलें। अगर बैठे हैं तो कोशिश करें की सीधा बैठें। अधिकतर किसी भी काम में अपनी कमर को ज्यादा मोड़ने से बचने की कोशिश करें। अपने डॉक्टर से राय लें कि क्या आप टाइट ब्रेस, कोर्सेट या किसी अन्य ऑर्थोटिक डिवाइस का सहारा ले सकती हैं। इसके अलावा आप गर्म पानी से नहाएं। इससे शत पतिशत दर्द से राहत मिलेगा। 

4. पैरों की देखभाल- पैर हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंग होते हैं। पैरों का दर्द असहनीय होता है। और अगर घुटनों में गठिया की शिकायत हो जाए तो इस दर्द को बढ़ने से कोई भी नहीं रोक पाता। इसके लिए आप अपने डॉक्टर से पूछें कि क्या आपको घुटने के ब्रेस या किसी अन्य ऑर्थोटिक उपकरण पहनने चाहिए या नहीं? चलने फिरने में दिक्कत हो रही है तो बाजार में कई तरह के उपकरण उपस्थित हैं, जिनकी मदद से आप चल भी सकते हैं। इसके अलावा दर्द से राहत पाने के लिए आप पैरों को गर्म पानी में भिगोकर हीट थेरेपी शुरू कर सकते हैं।

शरीर के ये कुछ ऐसे खास हिस्से हैं जहां दर्द हो तो मानों जान सी निकल जाती है। लेकिन खास देखभाल और सिंकाई से इस दर्द में कुछ हद तक राहत मिल सकती है। लेकिन इसके साथ ही समय-समय पर अपने डॉक्टर से परामर्श लेना न भूलें।

यह भी पढ़ें

थायराइड के चौकाने वाले लक्षण

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

क्या आप जानत...

क्या आप जानते हैं कि ऑक्सीजन लेवल कितना होना...

हर्बल सप्लीम...

हर्बल सप्लीमेंट लेने से पहले कुछ जरूरी बातें...

ओस्टियो अर्थ...

ओस्टियो अर्थराइटिस क्या है , जानें आयुर्वेद...

छोटा सा अंगू...

छोटा सा अंगूर बड़े काम की चीज

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

6 बेहतरीन बॉ...

6 बेहतरीन बॉडी केयर...

6 बेहतरीन बॉडी केयर टिप्स

24 घंटे में ...

24 घंटे में समझें...

अवध की तहजीब का शहर है लखनऊ। इस शहर में मॉडर्न दुनिया...

संपादक की पसंद

क्या आप सौंद...

क्या आप सौंदर्य...

सौंदर्य प्रतियोगिता अपने आप को सर्वश्रेष्ठ साबित करने...

महिलाओं और प...

महिलाओं और पुरुषों...

महिलाओं और पुरुषों में सेक्स और वर्जिनिटी की धारणा...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription