भाभियों के कुछ प्रकार

मोनिका अग्रवाल

26th January 2021

अब वो समय नहीं रहा जब घर की भाभी घुंघट के पीछे नजरे झुकाए, सिर्फ हां में हां मिलाएं। वो समय निकल गया, साथ अब शर्मीली भाभियां भी काफी ट्रेंडी हो गयी हैं, इनकी कोई ना कोई वैरायटी तो आपको अपने घर में ही मिल जाएगी।

भाभियों के कुछ प्रकार

भाभियों के कुछ प्रकार

किसी भी लड़की की शादी के बाद कई नये रिश्ते उसके जीवन में नये बदलाव लेकर आते हैं। हर एक इंसान से एक अलग सु जुड़ाव, प्यार और गहराई खुद-ब-खुद पनपने लगती है। उसी में से एक रिश्ता है, नन्द और भाभी का। भाभी को घर की खुशियों की चाभी कहें तो गलत नहीं होगा। भाभी घर का आदर्श होती है। हमारे देश में बदलते दौर के साथ अब रिश्ते भी बदल रहे हैं। साथ में बदल रहे हैं मायने और उससे जुड़े लोग। वक्त बदल रहा है और इस बदलते हुए वक्त में  अब शर्मीली भाभी की तादात भी खत्म सी हो गयी है। समय के साथ साथ भाभियों के प्रकार में भी कई तरह के बदलाव आये हैं। आज हम आपको इस लेख के जरिये भाभियों के ही कुछ प्रकार बताएंगे, जो कहीं ना कहीं आपके घर में भी हो सकती हैं। तो आइए जानते हैं

1. बेपरवाह भाभी- लापरवाह कह लीजिये या बेपरवाह। इन दोनों के बीच ज्यादा अंतर नहीं है। इस बेपरवाही में उन्हें इस बात पर कोई फर्क नहीं पड़ता कि उन्हें घर की ओर ध्यान देना भी है या नहीं। उन्हें सलाह देनी पसंद है, लेकिन किसी की सलाह माननी बिलकुल भी नहीं पसंद। खास बात तो ये है कि घर वाले भी इनकी सलाह को लेकर इन्हीं की तरह बेप्वाह रहते हैं, या यूँ कहें तो उन्हें भी कोई फर्क नहीं पड़ता।

2. वाह-वाही लूटने वाली भाभी- भाभियों में से इस प्रकार की वैरायटी आमतौर पर सभी के घर पर होती है। वो हमेशा अपने द्वारा किये हुए काम को बेहतर होना जताती हैं, भले ही बेहतर काम ना भी किया हो। वो हर वक्त अपनी कोई ना कोई कहानी भी साझा करने से नहीं चूकती। उन्हें लगता है कि वो जो भी करती हैं, वो सबसे बेहतर है। उनके आगर बाकी के लोग जीरो हैं। किसी ना किसी के घर में भाभी की ये वैरायटी तो जरुर ही होगी।

3. हस्तक्षेप करने वाली भाभी- ये तरह की भाभी अपने आप को घर में सबसे बड़ा दिखाती हैं।  वो घर के सदस्यों के जीवन में हस्तक्षेप करती हैं। और वो अपने बच्चों के अलावा सभी के जीवन में क्या चल रहा क्या नहीं बहुत ज्यादा ध्यान रखती हैं। उन्हें वास्तव में अपने परिवार वालों की कोई फ़िक्र नहीं होती। मस्त मौला स्वभाव की इन भाभियों को सिर्फ अपनी ही पड़ी रहती है, इस लिए परिवार के सदस्यों को इनकी नहीं पड़ी होती।

4. इमोशनल भाभी- बात-बात पर रोने वाली भाभी काफी इमोशनल स्वभाव की होती हैं। वो छोटी सी छोटी बात पर इतना रोती हैं, मानों बहुत बड़ा पहाड़ टूट गया हो। हर बात को बेहद बढ़ा चढ़ाकर बताएंगी। वो हमेशा नकारात्मक पक्ष को ही देखती हैं। उन्हें हमेशा ऐसा लगता है, जैसे कोई भी उनकी नहीं सुन रहा। अपनी ओर घरवालों का ध्यान आकर्षित करने के लिए ये क्या कुछ नहीं करती। इनसे निपटने के लिए घर वालों को भी इन्हें झेलने की आदत हो जाती है।

5. हमेशा खुश रहने वाली भाभी- जी हां भाभी इस इस वैरायटी के बारे में सुनकर चौंकिए मत। खुश मिजाज अंदाज सबका दिल जीत लेने वाला होता है। इन्हें फर्क नहीं पड़ता घर वाले इनका जन्मदिन याद रखते भी हैं या नहीं, लेकिन ये सबका जन्मदिन याद रखती हैं। हमेशा एक महीने पहले से ही वो अपनी ख़ुशी को जताने लगती हैं। वो घर आंगन में किसी बच्चे की तरह रहती हैं। छोटी सी छोटी चीज में ख़ुशी ढूंढना उन्हें बखूबी आता है। इसलिए इनसे पूरा घर बहुत ज्यादा खुश रहता है और कभी शिकायत नहीं करता।

तो ये थी भाभियों के ऐसे प्रकार जो किसी ना किसी रूप में किसी ना किसी के घर पर जरू मिल जाएंगी। क्योंकि भाई जमाना तो एकता कपूर के सीरियल वाली बहुओं का नहीं हैं, जिसमें आदर्श भाभी का किरदार असल जिंदगी में देखने को मिले। इसलिए समय के साथ भाभियों के इस प्रकार के साथ घर वालों को भी अर्जेस्ट करना बनता है। क्यों है न सही बात?

यह भी पढ़ें-

टीनएजर्स के लिए तेजी से हाइट बढ़ाने के 10 असरदार टिप्स 

यदि आपका बच्चा शर्मिला है तो अपनाएं यह कुछ टिप्स 

भारत के 10 बेस्ट ईएनटी अस्पताल

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

अनोखे 13 तरह...

अनोखे 13 तरह के कज़िन्स

पहल - गृहलक्...

पहल - गृहलक्ष्मी कहानियां

6 तरह के अजब...

6 तरह के अजब गजब दादा- आपके कैसे हैं?

आइए जानते है...

आइए जानते हैं 7 तरह के खूबसूरत भाई बहन के...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

क्या है वॉटर...

क्या है वॉटर वेट?...

आपने कुछ खाया और खाते ही अचानक आपको महसूस होने लगा...

विजडम टीथ या...

विजडम टीथ यानी अकल...

पिछले कुछ दिनों से शिल्पा के मुंह में बहुत दर्द हो...

संपादक की पसंद

नारदजी के कि...

नारदजी के किस श्राप...

कहते हैं कि मां लक्ष्मी की पूजा करने से पैसों की कमी...

पहली बार खुद...

पहली बार खुद अपने...

मेहंदी लगाना एक कला है और इस कला को आजमाने की कोशिश...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription