नियम से करती हैं पूजा-पाठ तो ये बातें बनाएंगी आपकी आराधना को पूर्ण

चयनिका निगम

3rd January 2021

पूजा करते हुए दिल से आराधना करना ही जरूरी होता है लेकिन कई बार पूजा-पाठ के कुछ नियम भी याद रखने से इच्छापूर्ति होती है।

नियम से करती हैं पूजा-पाठ तो ये बातें बनाएंगी आपकी आराधना को पूर्ण

घंटों पूजा करती हैं आप? किस लिए? अपनी इच्छापूर्ति के लिए? अगर हां, तो अब घंटों पूजा करने से अच्छा है कि आप पूजा-पाठ से जुड़े कुछ नियम जरूर याद कर लें। ये वो नियम हैं, जो आपकी पूजा को बिलकुल सार्थक कर देंगे। वैसे तो आपकी पूजा-पाठ करने की भावना अच्छी होगी तो फल भी मिलेगा लेकिन इन टिप्स को भूल गईं तो फल बिलकुल वैसा नहीं मिलेगा जैसा मिलना चाहिए। इसलिए पूजा कीजिए भले 5 मिनट लेकिन इन बातों को ध्यान रखिए और गलतियां बिलकुल न कीजिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि पूजा-पाठ के भी कुछ नियम होते हैं। जिनको आमतौर पर लोग नहीं जानते हैं और अनजाने में ही कई गलतियां करते जाते हैं। इन बातों को ध्यान करके आप आपनी पूजा को पूर्ण कर पाएंगी, ये बात पक्की है-

जैसे भगवान, वैसा चढ़ावा-

पूजा-पाठ के नियम कई हैं, इन्हीं में से एक नियम ये है कि भगवान का चढ़ावा भी अलग-अलग होता है। आप एक ही चढ़ावा किसी भी मूर्ति पर नहीं चढ़ाना चाहिए। शिव जी को बेल पत्र चढ़ाए जाते हैं, ये तो आप जानती ही होंगी। लेकिन ये भी जान लीजिए कि विष्णु जी को तुलसी, गणेश जी को हरी दूर्वा, मां दुर्गा को लौंग, सूर्य भगवान को कनेर चढ़ा कर इच्छापूर्ति की कामना की जा सकती है। कुछ चीजें नहीं चढ़ाने का भी नियम है जैसे भगवान विष्णु को चावल, सूर्य को बिल्व पत्र और देवी को दूर्वा नहीं चढ़ाना चाहिए। 

ईशान कोण का ध्यान-

घर में मंदिर अपनी सुविधानुसार अगर बनाया है तो आपको दिशा का ध्यान भी करना होगा। दरअसल पूजा घर हमेशा ईशान कोण में ही होना चाहिए। इसके अलावा किसी भी दिशा में पूजा घर होना भरपूर फल बिलकुल नहीं देगा। 

मूर्तियां कितनी-

हां, ये बात सही है कि आप मंदिर में कितनी भी मूर्तियां रखें, इसमें कोई दिक्कत नहीं है। लेकिन एक ही भगवान की कई मूर्ति होना दिक्कत है। पूजा-पाठ का ये भी नियम हैं कि मंदिर में एक ही भगवान की एक से ज्यादा मूर्ति नहीं होनी चाहिए। 

पूजा में बैठे कैसे-

पूजा करते हुए ऐसे बैठना चाहिए कि आपका मुंह उत्तर या पूर्व दिशा की ओर हो। इसके साथ ही आपकी पीठ कभी पूजा घर की ओर नहीं होनी चाहिए। 

दीपक की दिशा-

पूजा घर में दीपक की दिशा भी तय होती है। माना जाता है कि घी का दीपक दाईं ओर और तेल का दिया बाईं ओर रखने से ही पूजा पूरी होती है। इनकी दिशाएं बदलने का नुकसान ही होता है। इसलिए दिया रखते समय इनकी दिशा जरूर सुनिश्चित कर लें। दिए के साथ धूप रखने की जगह भी निश्चित है। धूप हमेशा पूजा घर में बाईं ओर रखी जानी चाहिए। 

 

ये भी पढ़ें-

अध्यात्म की यात्रा- श्री श्री रविशंकर

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

दिवाली पूजा ...

दिवाली पूजा हो शुभ, जब न हों ये गलतियां

पूजा-पाठ: तु...

पूजा-पाठ: तुलसी पत्तों का इस्तेमाल करें,...

तुलसी की पूज...

तुलसी की पूजा करें लेकिन बिलकुल न भूलें ये...

नवरात्र व्रत...

नवरात्र व्रत की पूजन विधि

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

रम जाइए 'कच्...

रम जाइए 'कच्छ के...

गुजरात का कच्छ इन दिनों फिर चर्चा में है और यह चर्चा...

घट-कुम्भ से ...

घट-कुम्भ से कलश...

वैसे तो 'कुम्भ पर्व' का समूचा रूपक ज्योतिष शास्त्र...

संपादक की पसंद

मां सरस्वती ...

मां सरस्वती के प्रसिद्ध...

ज्ञान की देवी के रूप में प्राय: हर भारतीय मां सरस्वती...

लोकगीतों में...

लोकगीतों में बसंत...

लोकगीतों में बसंत का अत्यधिक माहात्म्य है। एक तो बसंत...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription