Husband Control Tips: ममाज़ बॉय है हसबैंड, तो इन 6 तरीकों से उन्हें करें हैंडल

Sonal Sharma

4th December 2020

पति हमेशा आपके ऊपर मां को प्राथमिकता देता है। अगर इस बात से परेशान हैं तो इस तरह हैंडल करें पति को।

Husband Control Tips: ममाज़ बॉय है हसबैंड, तो इन 6 तरीकों से उन्हें करें हैंडल

Husband Control Tips

आपके पति के अपनी मां और उनके परिवार के साथ मजबूत रिश्ते ने भले ही आपका तब दिल जीत लिया हो जब आप डेटिंग कर रहे हों, या फिर केवल एंगेज हुए हो। लेकिन शादी के बाद आपको महसूस हुआ होगा कि वह वाकई में ममाज़ बॉय है और हो सकता है कि यह एहसास आपके रिश्ते पर भारी पड़े।  आपका पति, जो हर चीज़ के लिए मां की ओर रूख करता है और अपरिपक्वता के लक्षण दिखाता है और आपकी सास, जो बेटे के जीवन में नंबर वन महिला बने रहने के लिए उत्सुक रहती हैं, इसमें कोई शक नहीं कि इन्हें देखकर गुस्सा आता ही होगा। ममाज़ बॉय पति और सास के साथ अनबन हो, उससे पहले आपको उनके रिश्तों को समझना होगा और साथ ही अपने पति को दिखाना होगा कि अब आप उनकी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए।

इन संकेतों से जानिए आपके पति वाकई ममाज़ बॉय हैं:

जब मां की इच्छा ही उनके लिए कमांड यानी आज्ञा हो। यदि उनकी मां चाहती है कि वह उन्हें बाज़ार ले जाए, उन्हें डॉक्टर के पास ले जाए, उनके साथ खाना खाए आदि। वह हमेशा इस बात के लिए बाध्य हो और उसे परवाह न हो कि आप क्या करना चाहती हैं।

  •  वह रोजाना या यूं कहें कि हर कुछ घंटों में मां से संपर्क में रहना चाहता हो, अब वह फोन के जरिए या व्यक्तिगत रूप से भी।
  • वह हमेशा पत्नी और बच्चों के ऊपर अपनी मां को चुनें
  • वह कभी भी अपनी मां से दूर नहीं गया या वह अभी भी उनके साथ रहता हो।
  • उसे मां के बिना निर्णय लेने में परेशानी होती है।
  • आर्थिक रूप से भी मां से अभी भी जुड़ा हो या यूं कहें कि पति के पॉकेट पर मां ज्यादा हक जताए।

क्या पसंद नहीं, ये देखें

एक बार आपको यह समझ आ गया कि आपने ममाज़ बॉय से शादी की है तो आपको यह तय करना होगा कि कौन-सा बिहेवियर व्यक्तिगत रूप से आपके लिए सहन करने लायक है और कौन-सा नहीं। मान लीजिए, आपको इसमें कोई दिक्कत नहीं है कि आपका पति आपकी सास से दिन में एक या दो बार बात कर लें, जब तक कि यह आदत आप दोनों के समय को न गड़बड़ा रहा हो। लेकिन हो सकता है कि आपको यह पसंद न आए कि अपनी कोई भी समस्या को लेकर वह मां के पास जाए जो कि उन्हें वास्तव में आपसे डिसकस करनी चाहिए। महिलाओं यहां गलती यह करती हैं कि इस मुद्दे का गुस्सा वह पति या सास पर बिना सोचे गुस्से के रूप में उतार देती है। बेहतर होगा कि शांति बनाए रखें और मां के साथ पति के रिश्ते को मुद्दा न बनाएं, तब भी जब उन्होंने सीमा पार कर दी हो। बेहतर होगा कि पति को इस बात से अवगत कराएं कि बहुत ज्यादा सास को उनके रिश्ते के बीच में लाना दोनों के रिश्ते में खटास डाल सकता है।

पति से थोड़ा ध्यान हटाएं

इस बात का ध्यान रखें कि आपके जीवन में आपके पति को सेंटर स्टेज नहीं लेना चाहिए। आपको खुद को अपनी प्राथमिकता पर रखना होगा। इसलिए थोड़ा स्वार्थी होएं। काम करें, कोई शौक पूरा करें और पति से जुड़े परिवार व दोस्तों के बाहर भी रिश्ते बनाएं। पति को यह महसूस होना चाहिए कि आप इंडिपेंडेंट हैं और अगर उसने आपको या आपकी ज़रूरत को नज़रअंदाज किया तो रिश्ते बिगड़ सकते हैं।

आक्रोश से बचें

अपने पति को इस बारे में बार-बार न कहें कि वह आपके साथ ज्यादा समय बिताए या मां के ऊपर उन्हें चुनें। आप इस तरह केवल उनकी मां को नीचा दिखाएंगे और पति के रूप में उनकी भूमिका पर सवाल उठाएंगे। ये आहत भावनाएं आक्रोश में बदल सकती है, जो कि शादी के जहर का काम करेगी। आप उन्हें मार्गदर्शन दे सकती हैं और प्यार से सीमा तय करने की सलाह दे सकती हैं।

सही समय का इंतजार

बेहतर होगा कि सास के लिए कुछ गलत या अपशब्द कहने की बजाए पहले चीज़ों को इग्नोर करें और फिर सही समय देखकर पति से चर्चा करें। यह सब किसी भी वाकये के अनुसार ही होगा। मान लीजिए, नई-नई शादी हुई है या फिर शादी को 5 साल भी गुजर गए हैं, लेकिन पति ऑफिस से आने के बाद से लेकर रात को नींद आने की हालत तक मां के पास ही बैठता है, उनसे ही बातें करता है, तो उसी समय न भड़कें। बल्कि पहले कुछ समय उन्हें ये रूटीन फॉलो करने दें और बाद में उन्हें समझाएं कि आपको भी उनकी जरूरत है। बच्चों को भी पिता के समय की जरूरत है। अगर वह कुछ समय मां के पास बैठकर अपने पास आएगा तो वह भी अपने दिन-भर की बातों को शेयर कर पाएगी और उन्हें भी भावनात्मक रूप से सहारा मिलेगा।

सास से पर्सनली डील करें

सास को भी समझना होगा कि अब बेटे की शादी हो चुकी है और उनकी आपके लिए जवाबदेही है। अगर सास जानबूझकर भी यह जताए कि आपका पति अभी भी ‘लिटिल बॉय' है तो भी गुस्से में न टकराए। अपने गुस्से पर काबू रखें, वरना आपके मुंह से निकला कोई शब्द सास के लिए बेटे के सामने रोने का एक अच्छा बहाना हो जाएगा। बेहतर होगा कि उन्हें शांति से नजरअंदाज करें जब वह चीजों के बारे में बेवजह सलाह दे रही हों। अगर वह आपको बताए कि आपको उनके बेटे के लिए क्या करना चाहिए, तो आपके चेहरा यह साफ बताए कि आपको पसंद नहीं आ रहा है, वह जो भी बोल रही है। शब्दों से बेहतर है चुप रहकर चेहरे के भाव से समझा देना।

कपल के रूप में अपने फाइनेंस अलग करें

अगर पति फाइनेंस से जुड़ी हर एक चीज में मां को शामिल करता है तो यह बात उन्हें समझानी होगी कि सास का बहुत ज्यादा कपल के बीच हस्तक्षेप तकलीफदायक हो सकता है। बड़े चीजों में सास के फैसलों को सम्मान दें लेकिन हर छोटी चीज में उनकी सलाह दोनों के बीच दिक्कत पैदा कर सकती है।

तो यह बात तो तय है कि ममाज़ बॉय को हैंडल करना बहुत आसान नहीं है, तो बहुत ज्यादा मुश्किल भी नहीं है। इन बातों को ध्यान में रखकर पति और सास दोनों के रिश्ते का सम्मान कर आप अपनी जगह पूरी तरह बना सकती हैं।

इन ट्विस्ट के साथ बनाइए ये मिठाइयां, इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद करेगी

8 सूप जो इम्यूनिटी बढ़ाने में करेंगे मदद, ट्राय कीजिए रेसिपी

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

Husband Cont...

Husband Control Tips: पति के मोबाइल एडिक्शन...

पति हैं 'mum...

पति हैं 'mumma's boy' तो न होने दें रिश्ते...

कामकाजी बहू ...

कामकाजी बहू और सास कैसे बिठाए तालमेल

सास का शगल ह...

सास का शगल होती है घर में राजनीति

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

क्या है वॉटर...

क्या है वॉटर वेट?...

आपने कुछ खाया और खाते ही अचानक आपको महसूस होने लगा...

विजडम टीथ या...

विजडम टीथ यानी अकल...

पिछले कुछ दिनों से शिल्पा के मुंह में बहुत दर्द हो...

संपादक की पसंद

नारदजी के कि...

नारदजी के किस श्राप...

कहते हैं कि मां लक्ष्मी की पूजा करने से पैसों की कमी...

पहली बार खुद...

पहली बार खुद अपने...

मेहंदी लगाना एक कला है और इस कला को आजमाने की कोशिश...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription