आपके लिविंग रूम में उग सकते हैं ये फल देने वाले 7 पेड़

Sonal Sharma

26th January 2021

आपको इसके लिए बौने फलों वाले पेड़ की किस्म तलाशनी होगी, जो इसकी संभावित उपज को कम किए बिना छोटे और कॉम्पैक्ट में रहने के लिए तैयार हैं।

आपके लिविंग रूम में उग सकते हैं ये फल देने वाले 7 पेड़

Indoor Fruit Plants

क्या आप जानते हैं कि आप कहीं भी इंडोर फलों के पेड़ उगा सकते हैं? अपने घर की सुंदरता को बढ़ाने के अलावा, बौने फलों के पेड़ को उगाने से आपके परिवार के लिए ताजे फल भी मिलते हैं और घर के लिए स्वच्छ हवा फैलाने में मदद करते हैं। आप घर के अंदर फलदार पेड़ उगा सकते हैं, लेकिन सभी पेड़ों को घर के अंदर उगाने के लिए नहीं होते हैं। आपको इसके लिए बौने फलों वाले पेड़ की किस्म तलाशनी होगी, जो इसकी संभावित उपज को कम किए बिना छोटे और कॉम्पैक्ट में रहने के लिए तैयार हैं।

हालांकि सिर्फ इसीलिए कि यह एक बौना पेड़ है, इसका मतलब यह नहीं कि यह घर के अंदर रखने के लिए पर्याप्त है। नियमित रूप से छंटाई करना पेड़ को बनाए रखने के लिए ज़रूरी है ताकि वह आकार में रहे और यह घर के अंदर उगने वाले फलों के लिए उचित हो। यहां आप जान पाएंगे कि आखिर कौन-से फल घर के अंदर उगाये जा सकते हैं और उनकी देखभाल कैसे करें। सभी पेड़ों को पर्याप्त देखभाल, सूर्य की रोशनी, हवा की आवश्यकता होती है।

मेयेर लेमन

इंडोर उगाने के लिए मेयर लेमन ट्री को चुनें। मेयर लेमन ट्री घर के अंदर उगाने के हिसाब से सबसे अच्छे और अनुकूल होते हैं। ये कई सारे छोटे या मीडियम फल देते हैं और इनका मेंटेनेंस लेवल शुरुआत कर रहे लोगों के लिए काफी आसान होता है। पेड़ 6 से 10 फीट ऊंचाई तक पहुंचता है। सुनिश्चित करें कि आप प्रत्येक दिन के छह घंटे धूप आने वाले स्थान को चुनें। सभी खट्टे पेड़ों की तरह, मेयेर नीबू को अच्छी तरह से सूखा रखने वाली मिट्टी की ज़रूरत होती है। मिट्टी पूरी तरह से सूखी नही होनी चाहिए।

लाइम ट्री


आपके पास बौने लाइम ट्री के लिए दो लोकप्रिय विकल्प हैं- की लाइम और काफिर लाइम। दोनों ही इंडोर स्पेस के लिए बढ़िया विकल्प है, लेकिन कुछ महत्वपूर्ण अंतर है। की लाइम की बौनी किस्म असाधारण रूप से अच्छी तरह से अंदर बढ़ती है। काफिर लाइम ट्री अच्छी तरह से ज्ञात नहीं है लेकिन जब थोड़ी कड़वाहट की ज़रूरत होती है तो उन्हें पाक व्यंजनों में इस्तेमाल किया जाता है। यह एक सुगंधित विकल्प है। इसके रस और छाल में खुश्बू होती है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कौन-सी वैराइटी लेते हैं, दोनों को पूरी तरह सूर्य की रोशनी की ज़रूरत होती है। उन्हें गर्म तापमान पसंद है और आप उन्हें गर्मी के दिनों में बाहर भी रख सकते हैं।

फिग ट्री

फिग यानी अंजीर को बाहर बढ़ने के लिए बहुत गर्म मौसम की ज़रूरत होती है। इसलिए वे ज्यादातर गार्डनर्स के लिए बेहतर इंडोर फ्रूट ट्री के रूप में पसंद किए जाते हैं जो कि सबट्रॉपिकल क्लाइमेट में नहीं रहते हैं। इसकी कुछ किस्म उगाने के लिए अधिक अनुकूल हैं, जैसे कि ब्राउन टर्की अंजीर, क्योंकि यह एक सेल्फ-पोलिनेटिंग ट्री है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप अंजीर के किस वैरिएशन को चुनते हैं, उन्हें आर्द्र वातावरण की ज़रूरत होती है। सुनिश्चित करें कि आप कंटेनर को चिकनी बलुई मिट्टी से भर दें और इसे ऐसे स्थान पर रखें जहां सूर्य की पर्याप्त रोशनी पड़े। अपने पेड़ के लिए प्रत्येक दिन 6-8 घंटे की धूप सुनिश्चित करें। फिग ट्री को बिलकुल भी ठंड पसंद नहीं है। उन्हें सर्दियों के दौरान हवादार दरवाजों और खिड़कियों से दूर रखें जो कि शायद ठंडी हों।

सुनिश्चित करें कि आप सप्ताह में एक बार पेड़ को पानी दें। तब तक पानी दें जब तक कि जल निकासी छेद से पानी बाहर न आने लगे। आपको नियमित रूप से छंटाई करने की भी ज़रूरत होगी।

ऑलिव ट्री


ज्यादातर लोग ऑलिव यानी जैतून को एक फल नहीं मानते हैं क्योंकि इसमें मिठास नहीं है, लेकिन ये पेड़ इनडोर फलों के पेड़ के लिए एक उत्कृष्ट विकल्प बनाते हैं। ऑलिव ट्री अन्य की तरह ज़रूरतमंद नहीं हैं, इसलिए उनकी अंदर देखभाल आसान है। सभी जैतून के पेड़ प्रत्येक दिन कम से कम 6-8 घंटे की धूप के साथ अच्छी तरह से सूखी मिट्टी और सूर्य के प्रकाश को पसंद करते हैं। इनडोर ऑलिव ट्री को केवल तब पानी देने की ज़रूरत होती है जब मिट्टी का ऊपरी सिरा सूख जा है। ऑलिवेकिना नाम के ऑलिव ट्री को देखें क्योंकि यह कंटेनरों के लिए अनुकूल है।

यह एक धीमी गति से बढ़ने वाली किस्म है जो इसके पत्तों के ज़रिए पानी को टपकाएगा, इस प्रक्रिया को वीपिंग कहते हैं।

एप्रिकोट ट्री


आप एप्रिकोट से जैम बना सकते हैं या फिर इसका इस्तेमाल डिज़र्ट में कर सकते हैं। कौन नहीं चाहेगा कि ये फल घर के अंदर उगे? एप्रिकोट की बौनी किस्म के लिए बहुत सारे विकल्प नहीं है। मूरपार्क का पेड़ सबसे लोकप्रिय है, औतमौत पर केवल छह फीट लंबा होता है। पेड़ को छोटा और कॉम्पैक्ट रखने के लिए आपको इसकी नियमित रूप से छंटाई करनी होगी।

एप्रिकोट ट्री को एक स्नग कंटेनर में उगाया जाना चाहिए, जिसमें अच्छी तरह सूखी हुई मिट्टी हो। पेड़ को दक्षिण मुखी खिड़की के पास रखने की कोशिश करें क्योंकि यह सूर्य की रोशनी की सबसे अधिक मात्रा देता है। एप्रिकोट को नियमित रूप से पानी चाहिए और पानी के बीच मिट्टी को सूखने न दें।

पीच ट्री


अधिकांश लोग सोच नहीं नहीं पाते हैं कि ताजे पीच यानी आडू घर के अंदर भी उग सकते हैं, लेकिन आप ऐसा कर सकते हैं। आपको केवल एक बौना पेड़ चुनना होगा जो स्वयं परागण करता हो। पीच ट्री को बड़े पॉट और चिकनी बलुई मिट्टी में उगाया जाता है। पेड़ को नियमित रूप से निषेचित करने और प्रतिदिन कम से कम छह घंटे धूप देने की आवश्यता होती है।

घर में उगाने वाला एक लोकप्रिय पीच ट्री ‘गोल्डन ग्लोरी' है। यह प्राकृतिक बौना किस्म का है जो कि घर के अंगर या आंगन में बेहतर तरीके से उगता है।

बनाना ट्री


ये पेड़ खूब लंबे हो जाते हैं, अगर आप इनकी नियमित छंटाई नहीं करते हैं। बाहर उगने वाले केले के पेडों की अविश्वसनीय ऊंचाई होती है। आपको बौना किस्म चुनना होगा, जिसे आप घर में उगा सकते हैं। अंदर उगने के लिए सबसे लोकप्रिय विकल्प है लेडी फिंगर बनाना ट्री। यह पेड़ आमतौर पर चार फीट लंबे होते हैं, जिसमें छोटे केले उगते हैं। चूंकि केले ट्रॉपिकल पौधे होते हैं, तो इन पेड़ों को प्रत्येक दिन 6 से 8 घंटे की सूर्य की रोशनी पाने के लिए बहुत अधिक नमी और धूप की ज़रूरत होती है।

भारत के अलग-अलग राज्यों की मशहूर 10 बेस्ट बिरयानी रेसिपी

गुस्सैल पति को ऐसे करें हैंडल, काम आएंगे ये 8 टिप्स: Husband Control Tips

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

8 पौधे जो आप...

8 पौधे जो आपके घर के फ्रंट डोर की खूबसूरती...

10 हाईटेक गा...

10 हाईटेक गार्डन गैजेट्स के बारे में ज़रूर...

ज़ीरो बजट मे...

ज़ीरो बजट में तैयार करें किचन गार्डन

इन घरेलू चीज...

इन घरेलू चीजों का शानदार इस्तेमाल करें गार्डन...

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

रम जाइए 'कच्...

रम जाइए 'कच्छ के...

गुजरात का कच्छ इन दिनों फिर चर्चा में है और यह चर्चा...

घट-कुम्भ से ...

घट-कुम्भ से कलश...

वैसे तो 'कुम्भ पर्व' का समूचा रूपक ज्योतिष शास्त्र...

संपादक की पसंद

मां सरस्वती ...

मां सरस्वती के प्रसिद्ध...

ज्ञान की देवी के रूप में प्राय: हर भारतीय मां सरस्वती...

लोकगीतों में...

लोकगीतों में बसंत...

लोकगीतों में बसंत का अत्यधिक माहात्म्य है। एक तो बसंत...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription