दिन और रात उनके दर्शन करते हैं

साक्षी

4th February 2021

दिन और रात उनके दर्शन करते हैं
जब मैं सात-आठ साल की थी तो मैं अपनी नानी जी के घर रहने के लिए गई थी। वहां पर हम सभी बैठे बातें कर रहे थे तो वैष्णों देवी की बातें होने लगीं और मेरे मामा-मामी जी ने बताया कि जब वे लोग वैष्णों देवी की यात्रा पर गए थे तो उन्होंने लगभग रात को दो बजे शेरांवाली मां के दर्शन किए थे। इतने में मेरी मौसी जी ने कहा कि जब हम वैष्णो देवी गए थे तो हमने सुबह चार बजे के करीब दर्शन किए थे। मैं उन सब की बातें बहुत ध्यान से सुन रही थी। मैंने अपनी मम्मी से पूछा कि मम्मी क्या शेरांवाली मां रात को सोती नहीं है, जो लोग सारा दिन और रात उनके दर्शन करते हैं। इतना सुनते ही सब जोर से हंसने लगे (क्योंकि उस समय मैं ये सोचती थी कि शेरांवाली माता शेर पर बैठी रहती हैं और क्या वे शेर पर बैठे-बैठे थकती नहीं हैं।)
आज भी जब कभी वैष्णो देवी की बात निकलती है तो बचपन की वह बात सोच कर अनायास ही हंसी आ जाती है।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

डर सबको लगता...

डर सबको लगता है - गृहलक्ष्मी कहानियां

रिदम और रूद्...

रिदम और रूद्राक्ष की प्रेम कहानी

सवाल सिर्फ भ...

सवाल सिर्फ भावना का है - आनंदमूर्ति गुरु...

मेरी पहचान  ...

मेरी पहचान - गृहलक्ष्मी कहानियां

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

रम जाइए 'कच्...

रम जाइए 'कच्छ के...

गुजरात का कच्छ इन दिनों फिर चर्चा में है और यह चर्चा...

घट-कुम्भ से ...

घट-कुम्भ से कलश...

वैसे तो 'कुम्भ पर्व' का समूचा रूपक ज्योतिष शास्त्र...

संपादक की पसंद

मां सरस्वती ...

मां सरस्वती के प्रसिद्ध...

ज्ञान की देवी के रूप में प्राय: हर भारतीय मां सरस्वती...

लोकगीतों में...

लोकगीतों में बसंत...

लोकगीतों में बसंत का अत्यधिक माहात्म्य है। एक तो बसंत...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription