हमारी कल्पना की उपज है 'डर'

कैरमल नायर

30th January 2021

डर को हराने का एकमात्र तरीका इसका सामना करना है। जितना अधिक आप अपने डर का सामना करते हैं, उतना ही सहज आप उसके साथ हो जाते हैं। इससे भय का नियंत्रण आप पर कम होगा...

हमारी कल्पना की उपज है 'डर'

डर क्या है- डर एक कथित खतरे के प्रति आपकी एक ऐसी प्रतिक्रिया है, जिसकी कल्पना आप खुद कर लेते हैं। दरअसल, डर हमें रोकता है, स्वतंत्र रूप से जीना असंभव बनाता है, हमें काफी हद तक अहसज और पंगु बनाता है और फिर हमें बार-बार डराता है। ऐसी अवस्था में हम या तो उन चीजों को करना बंद कर देते हैं, जिनसे हमें डर लगता है और खुद को हारा हुआ महसूस करते हैं या दूसरी सूरत में हम ऐसी स्थितियों से बस बचने की कोशिश करते हैं यानि उनका सामना करने से डरते हैं। मूल रूप से हम संभावित पलायन से बचने के लिए पलायनवादी दृष्टिकोण या परिहार रणनीति को अपनाते हैं जो कि 99 फीसदी हमारी कल्पना पर आधारित होती है।

क्यों सताता है डर

अब पुराने समय में अधिकांश भय वास्तविक समय की स्थितियों से काफी अलग हुआ करते थे, जैसे कि हमारे पूर्वज जब शिकार करने के लिए जाते थे- तो उन्हें एक शिकारी द्वारा हमला किए जाने का डर हमेशा सताता रहता था। उन्हें डर रहता था कि कहीं पर कोई किसी भी क्षण उन पर हमला कर सकता है और वो हमेशा सतर्क रहते थे और भागने के लिए हमेशा तैयार रहते थे। साफतौर पर इसका मतलब यही है कि हमारा शरीर या तो युद्ध के लिए तैयार था या फिर खतरे को सामने पाकर दौड़ने के लिए। लेकिन अब समय बदल गया है और जीवन में दिन-ब-दिन बढ़ रहे विकास के साथ, हमारे डर भी विकसित हुए हैं। 

आशंकाओं पर विजय पाएं

वर्तमान सदी में ज्यादातर डर हमारी कल्पनाओं पर निर्भर करता है, जैसे कि हमें डर लगता है सार्वजनिक बोलने से। इसके अलावा ऊंचाइयों, उड़ान, ड्राइविंग, भविष्य और अतीत से जुड़ी बातों जैसे दर्दनाक तनावपूर्ण घटनाओं या यहां तक कि अस्वीकृति या आलोचना का डर, असफलता या हानि का डर, अपर्याप्त दिखने का डर आदि। जाहिर है कि हमारी कुछ आशंकाएं पूर्ण होती हैं और कुछ पूर्वनिर्धारित होने के कारण पूर्ण नहीं हो पाती हैं। अब अगर हमारे माता-पिता कुत्तों से डरते हैं, तो हम भी कहीं न कहीं उस डर की भावना से दूर नहीं रह सकते हैं। हम किसी खास चीज़ को सोचकर जब खराब परिणाम की कल्पना करते हैं और यह हमारी वास्तविकता को बाधित करता है। यह हमारे फैसले को बदल देता है और हमें डराने लगता है। डर एक ऐसी विचारधारा है, जिसे हम वास्तव में पसंद करते हैं, प्यार करते हैं या करना चाहते हैं। लेकिन अगर हम इन स्थितियों को सिर्फ एक स्थिति के रूप में कल्पना करते हैं और इससे उत्पन्न होने वाले परिणामों को स्वीकार करने के लिए खुले हैं, तो भय को नकारा जा सकता है। 

डर का मनोविज्ञान

मनोविज्ञान में विभिन्न दृष्टिकोणों के माध्यम से डर का सामना किया जाता है। एक चिकित्सक के रूप में मैंने अपने मरीजों की मदद के लिए व्यवस्थित डीसेंसिटाइजेशन, एक्सपोजर, फ्लडिंग आदि तकनीकों का उपयोग किया है। दरअसल, जब आप धीरे-धीरे वास्तविक समय की भयभीत स्थिति के लिए खुद को उजागर करना शुरू करते हैं, तो आप देखेंगे कि नतीजा उतना बुरा भी नहीं है जैसा कि आपने होने की कल्पना की थी। 99 बार परिणाम सकारात्मक होगा। एक तंत्र जिसे मैंने मरीजों के साथ काम करने के वर्षों के अनुभव के साथ विकसित किया है, उसे एसीटी कहा जाता है। आइए समझते हैं कि ये कैसे काम करता है-

ए यानि अवेयरनेस (आपके शरीर में उस प्रतिक्रिया के बारे में पता चलता है, जो आपके दिल की धड़कन को बढ़ा देती है, जैसे की गर्मी के कारण पसीना न आना, सांस लेने में कठिनाई, चक्कर आना आदि।)

सी से तात्पर्य शांत करने की तकनीक से है। एक बार जब आप रासायनिक प्रतिक्रिया से अवगत हो जाते हैं तो आपके विचार आपके शरीर पर प्रकाश डालते हैं और एक शांत तकनीक को अपनाते हैं, जैसे कि उल्टा गिनना, सांस लेना और सांस छोड़ना, गायन करना, रोकना या एक प्रार्थना या मंत्र का जाप करके या एक सुखद दृश्यों की कल्पना करना है।

टी का अर्थ है टास्क (अंतिम कार्य को शांत करने के बाद, एक समय में एक धीमे और धीरे-धीरे प्रदर्शन के माध्यम से भयभीत कार्य करना है। उदाहरण के लिए, यदि आप सार्वजनिक बोलने से डरते हैं, तो भीड़ की अनुपस्थिति में मंच पर जाएं और पूर्वाभ्यास करें और अंत में किसी बड़े मौके पर, जागरूक बनें, अपने विचारों को शांत करें और मंच पर जाएं और भीड़ को कुछ पंक्तियां बोलें यदि पूरी बोली नहीं। भयभीत कार्य करके अपने आपको उजागर करें। जैसा आप कर रहे हैं। आप समय के साथ बेहतर और अधिक लाइनें बोलना शुरू कर देंगे जिससे जनता के बीच बोलने का डर खत्म हो जाएगा) आप भी इसे आजमा सकते हैं। 

यह भी पढ़ें -मन और तन कीजिए स्वस्थ साउंड हीलिंग थेरेपी से



डर क्या है- डर एक कथित खतरे के प्रति आपकी एक ऐसी प्रतिक्रिया है, जिसकी कल्पना आप खुद कर लेते हैं। दरअसल, डर हमें रोकता है, स्वतंत्र रूप से जीना असंभव बनाता है, हमें काफी हद तक अहसज और पंगु बनाता है और फिर हमें बार-बार डराता है। ऐसी अवस्था में हम या तो उन चीजों को करना बंद कर देते हैं, जिनसे हमें डर लगता है और खुद को हारा हुआ महसूस करते हैं या दूसरी सूरत में हम ऐसी स्थितियों से बस बचने की कोशिश करते हैं यानि उनका सामना करने से डरते हैं। मूल रूप से हम संभावित पलायन से बचने के लिए पलायनवादी दृष्टिकोण या परिहार रणनीति को अपनाते हैं जो कि 99 फीसदी हमारी कल्पना पर आधारित होती है।


क्यों सताता है डर

अब पुराने समय में अधिकांश भय वास्तविक समय की स्थितियों से काफी अलग हुआ करते थे, जैसे कि हमारे पूर्वज जब शिकार करने के लिए जाते थे- तो उन्हें एक शिकारी द्वारा हमला किए जाने का डर हमेशा सताता रहता था। उन्हें डर रहता था कि कहीं पर कोई किसी भी क्षण उन पर हमला कर सकता है और वो हमेशा सतर्क रहते थे और भागने के लिए हमेशा तैयार रहते थे। साफतौर पर इसका मतलब यही है कि हमारा शरीर या तो युद्ध के लिए तैयार था या फिर खतरे को सामने पाकर दौड़ने के लिए। लेकिन अब समय बदल गया है और जीवन में दिन-ब-दिन बढ़ रहे विकास के साथ, हमारे डर भी विकसित हुए हैं। 

आशंकाओं पर विजय पाएं

वर्तमान सदी में ज्यादातर डर हमारी कल्पनाओं पर निर्भर करता है, जैसे कि हमें डर लगता है सार्वजनिक बोलने से। इसके अलावा ऊंचाइयों, उड़ान, ड्राइविंग, भविष्य और अतीत से जुड़ी बातों जैसे दर्दनाक तनावपूर्ण घटनाओं या यहां तक कि अस्वीकृति या आलोचना का डर, असफलता या हानि का डर, अपर्याप्त दिखने का डर आदि। जाहिर है कि हमारी कुछ आशंकाएं पूर्ण होती हैं और कुछ पूर्वनिर्धारित होने के कारण पूर्ण नहीं हो पाती हैं। अब अगर हमारे माता-पिता कुत्तों से डरते हैं, तो हम भी कहीं न कहीं उस डर की भावना से दूर नहीं रह सकते हैं। हम किसी खास चीज़ को सोचकर जब खराब परिणाम की कल्पना करते हैं और यह हमारी वास्तविकता को बाधित करता है। यह हमारे फैसले को बदल देता है और हमें डराने लगता है। डर एक ऐसी विचारधारा है, जिसे हम वास्तव में पसंद करते हैं, प्यार करते हैं या करना चाहते हैं। लेकिन अगर हम इन स्थितियों को सिर्फ एक स्थिति के रूप में कल्पना करते हैं और इससे उत्पन्न होने वाले परिणामों को स्वीकार करने के लिए खुले हैं, तो भय को नकारा जा सकता है। 


डर का मनोविज्ञान

मनोविज्ञान में विभिन्न दृष्टिकोणों के माध्यम से डर का सामना किया जाता है। एक चिकित्सक के रूप में मैंने अपने मरीजों की मदद के लिए व्यवस्थित डीसेंसिटाइजेशन, एक्सपोजर, फ्लडिंग आदि तकनीकों का उपयोग किया है। दरअसल, जब आप धीरे-धीरे वास्तविक समय की भयभीत स्थिति के लिए खुद को उजागर करना शुरू करते हैं, तो आप देखेंगे कि नतीजा उतना बुरा भी नहीं है जैसा कि आपने होने की कल्पना की थी। 99 बार परिणाम सकारात्मक होगा। एक तंत्र जिसे मैंने मरीजों के साथ काम करने के वर्षों के अनुभव के साथ विकसित किया है, उसे एसीटी कहा जाता है। आइए समझते हैं कि ये कैसे काम करता है-

ए यानि अवेयरनेस (आपके शरीर में उस प्रतिक्रिया के बारे में पता चलता है, जो आपके दिल की धड़कन को बढ़ा देती है, जैसे की गर्मी के कारण पसीना न आना, सांस लेने में कठिनाई, चक्कर आना आदि।)

सी से तात्पर्य शांत करने की तकनीक से है। एक बार जब आप रासायनिक प्रतिक्रिया से अवगत हो जाते हैं तो आपके विचार आपके शरीर पर प्रकाश डालते हैं और एक शांत तकनीक को अपनाते हैं, जैसे कि उल्टा गिनना, सांस लेना और सांस छोड़ना, गायन करना, रोकना या एक प्रार्थना या मंत्र का जाप करके या एक सुखद दृश्यों की कल्पना करना है।

टी का अर्थ है टास्क (अंतिम कार्य को शांत करने के बाद, एक समय में एक धीमे और धीरे-धीरे प्रदर्शन के माध्यम से भयभीत कार्य करना है। उदाहरण के लिए, यदि आप सार्वजनिक बोलने से डरते हैं, तो भीड़ की अनुपस्थिति में मंच पर जाएं और पूर्वाभ्यास करें और अंत में किसी बड़े मौके पर, जागरूक बनें, अपने विचारों को शांत करें और मंच पर जाएं और भीड़ को कुछ पंक्तियां बोलें यदि पूरी बोली नहीं। भयभीत कार्य करके अपने आपको उजागर करें। जैसा आप कर रहे हैं। आप समय के साथ बेहतर और अधिक लाइनें बोलना शुरू कर देंगे जिससे जनता के बीच बोलने का डर खत्म हो जाएगा) आप भी इसे आजमा सकते हैं। 

यह भी पढ़ें -



कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

सोच-समझकर कर...

सोच-समझकर करें परफ्यूम का इस्तेमाल

ज़ायकेदार खा...

ज़ायकेदार खाने का स्वाद

क्या आप भी ग...

क्या आप भी गिल्टी फील करती है ?

86 से 57 किल...

86 से 57 किलो तक, ऐसे घटाया परिणीति ने अपना...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

मुझे माफ कर ...

मुझे माफ कर देना...

डाक में कुछ चिट्ठियां आई पड़ी हैं। निर्मल एकबार उन्हें...

6 न्यू मेकअप...

6 न्यू मेकअप लुक्स...

रेड लुक रेड लुक हर ओकेज़न पर कूल लगते हैं। इस लुक...

संपादक की पसंद

कहीं आपका बच...

कहीं आपका बच्चा...

सात वर्षीय विहान को अभी कुछ दिनों पहले ही स्कूल में...

Whatsapp Hel...

Whatsapp Help :...

मुझे किसी खास मौके पर अपने व्हाट्सप्प के संपर्कों को...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription