मैं भी तेरी तरह थी

कुनिका शर्मा

23rd January 2021

मैं भी तेरी तरह थी

बचपन में यूं तो सभी बच्चे शरारतें करते ही हैं। बड़े होने पर उन शरारतों को याद करने पर खट्टी-मीठी यादें मन को गुदगुदा जाती हैं। बात तब की है जब मेरी उम्र 4 या 5 साल होगी। मुझे बड़ों की देखादेखी चश्मा पहनने का बड़ा शौक था। पापा, मम्मी, बुआ किसी का भी चश्मा लगाकर दर्पण के आगे खड़ी हो जाती। उस दिन छत पर दादीजी कुछ पढ़ते-पढ़ते सो गईं। मैंने आव देखा न ताव, चुपके से उनका चश्मा उतारा और खुद पहन लिया। वह चश्मा नजर वाला था न कि साधारण। उसे लगाए सीढ़ियां उतरी तो दृष्टिभ्रम के कारण सीढ़ी से पैर आगे पड़ गया। फिर क्या था, लुढ़कते हुए नीचे आंगन में आकर गिरी। चोट लगी तो अलग, दादी का चश्मा भी टूट गया। मेरे रोने की आवाज सुनकर घर के लोग दौड़े-दौड़े आए। डांट भी पड़ी। पर दादीजी ने मेरा साथ दिया और मुझे गोद में उठाते हुए कहा, 'तेरी तरह मैं भी शरारती थी!' आज भी इस घटना को याद करती हूं तो आंखों में आंसू आ जाते हैं, क्योंकि मेरी दादीजी अब इस दुनिया में नहीं हैं।

यह भी पढ़ें -नाबालिग अपराधी - गृहलक्ष्मी कहानियां

-आपको यह कहानी कैसी लगी? अपनी प्रतिक्रियाएं जरुर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही आप अपनी कहानियां भी हमें ई-मेल कर सकते हैं- Editor@grehlakshmi.com

-डायमंड पॉकेट बुक्स की अन्य रोचक कहानियों और प्रसिद्ध साहित्यकारों की रचनाओं को खरीदने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://bit.ly/39Vn1ji 



कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

बहुत शर्म आई

बहुत शर्म आई

चूहा स्टोव ग...

चूहा स्टोव गिरा गया

स्वस्थ शरीर ...

स्वस्थ शरीर के लिए प्रकृति का अनंत वरदान...

मां की सीख -...

मां की सीख - गृहलक्ष्मी कहानियां

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

रम जाइए 'कच्...

रम जाइए 'कच्छ के...

गुजरात का कच्छ इन दिनों फिर चर्चा में है और यह चर्चा...

घट-कुम्भ से ...

घट-कुम्भ से कलश...

वैसे तो 'कुम्भ पर्व' का समूचा रूपक ज्योतिष शास्त्र...

संपादक की पसंद

मां सरस्वती ...

मां सरस्वती के प्रसिद्ध...

ज्ञान की देवी के रूप में प्राय: हर भारतीय मां सरस्वती...

लोकगीतों में...

लोकगीतों में बसंत...

लोकगीतों में बसंत का अत्यधिक माहात्म्य है। एक तो बसंत...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription