लाइफस्टाइल का हिस्सा बना कोरोना वायरस

ज्योति सोही

31st December 2020

दुनिया के हर इंसान के लाइफस्टाइल को बदलने और उसका हिस्सा बन जाने वाले कोरोना वायरस से बचने और इसे मात देने के लिए इन चीज़ों का रखें ध्यान-

लाइफस्टाइल का हिस्सा बना कोरोना वायरस
बेफिक्र बेखौफ जिंदगी को जीने वाला हमारा मन अचानक से सहम क्यों गया... जो कभी बाहर का चटपटा खाना खाने के लिए हमें उकसाता था, तो कभी घूमने फिरने के लिए सताता था, वो अचानक से अब डर क्यों गया। कारण है कोरोना वायरस महामारी। अब आलम ये है कि कई महीनों से हमारी जिंदगियां और हमारे मन घरों में कैद हो चुके हैं। घर से पांव बाहर निकालते वक्त सोचना पड़ता है। खैर, लंबे लॉकडाउन के बाद अब हम लोग घरों से बाहर निकल रहे हैं और ज़रूरत के मुताबिक काम भी कर रहे हैं। मगर अब हम पहले जैसे आज़ाद होकर घूमने से कतराते हैं। लिहाज़ा अब हमें बहुत सी सावधानियां बरतने की ज़रूरत है। क्योंकि कोरोना वायरस अब हमारी जिंदगी का हिस्सा बन चुका है और खुद-ब-खुद हमारे जीवन में शामिल हो गया है। इसके चलते अब मॉल में जाना, मेट्रो में घूमना, सिनेमाहॉल में मूवी देखना और जिम में एक्सरसाइज करना सब कुछ बदल गया है। यहां तक कि अब हम दूसरों से मिलने में भी कतराने लगे हैं। मगर हमें ये नहीं भूलना चाहिए कि कोरोना हमें डराने नहीं आया बल्कि हमारा लाइफस्टाइल बदलने आया है, जो अस्त-व्यस्त हो चुका था। तो आइए जानते हैं घर से बाहर निकलते वक्त कहां-कहां, किन-किन सावधानियों को बरतना है और कोरोना से कैसे बचना है।

अगर जाना हो पार्लरअब जब पार्लर खुल गए हैं तो महिलाओं ने भी पार्लर जाना शुरू कर दिया है। लेकिन इसका अर्थ यह नहीं है कि कोरोना संक्रमण का खतरा पूरी तरह टल गया है। भले ही घर से बाहर निकलने और पार्लर जाने की अनुमति मिल गई है लेकिन फिर भी कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सतर्कता बरतनी जरूरी है। पार्लर जाने से पहले इन बातों का रखें ख्याल-

कैरी करें हैंड सेनिटाइजर
हो सकता है कि पार्लर में आपको बार-बार हाथ धोने का मौका ना मिले। इसलिए बेहतर होगा कि आप अपने बैग में हैंड सैनिटाइजर को रखें। पार्लर में ऐसी कई जगहें होती हैं, जहां हर कोई बैठता है या वहां से होकर गुज़रता है, तो ऐसी जगहों को छूने के बाद हाथों को सैनिटाइज करना बेहद जरूरी है।
जरूर पहनें मास्क
कोरोना संक्रमण से बचाव का सबसे अच्छा तरीका है मास्क पहनना। सुनिश्चित करें कि आप सैलून के अंदर फेस मास्क पूरा समय पहनें। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि पार्लर स्टाफ ने भी मास्क पहना हो और मुंह और नाक को पूरी तरह कवर किया हो। अगर उन्होंने फेसशील्ड का प्रयोग किया है तो यह अतिरिक्त लाभ है। हमेशा ऐसा फेस मास्क पहनें जो आपको अच्छी तरह से फिट हो ताकि आपको अपने चेहरे पर बार-बार फेस मास्क को एडजस्ट करने के लिए छूना ना पड़े।
धोएं कपड़े
रोगाणु कपड़ों पर 2 दिन या उससे अधिक समय तक जीवित रह सकते हैं और हो सकता है कि अनजाने में आपके कपड़े किसी तरह के वायरस के संपर्क में आए हों। इसलिए बेहतर होगा कि आप सैलून से वापिस आने के बाद हाथों को अच्छी तरह साफ करने के बाद कपड़ों को किसी अच्छे डिटर्जेंट की मदद से धोएं। कपड़े धोने के लिए गर्म पानी का इस्तेमाल करें। गर्म पानी कीटाणुओं को काफी हद तक मार देता है।
जरूर लें अपॉइंटमेंट
हो सकता है कि आपने अपने रेग्युलर पार्लर में ही जाना शुरू कर दिया हो, लेकिन फिर भी यह जरूरी है कि आप पहले अपॉइंटमेंट लेकर ही पार्लर जाएं। अपॉइंटमेंट लेने का लाभ यह होगा कि आप पार्लर में उस समय जा पाएंगी, जब वहां अन्य महिलाओं की भीड़ नहीं होगी। साथ ही पार्लर को भी सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन करने और पार्लर को सैनिटाइज करने के लिए पर्याप्त वक्त मिल पाएगा।

जिम जाने से पहले रहें सतर्क

अगर आप एक्सरसाइज करने के लिए जिम जाते हैं, तो वहां बेहद सावधान रहने की ज़रूरत है। क्योंकि वहां पर मशीनों का हर कोई बारी-बारी से इस्तेमाल करता है। ऐसे में साफ-सफाई का ध्यान रखना ज़रूरी बात है। ऐसे में कोरोना वायरस जैसी महामारी से बचने के लिए इन उपायों को ज़रूर करें। एक्सरसाइज करते समय बरतें ये सावधानियां-
समय का ध्यान रखें
कोरोना वायरस के पहले ये होता था कि हम किसी भी वक्त जिम जा सकते थे और अपनी सुविधा के हिसाब से एक्सरसाइज कर सकते थे लेकिन अब आपको जिम जाते वक्त ये ध्यान रखना होगा कि जो टाइम आपको निर्धारित किया गया है आप उसी समय जाएं। ऐसा इसलिए है ताकि किसी एक समय पर जिम में बहुत भीड़ न हो।
सोशल डिस्टेंसिंग है बहुत जरूरी
सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान जिम में रखना जरूरी है। आपको दोस्तों के साथ एक्सरसाइज करने से बचना है। ग्रुप एक्सरसाइज और कपल एक्सरसाइज से बचें। कम से कम 6 फीट का डिफरेंस रखना बहुत जरूरी है।
ग्लव्ज पहनें
अपने जिम ग्लव्ज और रिस्ट बैंड पहनें। ये बहुत जरूरी है कि आपकी स्किन का हिस्सा कम से कम पब्लिक मशीनों से टच न हो। इसके लिए आपका ग्लव्ज पहनना अच्छा ऑप्शन साबित होगा, रिस्ट बैंड भी आपको सुरक्षा दे सकते हैं।
अपनी चीजों का ध्यान रखें
अगर कोरोना से पहले की जिंदगी की बात करें तो इसके पहले ऐसा होता था कि जिम जाकर किसी वक्त वहां के वाटर कूलर से पानी पी सकते थे या फिर अपनी बॉटल को कैजुअली हम किसी भी सरफेस पर रख देते थे, लेकिन ये अब सुरक्षित नहीं होगा। अपना टॉवल, बॉटल, ग्लव्ज आदि सब कुछ अलग रखें और जिम के लॉकर का इस्तेमाल भी न करें।
बीमार हों तो कभी न जाएं
अगर आपको किसी भी तरह की परेशानी महसूस हो रही है तो बिल्कुल भी जिम न जाएं। बुखार, सर्दी, खांसी, सिरदर्द, सांस लेने में दिक्कत, स्वाद या खुशबू महसूस न होना, पैरों में अकड़न आदि कोई भी लक्षण दिख रहा है तो जिम न जाएं और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें।

अगर करना हो पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल

अब लोग पब्लिक ट्रांसपोर्ट का यूज करने लगे हैं तो ऐसे में यह बेहद आवश्यक है कि आप इन पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करते हुए कुछ जरूरी एहतियात बरतें ताकि आप स्वयं को कोरोना संक्रमण से बचा पाएं। अगर आप पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करते हुए कुछ जरूरी बातों का ध्यान नहीं रखती हैं तो इससे आपको कोरोना संक्रमण होने की संभावना काफी बढ़ जाती है। तो चलिए आज हम आपको ऐसी ही कुछ जरूरी बातों के बारे में बता रहे हैं, जिनका ख्याल आपको पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करते हुए रखना चाहिए। पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करते समय इन बातों का रखें ध्यान-
पहनें फेस मास्क
सिर्फ पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करते हुए ही नहीं, बल्कि घर से बाहर निकलते हुए भी कोरोना से सुरक्षा का यह सबसे पहला कदम है। जैसा कि आप जानती हैं कि कोरोनो वायरस श्वसन की बूंदों के माध्यम से फैलता है जो कई दूरी तक यात्रा कर सकता है। ऐसे में जब कोई अपने मुंह या नाक को कवर किए बिना छींकता है या खांसी करता है, तो फेस मास्क पहनने से आपका बचाव होता है। आप फेस मास्क से अपने नाक व मुंह को अच्छी तरह कवर करें। साथ ही घर लौटने के बाद फेस मास्क को अच्छी तरह क्लीन करना ना भूलें।
बनाए रखें सोशल डिस्टेसिंग
अगर आप पब्लिक ट्रांसपोर्ट को यूज कर रही हैं तो सोशल डिस्टेसिंग का खासतौर पर ध्यान रखें। बस स्टॉप या ट्रेन स्टेशन पर कहीं भी लोगों के आसपास इक_ा न हों। वहीं बस, ट्रेन, टैक्सी या ऑटोरिक्शा की प्रतीक्षा करते समय दूसरों से कम से कम 6 फीट की दूरी बनाए रखें। ऐसा करने से अगर कोई अपने फेस को कवर किए बिना खांसता है या छींकता है तो इससे आपके कपड़ों या बैग पर गिरने वाले कोरोनावायरस बूंदों की संभावना कम हो जाएगी। वहीं बस या ट्रेन में ट्रेवल करते हुए साथी यात्रियों से उचित दूरी बनाए रखें। अगर आप टैक्सी या ऑटोरिक्शा का उपयोग कर रही हैं तो इसे अजनबियों के साथ साझा करने से बचें। बल्कि अपने परिचित के साथ ही इसे शेयर करें।
अनावश्यक छूने से बचें
बस स्टॉप या ट्रेन स्टेशन पर रेलिंग, सीट, टिकट खिड़की आदि जगहों पर अनावश्यक स्पर्श से बचें। वाहन के अंदर, आवागमन के दौरान, जहां तक संभव हो सीटों, खिड़कियों, हैंडल, हेडरेस्ट आदि को छूने से बचें। इन सतहों को अक्सर दिन के माध्यम से कई यात्रियों द्वारा छुआ जाता है। यदि उन यात्रियों में से कुछ अस्वस्थ हैं और खांसने या छींकने के बाद सतह को अनचाहे हाथों से छूते हैं तो कोरोनावायरस या अन्य संक्रमण को उस सतह पर स्थानांतरित होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए इन जगहों को ना छुएं और अगर हो सके तो आप डिस्पोजेबल ग्लव्स को जरूर पहनें। ताकि आप स्वयं का संक्रमण से बचाव कर सकें।
हाथों को करें सैनिटाइज
कोरोना संक्रमण से बचने के लिए यात्रा के दौरान आप अपने हाथों को चेहरे पर लगाने से बचें। इसके अलावा जब आप पब्लिक ट्रांसपोर्ट का यूज कर लें तो हाथों को सैनिटाइज जरूर करें। हो सकता है कि आपके पास साबुन व पानी ना हो, इसलिए अपने साथ हमेशा एक सैनिटाइजर रखें और पब्लिक ट्रांसपोर्ट का यूज करने के बाद हाथों को सैनिटाइज जरूर करें।
फोन का इस्तेमाल ना करें
जब भी आप पब्लिक ट्रांसपोर्ट में यात्रा कर रही हों, तो उस समय फोन का इस्तेमाल ना करें। बस या ट्रेन की सतहों को छूने के बाद जब आप अपने फोन को छूती हैं, तो आपके हाथों से कीटाणु फोन तक पहुंच सकते हैं। अगर कोई व्यक्ति बिना मुंह ढंके खांसता या छींकता है, तो उससे निकलने वाली बूंदें भी फोन पर गिर सकती हैं।
ग्रुप में यात्रा ना करें
ग्रुप में यात्रा ना करें और अगर करनी भी हो तो अपने साथी यात्रियों के साथ कुछ खाने या किसी भी तरह का गेम खेलने से बचें।
सामान को सीट पर ना रखें
यात्रा करते समय अपने बैग, हैंडबैग, टिफिन, छाता इत्यादि को फर्श, ओवरहेड रैक या अपने बगल की खाली सीट पर ना रखें। अगर आप बच्चे के साथ सफर कर रही हैं तो बैग को अपने हाथों में ही रखें और अपने गंतव्य स्थान पर पहुंचने के बाद उन्हें साफ करें।
कपड़े और दूसरे सामानों को साफ करें
अतिरिक्त सावधानी बरतते हुए ट्रांसपोर्ट के दौरान अपने साथ बाहर ले जाने वाली सभी वस्तुओं को अच्छी तरह से साफ करें। इसमें आपके कपड़े, स्कार्फ, जैकेट, बैग, छाता, मोबाइल फोन, वॉलेट आदि शामिल हैं।

शॉपिंग के बाद आएं घर तो क्या करें

घर के रोजमर्रा के सामान की खरीददारी के बाद वापिस लौटकर आप कुछ बातों का विशेष रूप से ध्यान दें। शॉपिंग करने के बाद जब आप घर लौटती हैं तो ऐसे में आपको घर में आने के बाद व किसी भी सामान को छूने से पहले कुछ सेफ्टी टिप्स को फॉलो करना चाहिए। तो चलिए जानते हैं इन सेफ्टी टिप्स के बारे में। इन सेफ्टी टिप्स को जरूर करें फॉलो-
हाथों को करें सैनिटाइज
जब आप घर से बाहर होती हैं तो यकीनन आप कई तरह की चीजों को छूती होंगी। ऐसे में यह जरूरी है कि आप घर में घुसने से पहले ही हाथों को सैनिटाइज कर लें। बेहतर होगा कि आप अपनी पॉकेट में एक सैनिटाइजर रखें और घर की बेल बजाने से पहले हाथों पर सैनिटाइजर को अप्लाई करें। इसके अलावा जब आप बाहर हों तो अपने हाथों से अपना चेहरा छूने से बचें।
फर्श पर रखें सामान
किराने की थैली आपकी चाबियां, पर्स और मोबाइल, वायरस के लिए उपयुक्त स्थान हैं और वे उन पर कई घंटों तक रह सकते हैं। इसलिए यह सलाह दी जाती है कि इन वस्तुओं को अपने स्थान पर बिना डिसइंफेक्ट किए न रखें। किराने की थैलियों को रसोई काउंटर पर रखने से पहले उनका अच्छी तरह से कीटाणुरहित होना चाहिए।
कपड़े करें चेंज
जब आप बाहर से शॉपिंग करके लौटें तब आप सबसे पहले अपने फुटवियर को बाहर निकालें और सीधे बाथरूम में जाएं। सबसे पहले अपने कपड़ों को गर्म पानी और साबुन की बाल्टी में रखें। इसके बाद आप खुद भी अच्छी तरह नहाकर दूसरे धुले हुए कपड़े पहनें। ध्यान रखें कि आपके फुटवियर कुछ घंटों के लिए ऐसे ही बाहर रहें और जब आप उन्हें दोबारा शू रैक में रखें तो पहले उस पर डिसइंफेक्टेंट को जरूर अप्लाई करें।
जरूर धोएं क्लॉथ मास्क
घर लौटने के बाद क्लॉथ मास्क धोना बेहद जरूरी है। दरअसल जब आप बाहर होती हैं तो आपकी सांस की बूंदों से लेकर खांसने व छींकने पर कीटाणु आपके मास्क में ही होते हैं। इस प्रकार हर बार इस्तेमाल के बाद गर्म पानी और साबुन की मदद से इन मास्क को धोना आवश्यक है।
डिस्पोजेबल थैली को करें बाहर
द जर्नल ऑफ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन के अनुसार, अगर आप डिस्पोजेबल किराने की थैली का उपयोग करती हैं तो घर में आने के बाद इसे बाहर कर दें। रियूजेबल थैलियों को बाद में उपयोग के लिए रखा जा सकता है, लेकिन उन्हें डिसइंफेक्ट करना ना भूलें। वहीं यदि आप प्लास्टिक या डिस्पोजेबल बैग में अपनी किराने का सामान लाई हैं, तो उन्हें खाली करने के तुरंत बाद उन्हें हटा दें।

 

कोरोना वायरस से बचाव के लिए ज्‍वेलरी की सफाई भी है बेहद जरूरी

जॉर्जिया स्टेट यूनिवर्सिटी के एक 2018 अध्ययन में पता चला है कि रिंग्स एक संरक्षित क्षेत्र है जिसमें बैक्टीरिया आसानी से पनप सकते हैं। चाहे आप अपने हाथ धो रहे हों या नहा रहे हों, सुनिश्चित करें कि आप अपनी ज्वेलरी को भी अच्छे से साफ करें। अब जब हम जानलेवा कोरोनावायरस के खिलाफ खुद को बचाने के लिए अतिरिक्त सतर्क हो रहे हैं तो हमें अपनी ज्वेलरी की सफाई पर भी अधिक ध्यान देने की जरूरत है।
सैनिटाइजर के इस्तेमाल से बचें
माना कि हाथों को साफ करने के लिए अल्कोहल बेस सैनिटाइजर बहुत अच्छा है लेकिन इस तरह के अल्कोहल बेस्ड हैंड रब से ज्वेलरी को साफ करना, उन्हें खराब कर सकता है। विशेष रूप से रत्नों पर सैनिटाइजर का उपयोग करने से बचें, क्योंकि यह सतह को नुकसान पहुंचा सकता है। मैं ऐसा इसलिए भी कह रही हूं क्योंकि मेरे साथ ऐसा हुआ है। मेरी मोती वाली रिंग को अल्कोहल वाले सैनिटाइजर से साफ करने पर उसकी ऊपरी परत बिल्कुल उतर गई।
गुनगुने पानी से धोएं
ज्वेलरी को साफ करने का एक सबसे अच्छा तरीका माइल्ड सोप है। इसके लिए ज्वेलरी को उतारकर अलग से साबुन और गर्म पानी में धोएं और फिर इसे सूखने के लिए रख दें।
हैवी ज्वैलरी पहनने से बचें
महिलाओं को ज्वेलरी पहनना बहुत पसंद होता है। खासतौर पर उन्हें हैवी ज्वेलरी पहनना बहुत अच्छा लगता है लेकिन लॉकडाउन के दौरान घर में रहते हुए कम से कम ज्वेलरी पहनना सही रहता है। इसके अलावा घर में स्टोन की ज्वेलरी पहनने से बचें, क्योंकि इन्हें साफ करना बहुत मुश्किल हो सकता है।
हाथों को धोने से पहले अपने गहनों को उतार दें
आपको अपने हाथों को सैनिटाइज करने या धोने से पहले रिंग्स, घड़ी और ब्रेसलेट्स जैसी सभी ज्वेलरी को हटाना याद रखना होगा। जर्म्स साबुन और यहां तक कि लोशन ज्वेलरी खासतौर पर स्टोन और डायमंड में इक_ा होकर इन्फेक्शन का कारण बनते हैं। इसलिए उन्हें उतारने और पहनने से पहले धो लें।

टेक्नीशियन अगर घर आए, तो इन सेफ्टी टिप्स का रखें ध्यान

घर में रहते हुए कभी ना कभी कोई इलेक्ट्रॉनिक आइटम खराब हो जाती है और फिर रिपेयरिंग के लिए किसी को बुलाना ही पड़ता है। इलेक्ट्रॉनिक आइटम को ठीक करवाना भी जरूरी होता है। इस स्थिति में आप कुछ सेफ्टी टिप्स को फॉलो करते हुए अपने घर को कोरोना संक्रमण से सुरक्षित रख सकती हैं और अपना काम भी करवा सकती हैं। तो चलिए जानते हैं उन सेफ्टी टिप्स के बारे में-
जरूर पहना हो मास्क
जब भी टेक्नीशियन आपके घर आए तो यह जरूरी है कि आप यह देखें कि उसने मास्क अच्छी तरह पहना हुआ हो और मास्क से उसके नाक और मुंह अच्छी तरह कवर हों। अक्सर ऐसा होता है कि लोग मास्क लगा तो लेते हैं लेकिन उसे पूरी तरह कवर नहीं करते या फिर गले में टांग लेते हैं।
हाथों को करें सैनिटाइज
जब कोई आपके घर आ रहा है तो आपको यह जानकारी नहीं है कि वह इससे पहले किन लोगों के संपर्क में आया था। इसलिए जब भी टेक्नीशियन आपके घर आए तो आप उसके घर में दाखिल होने से पहले ही उसके हाथों को सैनिटाइज करने के लिए कहें। अगर उनके पास सैनिटाइजर है तो बहुत अच्छा, अन्यथा आप भी दूर से ही सैनिटाइजर उनके हाथों पर डाल सकती हैं।
बनाएं रखें दूरी
जितना संभव हो उतना उसके साथ बातचीत को कम करने की कोशिश करें। साथ ही, उससे 6 फीट की दूरी बनाए रखें और परिवार के अन्य सदस्यों को दूसरे कमरे में रहने के लिए कहें। अनावश्यक रूप से वहां पर खड़े ना हों और औजार या अन्य सामान पकड़ाने से बचें। अगर किसी चीज की जरूरत भी हो तो सीधे हाथों में देने की जगह आप उसे रख दें और उन्हें उठाने के लिए कहें।
करें क्लीनिंग
जब एक बार टेक्नीशियन आपके घर से चला जाए तो घर को डिसइंफेक्ट करना बेहद जरूरी हो जाता है। आप उन कमरों या क्षेत्रों को साफ और कीटाणुरहित करें जहां टेक्नीशियन ने काम किया था। इसके अलावा उन सभी चीजों को ट्रैक करें जिन्हें उन्होंने छुआ था और सभी हाई टच सरफेस एरिया जैसे कि स्विच, दरवाजे के हैंडल, खिड़की के हैंडल, एसी रिमोट, टेबल, कुॢसयां और नल को डिसइंफेक्ट करना ना भूलें। एक बार पूरे एरिया को क्लीन और डिसइंफेक्ट करने के बाद ही आप उन चीजों को दोबारा इस्तेमाल करें।

कोरोना वायरस के खतरे के बीच कैसे करवाएं हेल्थ चेकअप और टेस्‍ट

अगर आपको किसी तरह की चेकअप की जरूरत आन पड़े तो आपके लिए उसे करवाना बहुत जरूरी हो जाता है। वहीं, अगर हम रूटीन चेकअप की बात करें तो इसे भी लंबे समय तक टालना सही नहीं होगा। ऐसे में अपने डॉक्टर से मिलने के लिए आपको कुछ सावधानियां बरतनी होंगी। तो चलिए हम आपको बताते हैं उन टिप्स के बारे में जिन्हें अपनाकर आप सुरक्षित रह सकती हैं।
डॉक्टर से पहले अपॉइंटमेंट लें
अपने डॉक्टर से मिलने से पहले अपॉइंटमेंट जरूर लें, बिना अपॉइंटमेंट के अस्पताल या क्लीनिक ना जाएं। ऐसा हो सकता है कि आप नियमित रूप से जिस अस्पताल या क्लीनिक में अपना इलाज या चेकअप करवाती हैं, वहां किसी कारण सब बंद हो और उस अस्पताल या क्लीनिक में डॉक्टर आपसे ना मिल पाएं। वैसे भी इन दिनों कई जगहों को सील किया जा रहा है, इसलिए डॉक्टर से मिलने की जगह का पता पहले ही लगा लें तभी बाहर निकलें। साथ ही, यह भी पता कर लें कि डॉक्टर आपसे किस समय मिल पाएंगे। अगर आपके डॉक्टर टेली कंसल्टेशन सर्विस देते हैं और वर्चुअल चेकअप संभव है, तो उनसे आमने-सामने बातचीत करने से बचना ही बेहतर होगा। अगर आपके डॉक्टर आपको व्यक्तिगत रूप से मिलने को कहते हैं, तो ऐसे में उनसे मिलने के दौरान इन तरीकों को अपनाकर अपनी सुरक्षा सुनिश्चित कर सकती हैं।
बाकी मरीजों के संपर्क में आने से बचें
जब आप अस्पताल या क्लीनिक में हों, तो कोशिश करें कि वहां मौजूद अन्य मरीजों से आपका किसी तरह का कोई संपर्क ना हो। बैठने या खड़े होने की जगह पर समुचित दूरी बनाकर रखें।
फेस मास्क जरूर पहनें  
जब आप सार्वजनिक स्थान पर हैं तो उस समय अपने मुंह और नाक को हमेशा ढंककर रखें। फेस मास्क को सही ढंग से पहने। ऐसा फेस मास्क पहनें, जिससे मुंह और नाक दोनों अच्छी तरह से ढंक जाए। अगर मास्क ढीली हो गई है या फट गई है, तो इसे ना पहनें। कपड़े के मास्क को हर बार इस्तेमाल के बाद जरूर धोएं। अगर आप डिस्पोजेबल मास्क का इस्तेमाल कर रही हैं, तो यह सुनिश्चित करें कि आप उसे सुरक्षित डिस्पोज करें।
सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें
अगर हो सके तो डॉक्टर से अकेले ही मुलाकात करें। अपने साथ परिवार के किसी अन्य सदस्य को अस्पताल या क्लीनिक ना लेकर जाएं। 
अगर घर पर करवा रही हैं टेस्ट
अगर आपने ब्लड टेस्ट या किसी अन्य टेस्ट के लिए घर ही किसी लैब तकनीशियन को बुलाया है, तो आते ही उनको पहले हाथों को धोने को कहें फिर उन्हें हैंड सैनिटाइजर दें और उसके सामानों को भी हैंड सैनिटाइज करें। इस दौरान घर के बुजुर्ग या बच्चों को उनके संपर्क में ना आने दें।
टेस्ट रिपोर्ट ऑनलाइन करें शेयर
टेस्ट करवाने के बाद अपनी टेस्ट रिपोर्ट और मेडिकल हिस्ट्री को डॉक्टर के साथ ऑनलाइन शेयर करें। अगर संभव हो सके तो डॉक्टर की फीस के लिए ऑनलाइन पेमेंट का ही सहारा लें।
हाथों को धोते रहें
घर से अस्पताल या क्लीनिक जाने के दौरान आपको लिफ्ट के बटन इत्यादि का इस्तेमाल करना पड़ता है, इसलिए अपने साथ हमेशा हैंड सैनिटाइजर रखें। अस्पताल में किसी भी सतह को छूने के बाद साबुन और पानी से अपने हाथों को धोएं या फिर हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें। डॉक्टर की केबिन में जाने से पहले अपने हाथों को साफ कर लें। वहीं, घर वापस आने के बाद अपने हाथों को साबुन और गुनगुने पानी से कम से कम बीस सेकेंड तक धोएं।

खुद को कोरोना वायरस की चपेट में आने से बचाने के लिए क्या करें और क्या न करें

क्या करें-
1. चाहे पैदल हों या गाड़ी में, घर से बाहर निकलने पर फेस मास्क या शील्ड जरूर लगाएं। 
2. बार-बार हाथ धोने की आदत डालें। साबुन और पानी से हाथ धोएं या अल्कोहल आधारित हैंड रब का इस्तेमाल करें। 
3. साफ दिखने वाले हाथों को निरंतर धोएं।
4. छींकते और खांसते समय अपनी नाक और मुंह को रूमाल या टिशू से ढंकें। 
5. उपयोग किए गए टिशू को उपयोग के तुरंत बाद बंद डिब्बे में फेंकें। 
6. बातचीत के दौरान व्यक्तियों से एक सुरक्षित दूरी बनाए रखें, विशेष रूप से फ्लू जैसे लक्षण दिखने वाले व्यक्तियों के साथ।
7. अपने हाथों की हथेलियों में न खासें। 
8. अपने तापमान को और श्वसन लक्षणों की जांच नियमित रूप से करें। अस्वस्थ्य महसूस करने पर, बुखार, सांस लेने में कठिनाई और खांसी डॉक्टर से मिलने के दौरान अपने मुंह और नाक को ढंकने के लिए मास्क का प्रयोग करें। 
9. खांसने-छींकने वालों से कम से कम 1 मीटर, 3 फीट दूर ही रहिये।
10. व्यक्तिगत स्वच्छता और शारीरिक दूरी बनाए रखें। 
क्या नहीं करें
1. हाथ न मिलाएं।
2. अगर आपको खांसी और बुखार महसूस हो रहा है तो किसी के साथ निकट संपर्क में न आएं। 
3. अपनी आंख, नाक और मुंह को स्पर्ष न करें। 
4. हाथों की हथेलियों में न छीकें और न ही खांसें। 
5. सार्वजनिक रूप से न थूकें। 
6. अनावश्यक यात्रा न करें, विशेषकर प्रभावित इलाकों में। 
7. समूह में न बैठें, बड़े समारोहों में भाग न लें। 
8. जिम, क्लब और भीड़-भाड़वाली जगहों पर न जाएं। 
9. किसी समारोह का हिस्सा बनने से बचें।
10. अगर अस्वस्थ महसूस कर रहे हैं, तो सामाजिक दूरी बनाए रखें। 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

कोरोनावायरस ...

कोरोनावायरस में गर्भवती महिलाओं को किन बातों...

कूलर से रहें...

कूलर से रहें कूल कूल

कोरोना और आप...

कोरोना और आपके बीच सुरक्षा की दीवार है 'फेस-मास्क',...

ऑनलाइन सामान...

ऑनलाइन सामान मंगवाने से पहले, जान लें यह...

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

क्या है वो ख...

क्या है वो खास कारण...

क्या है वो खास कारण जिसकी वजह से ब्यूटी कांटेस्ट में...

ननद का हुआ ह...

ननद का हुआ है तलाक,...

आपसी मतभेद में तलाक हो जाना अब आम हो चुका है। कई बार...

संपादक की पसंद

दुर्लभ मगरगच...

दुर्लभ मगरगच्छ के...

रूस की लग्जरी गैजेटस कंपनी केवियर ने सबसे मंहगा हेडफोन...

शिशु की मालि...

शिशु की मालिश के...

बच्चे के जन्म के साथ ही अधिकांश माँए हर रोज शिशु को...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription