शादी के बाद भारतीय महिलाएं मांग में सिंदूर क्यों भरती हैं, जानें मांग में सिंदूर भरने से जुड़ी मान्यताएं

Jyoti Sohi

1st December 2020

सिन्दूर एक शादीशुदा स्त्री की पहचान बनता है। जी हां प्राचीनकाल से ही सुहागन स्त्रियों के लिए मांग में सिन्दूर भरने की परम्परा चली आ रही है। सिन्दूर को स्त्री के 16 श्रंगारों में से एक माना गया है। मांग में सिन्दूर लगाने के हिन्दू धर्म एवं वैज्ञानिकों ने कई अलग.अलग महत्व बताए गए हैं।

शादी के बाद भारतीय महिलाएं मांग में सिंदूर क्यों भरती हैं, जानें मांग में सिंदूर भरने से जुड़ी मान्यताएं
विवाह के बाद एक स्त्री के जीवन में बहुत से बदलाव आते हैं। न सिर्फ उसका रहन सहन बदलता है मगर साज श्रृंगार भी बढ़ जाता है। उसमें सबसे खास होता है सिन्दूर। जो एक शादीशुदा स्त्री की पहचान बनता है। जी हां प्राचीनकाल से ही सुहागन स्त्रियों के लिए मांग में सिन्दूर भरने की परम्परा चली आ रही है। सिन्दूर को स्त्री के 16 श्रंगारों में से एक माना गया है। सुहाग के प्रतीक के तौर पर हर सुहागन महिला द्वारा इसे अपनी मांग में भरा जाता है। मांग में सिन्दूर लगाने के हिन्दू धर्म एवं वैज्ञानिकों ने कई अलग.अलग महत्व बताए गए हैं। इसके अलावा महिलाओं के मन में भी कई तरह की जिज्ञासाएं पनपती हैं। महिलाएं हमेशा जानना चाहती है कि मांग में सिंदूर कब भरना चाहिए, सिंदूर भरते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, सिंन्दूर अगर गिर जाए तो क्या करना चाहिए आदि। आइए आपको बताते हैं कि हमारे जीवन में सिंदूर का क्या महत्व है और हमें कब इसे लगाना चाहिए। 
सौभाग्य का प्रतीक
उत्तर भारत में विवाहित स्त्रियों के लिए सिन्दूर लगाना ज़रूरी मन जाता है। माना जाता है कि मेष राशि माथे पर स्थित होती है। मंगल मेष राशि का स्वामी है जो लाल रंग का है। अतः सिन्दूर स्त्री एवं उसके पति दोनों के लिए सौभाग्य का प्रतीक है।
सिंदूर छिपाना
आजकल महिलाए फैशन के चलते सिंदूर तो बस दिखाने के लिए ही थोड़ा सा लगाती है जो बिलकुल गलत है। शास्त्रों के अनुसारए सिंदूर मांग में दिखाई देना चाहिए। सिंदूर छिपाने से पति को मान.सम्मान नहीं मिलता।
16 श्रृंगार में शामिल
हर हिंदु महिला के लिए एक चुटकी सिंदूर बहुत कीमती होता है। विवाहित हिंदु महिलाओं के लिए सिंदूर में पूरा ब्रह्मांड समाहित होता है। सिंदूर की कीमत आप इसी से जान सकती हैं कि बिना इसके शादी पूरी नहीं मानी जाती है। इसके अलावा सिंदूर को 16 श्रृंगार में भी शामिल किया गया है। मतलब की सिंदूर से आप स्वस्थ भी रह सकती हैं और सुंदर भी दिख सकती हैं। 
लंबा सिंदूर लगाएं
शास्त्रों के अनुसार जो महिलाएं मांग में लंबा सिंदूर लगाती है उनके पति को खूब मान.सम्मान मिलता है। इतना ही नहीं, इससे उसके पति को हर जगह इज्जत मिलती है। ऐसे में महिलाओं को माथे पर छोटे लाइन का सिंदूर नहीं लगाना चाहिए।
 
नाक की सीध में सिंदूर लगाना
सुहागन महिलाओं को हमेशा नाक की सीध में सिंदूर लगाना चाहिए। टेढ़ी.मेढ़ा सिंदूर लगाने से पति का भाग्य खराब होता है। साथ ही इससे पति हमेशा परेशानियों से घिरा रहता है। अगर आप अपने पति की भलाई चाहती हैं तो एक सीध में ही सिंदूर लगाएं।
 
अच्छे भाग्य के लिए
लाल रंग को काफी शुभ माना जाता है। सुहागन का मांग में सिंदूर लगाना भी भाग्य को बढ़ाता है और उसके वैवाहिक जीवन को सुखी बनाता है। कहा जाता है कि महिला की यह सकारात्मक ऊर्जा उसके पति पर भी असर डालती है और उसे भी भाग्यशाली और सेहतमंद रहने में मदद करती है।
पुराणशास्र के मुताबिक
एक महिला तब तक सिंदूर लगाती हैए जब तक उसका पति जीवित रहता है। हिंदू पौराणिक कथाओं के मुताबिक माता पार्वती न सिर्फ सिंदूर लगाने वाली महिलाओं के पति की रक्षा करती हैं बल्कि वह आसपास मंडरा रही बुरी शक्तियों को भी दूर रखती हैं। 
लाल रंग शक्ति का प्रतीक. भारतीय पौराणिक कथाओं में लाल रंग के माध्यम से माता पार्वती की उर्जा को व्यक्त किया गया है। हिंदुओं का मानना है कि सिंदूर लगाने से माता पार्वती स्त्रियों को अखंड सुहागन होने का आशीर्वाद देती हैं।
देवी लक्ष्मी के सम्मान का प्रतीक
कहा जाता है कि देवी लक्ष्मी पृथ्वी पर पाँच स्थानों पर रहती हैं और उन्हें हिन्दू समाज में सिर पर स्थान दिया गया है।  सिर में सिंदूर लगाना देवी लक्ष्मी के हमारे घर पर वास करने और भाग्य वृद्धि का संकेत है।
एकाग्रता बढ़ाना
हल्दी से बनने वाला सिंदूर कई दोषों को दूर करता है। इससे एकाग्रता बढ़ती है और चित्त को एक जगह रखने में सहायता मिलती है। ऐसा होने पर काम को ज्यादा ध्यानपूर्वक और बेहतर तरीके से करने में भी मदद मिलती है। 
वैज्ञानिक दृष्टि से भी जरूरी है मांग में सिंदूर लगाना। आइए जानते हैं इसके फायदे
माथे पर सिंदुर लगाने से रक्तचाप नियंत्रित रहता है।
महिलायें जिस स्थान पर सिंदूर लगाती हैं वह स्थान ब्रह्मरन्ध्र और अध्मि नामक कोमल स्थान के ठीक ऊपर होता है। सिंदूर में मौजूद तत्व इस स्थान से शरीर में मौजूद वैद्युतिक उर्जा को नियंत्रित करती है। इससे बाहरी दुष्प्रभाव से भी बचाव होता है।
सिंदूर में मौजूद पारा धातु की अधिकता होती हैए जिससे चेहरे पर झुर्रियां नहीं पड़ती हैं। इससे महिलाओं की बढ़ती उम्र के संकेत नजर नहीं आते हैं।
अकेले में लगाएं सिंदूर 
सिंदूर को कभी भी किसी के सामने नहीं लगाना चाहिए। जब आप सिंदूर को किसी के सामने लगाते है तो आपके पति को नजर लग सकती है और आपका प्यार कम हो सकता है। किसी के सामने सिंदूर लगाने से आपके रिश्ते को भी नजर लग सकती है और पति का प्यार बंट भी सकता हैं। 
सिन्दूर से जुड़ी पौराणिक कथा
रामायण में एक प्रसंग है जिसके अनुसार एक बार हनुमान जी ने माता सीता को सिंदूर लगाते हुए देखाए उन्हें माता सीता के केसरिया सिंदूर का कारण समझ नहीं आया। उन्होंने माता सीता से इसका कारण पूछाण् माता सीता ने बताया ष्इसे मांग में लगाने से प्रभु श्रीराम की आयु बढ़ती है। हनुमान प्रेम और गृहस्थ जीवन से जुड़े हुए विषयों से बिल्कुल अनजान थे। अगले दिन सभा में हनुमान अपने पूरे शरीर पर केसरिया सिंदूर लगाकर आए। ये देखकर सभी लोगों को हैराने हुई। कारण पूछने पर हनुमान जी बताया माता सीता ने बताया है कि इस सिंदूर को लगाने से प्रभु श्रीराम की आयु बढ़ती है इसलिए मैंने पूरे शरीर में इस सिंदूर को लगा दिया, जिससे प्रभु श्रीराम की आयु और भी लंबी हो। सभी उपस्थित लोग हनुमान जी के इस भोलेपन पर मुस्कुराने लगे।
आप घर पर भी बना सकती हैं सिंदूर
यदि आप घर पर सिंदूर बनाना चाहती हैंए तो इसके लिए हल्दी, फिटकरी और सुहागा को मिक्स करके इसमें नींबू का रस मिलाएं। इस मिश्रण को डिब्बी में भरकर इस्तेमाल करें।
ये भी पढ़े

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

हरियाली तीज ...

हरियाली तीज पर करना हो मां पार्वती को प्रसन्न,...

चाहते हैं पि...

चाहते हैं पितरों का आर्शीवाद ,तो श्राद्ध...

जानिए सोलह श...

जानिए सोलह श्रृंगार करना क्यों है ज़रूरी

दुल्हन और ला...

दुल्हन और लाल रंग

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

क्या है वो ख...

क्या है वो खास कारण...

क्या है वो खास कारण जिसकी वजह से ब्यूटी कांटेस्ट में...

ननद का हुआ ह...

ननद का हुआ है तलाक,...

आपसी मतभेद में तलाक हो जाना अब आम हो चुका है। कई बार...

संपादक की पसंद

दुर्लभ मगरगच...

दुर्लभ मगरगच्छ के...

रूस की लग्जरी गैजेटस कंपनी केवियर ने सबसे मंहगा हेडफोन...

शिशु की मालि...

शिशु की मालिश के...

बच्चे के जन्म के साथ ही अधिकांश माँए हर रोज शिशु को...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription