खाने का स्वाद ही नहीं इम्यूनिटी भी बढ़ाएंगी ये 7 चटनियां

Sonal Sharma

1st December 2020

खाने की थाली में अगली बार जब कोई चटनी दिखे, तो उसे नजरअंदाज मत कीजिए। ये चटनियां स्वाद के साथ सेहत भी देती है।

खाने का स्वाद ही नहीं इम्यूनिटी भी बढ़ाएंगी ये 7 चटनियां

Immunity Dips

खाने के साथ भारतीयों को चटनी बहुत पसंद है। इन देसी डिप्स के बिना कुछ डिशेज़ अधूरे लगते हैं जैसे डोसा के साथ नारियल की चटनी, पकौड़े के साथ हरे धनिये या पुदीने की चटनी और खिचड़ी के साथ टमाटर की चटनी। ये खाने का स्वाद को बढ़ाने के लिए पहचाने जाते हैं लेकिन कम लोग जानते हैं कि इनमें इम्यूनिटी बढ़ने के गुण भी हैं। इनमें से ज्यादातर चटनियां न केवल स्वादिष्ट होती हैं, बल्कि स्वास्थ्य के लिए भी बहुत अच्छी होती हैं। ये इम्यून सिस्टम को मजबूत करके बीमारी से बचाने की क्षमता रख सकती है।

हरे धनिये की चटनी

ये चटनी विटामिन सी, के और प्रोटीन में उच्च होती है। यह पाचन को बढ़ाती है। यह डायबिटीज के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद है क्योंकि यह ब्लड शुगर के स्तर को कम करती है और इंसुलिन के स्त्राव को उत्तेजित करती है। इसमें मुंह के छाले ठीक करने के लिए एंटीसेप्टिक गुण होते हैं।

ऐसे बनाएं:

  • एक ब्लेंडर या चटनी ग्राइंडर में, 1 कप कटा हुआ ताजा धनिया पत्ता, 1 इंच कटा हुआ अदरक और 1 कटी हुई हरी मिर्च डालें।
  • इसमें 1 या 2 टीस्पून नीबू का रस,  ½ टीस्पून जीरा पाउडर और आवश्यकतानुसार काला नमक या सादा नमक मिलाएं।
  • थोड़े से पानी के साथ ब्लेंडर या चटनी ग्राइंजर में सारी सामग्री को अच्छे से पीस लें। मसाला टेस्ट करें और यदि ज़रूरी हो तो थोड़ा और नमक या नींबू का रस डालें।
  • धनिया की चटनी को सैंडविच, पैटीज़, पकौड़े या इंडियन स्नैक्स जैसे भेल पुरी, रगड़ा पैटीज़, सेव पुरी, समोसा जैसे स्नैक्स के साथ परोसें। चटनी 6-7 दिनों के लिए काम में ली जा सकती है।

पुदीने की चटनी

इसके ठंडे और सुखदायक प्रभाव के कारण इसका गर्मी के मौसम में खूब सेवन किया जाता है। यह विटामिन बी, सी, डी और ई से भरपूर है। इसका सेवन पेट के स्वास्थ्य बढ़ाने, पाचन में मदद करने, सूजन कम करने में मदद करता है। यह भूख बढ़ाता है और इम्यूनिटी मजबूत करने में सहायता करता है।

ऐसे बनाएं:

  • 2 कप ताजा पुदीने की पत्तियां लें। बासी पुदीने की पत्तियों के इस्तेमाल से बचें क्योंकि इसमें स्वाद और सुंगध भी प्रभावित होती है। चटनी बनाने के लिए केवल पत्तियों का इस्तेमाल करें, डंठल का नहीं क्योंकि इससे चटनी में कड़वा स्वाद आएगा।
  • पुदीने की पत्तियों को मिक्सर के जार में डालें और इसमें  1 या 2 हरी मिर्च और 1 इंच छिलके वाली अदरक काटकर डालें। मसालेदार चटनी के लिए, ज्यादा हरी मिर्च डाल सकते हैं।
  • 1/2 चम्मच चाट मसाला और आवश्यकतानुसार नमक भी डालें। अगर आपके पास चाट मसाला नहीं है, तो 1/4 चम्मच सूखा आम पाउडर, 1/4 चम्मच भुना जीरा पाउडर और 1/4 चम्मच काला नमक मिलाएं।
  • ½ चम्मच नीबू का रस डालें। 1 या 2 बड़े चम्मच पानी डालें और पीसें। पीसते समय बहुत अधिक पानी न डालें।
  • पुदीने की चटनी को बोल या एक छोटे जार में निकाल लें। इसे वेज कटलेट, ब्रेड पकौड़ा, फ्रेंच फ्राइज़, कबाब या पनीर टिक्का के साथ सर्व करें।
  • पुदीना की चटनी अच्छी तरह से रेफ्रिजरेट करती है और फ्रिज में एयरटाइट बॉक्स या कंटेनर में 3 से 4 दिनों के लिए अच्छी रहती है।

टमाटर की चटनी

टमाटर ए, सी और के से भरपूर है। यह फोलेट और पोटेशियम में भी उच्च है। टमाटर में सोडियम और कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है। टमाटर की चटनी हृदय स्वास्थ्य के लिए अच्छी है और हाई ब्लड प्रेशर वालों के लिए फायदेमंद है। यह रक्त को शुद्ध करने में मदद करती है।

ऐसे बनाएं:

  • एक ब्लेंडर में तीन बड़े कटे हुए टमाटर, 10 लहसुन की कलियां और 3 सूखी लाल मिर्च लें और उनकी प्यूरी बना लें।
  • एक कढ़ाई में 1 टेबलस्पून तेल गरम करें। इसमें ½ टीस्पून सरसों के बीज, ½ टीस्पून उड़द दाल, ½ टीस्पून जीरा, एक करी पत्ता डालकर भुनने दें।
  • अब टमाटर का पेस्ट डालें और आवश्यतानुसार नमक और चीनी डालें। तेल से अलग होने तक पकाएं।
  • अब थोड़े से पानी में डालकर उबाल लें। इसे इडली या डोसा के साथ परोसें।

आंवला चटनी

ज्यादातर लोग आंवले को इसके तीखे और खट्टे स्वाद के लिए पसंद नहीं करते हैं लेकिन इसकी चटनी स्वादिष्ट होती है। आंवला विटामिन सी से भरपूर है और इस तरह यह इम्यूनिटी बूस्टर का काम करती है। यह ब्लड शुगर को नियंत्रित करने और इंसुलिन स्राव को उत्तेजित करने में मदद करता है, जो डायबिटीज के रोगियों के लिए बहुत मददगार है।

ऐसे बनाएं

  • आंवला चटनी बनाने के लिए 10 से 15 आंवले लेकर उन्हें किस लें। चटनी बनाने के लिए पहले एक भारी तले वाली कड़ाही में 1 टीस्पून मेथी दावों को हल्का भून लें और फिर मूसल से उन्हें क्रश कर लें।
  • मध्यम आंच पर एक कड़ाही में 1 टेबलस्पून तेल गरम करें और 1 टीस्पून राई डालें।
  • आंच कम कर ½ टीस्पून हींग, 1 टीस्पून हल्दी पाउडर, 3-4 हरी मिर्च और क्रश की हुई मेथी मिला दें।
  • कुछ सेकंड के बाद आंच बंद कर दें, वरना हल्दी काली पड़ जाएगी और मेथी के दाने कड़वे हो जाएंगे।
  • कसा हुआ आंवला और आवश्यकतानुसार नमक डालकर हिलाएं। इसे एक महीने तक एयर टाइट कंटेनर में रखें और फ्रिज में रख दें।

करी पत्ता चटनी

करी पत्ता दक्षिण भारतीय व्यंजनों में मुख्य हैं। शायद ही कोई डिश होगी जो बिना करी के तड़के के साथ बनाई गई हो। सुगंधित सुगंध के साथ इनका स्वाद अच्छा होता है। डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए करी पत्ते को अच्छा कहा जाता है। करी पत्ते की चटनी विटामिन ए, बी, सी, ई, फोलिक एसिड और आयरन में उच्च है और इसमें एंटीऑक्सिडेंट, एंटी-डायरियल और एंटी-एनीमिया गुण हैं। यह गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल संबंधी मुद्दों में मदद करता है। डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए यह एलडीएल या खराब कोलेस्ट्रोल के स्तर को कम करता है।

ऐसे बनाएं

  • 1 कप करी पत्ते धोएं, पानी निकालकर तौलिये से सुखाएं।
  • एक कड़ाही में 2 टीस्पून तेल गरम करें, उसमें 1 टेबलस्पून उड़द दाल, 2 लाल मिर्च और एक चुटकी हिंग डालें। जब तक दाल गोल्डन ब्राउन न हो जाए, तब तक तलें।
  • अब करी पत्ते डालें और धीमी आंच में 2-3 मिनट के लिए भूनें। ¼ टीस्पून इमली का पेस्ट, 2 टेबलस्पून कसा हुआ नारियल, आवश्यतानुसार नमक डालें और कुछ सेकंड के लिए पकने दें। गैस से उतार लें और ठंडा होने के लिए छोड़ दें।
  • थोड़ा पानी मिलाकर एक चिकना पेस्ट बना लें। कंसीस्टेंसी न ज्यादा पतली और न ज्यादा गाढ़ी हो, इसलिए उसके अनुसार पानी डालें।
  • अब एक टीस्पून तेल गरम करें। इसमें राई डालें, जब यह तड़क जाए तो चटनी में मसाला डालें। अच्छे से मिक्स करें और इडली, डोसा या अप्पम के साथ परोसें।

प्याज-लहसुन चटनी

प्याज और लहसुन दोनों ही स्वास्थ्य के लिए असाधारण रूप से अच्छे हैं। इस चटनी को खाने से कई फायदे मिलेंगे जिसमें पाचन में सुधार, कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित करना, हीट स्ट्रोक से बचाव, खांसी और सर्दी से बचाव आदि शामिल है। इसमें एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं।

ऐसे बनाएं

  • 5 छोटे कटे हुए प्याज और 15 लहसुन की कलियां अलग रख दें।
  • एक कड़ाही में 1 टेबलस्पून तिल का तेल गरम करें। इसमें कटा हुआ प्याज, लहसुन लौंग, 7-8 कटी हुई लाल मिर्च डालें।
  • प्याज और लहसुन को गोल्डन ब्राउन होने तक मध्यम आंच पर पकने दें। इसमें आवश्यतानुसार नमक डालें और अच्छे से मिलाकर गैस बंद कर दें। इसे
    ठंडा होने दें।
  • थोड़ा-सा पानी डालकर मिक्सर में पीसकर एक स्मूथ पेस्ट बनाएं और अलग रख दें।
  • अब उसी कड़ाही में 1 टेबलस्पून तिल का तेल लें। इसमें ½ टीस्पून राई, ½ टीस्पून उड़द दाल, एक चुटकी हिंग और 2-3 करी पत्ता डालें। राई के तड़क दाने पर गैस बंद कर दें और चटनी मिला दें।
  • अच्छे से मिक्स करने के बाद इसे एक बोल में निकाल लें। इसे एक सप्ताह तक फ्रिज में रखकर इस्तेमाल कर सकते हैं।

पीनट चटनी

पीनट यानी मूंगफली की चटनी इडली, डोसा, उत्तपम और अन्य कई भारतीय व्यंजनों के साथ एक लोकप्रिय साइड डिश है। इसमें प्रोटीन, स्वस्थ वसा और आहार फाइबर प्रचुर मात्रा में होते हैं। मूंगफली पोटेशियम, कैल्शियम, फास्फोरस और बी विटामिन से भरपूर होती है जो आपको स्वास्थ्य लाभ प्रदान करती है। इसका सेवन हृदय रोग के जोखिम को कम करता है और ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करता है। मूंगफली विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत हैं, जो इम्यूनिटी को बढ़ाने और बालों के झड़ने को रोकने में मदद करते हैं।

ऐसे बनाएं:

  • एक कड़ाही में 1 टेबलस्पून तेल गरम करें और फिर पैन में ½ कप कच्ची मूंगफली डालें। मूंगफली को कम आंच पर 3 से 4 मिनट के लिए भूनें। ध्यान रहें इन्हें ब्राउन नहीं करना है।
  • 1 टेबलस्पून चना दाल और ½ टीस्पून जीरा डालें और कम आंच पर 2 और मिनट भूनें।
  • 1-2 करी पत्ता डालें और कम आंच पर 1 मिनट तक भूने। गैस से कड़ाही उतार लें। इसे ठंडा होने दें और मिक्सर के जार में डाल दें।
  • अब इसमें ½ इंच कटी हुई अदरक, 1 कटी हरी मिर्च, आवश्यतनुसार नमक, इमली का पेस्ट और थोड़ा सा पानी डालें। स्मूथ पेस्ट बनने के बाद इसे बोल में निकाल लें।
  • तड़का लगाने के लिए 1 टीस्पून तेल लें। तेल गर्म होने पर इसमें राई डालें और तड़कने पर हिंग और करी पत्ता डालकर हिलाएं और गैस बंद कर दें। तड़के को बोल में रखी चटनी पर डाल दें।

यह भी पढ़ें - खाना पकाने के दौरान पोषक तत्वों को बनाए रखने के लिए अपनाएं 20 स्मार्ट कुकिंग टिप्स

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

5 इवनिंग स्न...

5 इवनिंग स्नैक्स विद गृहलक्ष्मी होम शेफ अमरजीत...

मूंगफली से त...

मूंगफली से तैयार कीजिए 5 तरह की रेसिपी

ये 5 सिंधी ड...

ये 5 सिंधी डिशेज़ बनाकर देखिए हर कोई खुश...

आप भी ट्राय ...

आप भी ट्राय कीजिए केरल की स्वादिष्ट और जायकेदार...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

बरसाती संक्र...

बरसाती संक्रमण और...

बारिश में भीगना जहां अच्छा लगता है वहीं इस मौसम में...

खाओ लाल और ह...

खाओ लाल और हो जाओ...

 इसी तरह 'जिनसेंग' जिसके मूल का आकार शिश्न जैसा होता...

संपादक की पसंद

ककड़ी एक गुण ...

ककड़ी एक गुण अनेक...

हममें से ज्यादातर लोग गर्मियों में अक्सर सलाद या सब्जी...

विटामिनों की...

विटामिनों की आवश्यकता...

स्वस्थ शरीर के लिए विटामिन बहुत आवश्यक होता है। इनकी...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription