शहतूत के ये हेल्थ बेनिफिट्स हैं बेमिसाल

Jyoti Sohi

10th February 2021

शहतूत एक ऐसा फल है जो भारत में बड़ी ही आसानी से आपको मिल सकता है। इस खट्टे.मीठे फल को लोग बड़े ही चाव से खाते हैं और भारत के अलग अलग राज्यों में इसे अलग अलग नामों से भी पुकारा जाता है। लेकिन अधिकतर लोग इससे होने वाले फायदों के बारे में नहीं जान पाते हैं। हांलाकि आयुर्वेद में शहतूत के अनेक फायदों के बारे में बताया गया है और इसका उपयोग भी औषधि की तरह किया जाता है।

शहतूत के ये हेल्थ बेनिफिट्स हैं बेमिसाल
सेहत के लिहाज़ से शहतूत खाने के फायदों की बात करें तो ये अनेक बिमारियों को दूर करने का काम करता है। दरअसल, काले और लाल रंग का शहतूत का ये फल स्वाद में मीठा और रसीला होता है। हालाँकि यह अन्य फलों की तरह बहुत अधिक लोकप्रिय नहीं होने के कारण अधिकतर लोगों की पहुंच से काफी दूर भी है। लेकिन अगर स्वास्थ्य की बात करें, तो  इसका सेवन बेहद फायदेमंद साबित होता है। शहतूत एक ऐसा फल है जो भारत में बड़ी ही आसानी से आपको मिल सकता है। इस खट्टे.मीठे फल को लोग बड़े ही चाव से खाते हैं और भारत के अलग अलग राज्यों में इसे अलग अलग नामों से भी पुकारा जाता है।  लेकिन अधिकतर लोग इससे होने वाले फायदों के बारे में नहीं जान पाते हैं। हांलाकि आयुर्वेद में शहतूत के अनेक फायदों के बारे में बताया गया है और इसका उपयोग भी औषधि की तरह किया जाता है। शहतूत में पोटैशियम, विटामिन ए और फॉस्फोरस पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। शहतूत एक ऐसा फल है जिसे कई लोग कच्चा ही खाना पसंद करते हैं और कुछ इसे पका कर भी खाते हैं। आइए जानते हैं शहतूत को अपनी डाइट में शामिल करने से आपको क्या फायदे मिल सकते हैं।
वजन घटाने में सहायक 
शहतूत वजन कम करने में काफी कारगर माना जाता है। शहतूत खाने से भूख कम लगती है, जिससे आप इधर.उधर की चीज खाने से बच सकेंगे और आपका वजन भी कम हो सकेगा।  
लीवर और किडनी के लिए लाभकारी
शहतूत खाने से लीवर से जुड़ी बीमारियों में राहत मिलती है। साथ ही यह किडनी के लिए भी बहुत फायदेमंद है।
हेल्दी ब्रेन के लिए
हेल्दी ब्रेन के लिए भी शहतूत का सेवन करना फायदेमंद रहता है। इसमें दिमाग के विकास और अच्छे स्वास्थ्य के लिए जरूरी तत्व मौजूद होते हैं। इसमें पर्याप्त मात्रा में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट दिमाग के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना जाता है। इसके अलावा इसका सेवन करने से दिमाग को जरूरी पोषक तत्वों की आपूर्ति भी होती है। कई स्टडीज भी इस बात को दर्शाती हैं कि एंटीऑक्सीडेंट की पर्याप्त मात्रा दिमाग के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होती हैं।
इम्युनिटी स्ट्रांग करे
इम्युनिटी बूस्ट करने में भी शहतूत अहम रोल निभाता है। इसमें मौजूद विटामिन सी की पर्याप्त मात्रा शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का कार्य करती है। इम्युनिटी बूस्ट करने के लिए शहतूत के फायदे की बात करें तो विटामिन सी के अलावा इसमें कई ऐसे जरूरी मिनरल्स मौजूद होते हैं जो इम्युनिटी बूस्ट करने का कार्य करते हैं। इसके अलावा इसमें एंटीऑक्सीडेंट की भरपूर मात्रा भी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने का कार्य करती है।
कोलेस्ट्रॉल लेवल नियंत्रित करे  
शहतूत खाने के फायदे की बात करें तो यह कोलेस्ट्रॉल लेवल को नियंत्रित करने का कार्य भी करता है। इसमें मौजूद फाइबर खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करने का कार्य करता है। जिसका नतीजा यह होता है कि शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा नियंत्रण में रहती है और हृदय भी स्वस्थ्य बना रहता है।
कैंसर के खतरे को कम करता है
शहतूत  एंथोसायनिन से भरे हुए होते हैं, जो कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने नहीं देते। यह कोलन कैंसर, स्किन कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और थॉयराइड से बचाने में मददगार होता है।
सर्दी जुकाम से बचाता है
अगर आप अकसर फ्लू की शिकार हो जाती हैं, तो ऐसे में आपको शहतूत का सेवन ज़रूर करना चाहिए। सफेद शहतूत प्रकृति में कसैले हैं और बैक्टीरिया को मारने में मददगार होते हैं। जिससे आपको फ्लू और ठंड से राहत मिलती है। उनमें फ्लैवोनोइड्स भी होते हैं, जिससे यह आपके स्वास्थ्य के लिए और भी ज्यादा लाभदायक होते हैं। 
आंखों की दृष्टि में सुधार
शहतूत को अपनी डाइट में शामिल करने और दिन में एक गिलास शहतूत का रस पीने से आंखों की दृष्टि में सुधार होता है। इसमें विटामिन ए की उच्च मात्रा पायी जाती है जो आंखों की दृष्टि को मजबूत करने और आंखों के तनाव को दूर करने के लिए लाभप्रद है। यह आंखों को कणों से भी बचाता है जो आम तौर पर आंखों की दृष्टि हानि और रेटिना को खराब करने का कारण साबित होते है। 
बालों को बनाए स्वस्थ
शहतूत बालों में मेलेनिन के उत्पादन में सहायता करता है। इससे आप अपने बालों के प्राकृतिक रंग को बरकरार रख सकते हैं। यह उन लोगों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है जो बालों के असमय सफ़ेद होने की समस्या से पीड़ित हैं। यदि आप नियमित रूप से शहतूत के रस का सेवन करते हैं तो यह आपके बालों को स्वस्थ बनाया जा सकता है। 
टिशू की मरम्मत 
शहतूत में विटामिन के साथ कई मिनरल्स मौजूद हैं जैसे कि आयरन और कैल्शियम जो टिशू की मरम्मत करने के लिए लाभदायक हैं। मिनरल्स हड्डियों को कमजोर नहीं होने देते हैं जिससे गठिया जैसी बीमारी के आसार कम हो जाते हैं।
पैरों की एड़ियां फटने पर शहतूत का औषधीय गुण 
अनेक पुरुष या महिलाओं के पैरों की एड़ियां फट जाती हैं। कई बार एड़ी फटने के लिए किए गए उपया से लोगों को फायदा नहीं मिलता है। आप ऐसे में शहतूत के बीजों को पीस लें। इसे पैरों पर लगाएं। इससे पैरों की बिवाइयां खत्म होती है।
झुर्रियों से मुक्ति
अगर आप झुर्रियों से परेशान हैं तो अब चिंता करने की कोई बात नहीं। इसके लिए शहतूत का जूस पीजिए। आपका चेहरा चमकदार और ताजा हो जाएगा। शहतूत में एंटी एजिंग यानी उम्र को रोकने वाला गुण होता है। साथ ही यह त्वचा को जवां बना देता है और झुर्रियों का प्रभाव चेहरे पर दिनों दिन कम होने लगता है। 
रूखेपन से बचाव 
विटामिन ए और विटामिन ई की कमी होने के कारण त्वचा रूखी हो जाती है। शहतूत विटामिन से भरपूर है जो त्वचा के लिए लाभदायक है। शहतूत का सेवन सही मात्रा में करने से त्वचा में नमी बरकरार रहती है।
चोट व घाव को ठीक करने में फायदेमंद
बड़े बाग बगीचों में आपको आमतौर पर शहतूत के पेड़ देखने को मिल जाएंगे। ऐसे में अगर कोई पुराना घाव हो या फिर फोड़े फुसिंयों की शिकायत हो तो आप शहतूत के पत्तों को घाव या फोड़े पर लगा सकते हैं, जो काफी फायदेमंद साबित होता है। इसके प्रयोग से घाव बहुत जल्दी भर जाते हैं। इसके अलावा अगर आपको खुजली की दिक्कत है तो इसके पत्तों का लेप फायदेमंद रहेगा। इतना ही नहीं  शहतूत की पत्तियों को पानी में उबालकर उस पानी से गरारे करने से गले की खराश दूर हो जाती है और गले को राहत मिलती है। 
खास सुझाव
इसे भोजन करने के बाद न खाएं। 
शहतूत को सीमित मात्रा में ही लें और रात में खाने से परहेज़ करें अन्यथा पाचन संबधी समस्या का सामना करना पड़ सकता है।  
शहतूत को खाते समय बीच में पानी पीने से बचें।
बच्चों को ज्यादा मात्रा में शहतूत खिलाने से बचें।
स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

सुपर फूड्स स...

सुपर फूड्स से थामें बढ़ती उम्र

डायबिटीज़ के...

डायबिटीज़ के रोगियों के लिए ये 10 फ्रूट्स...

एवोकाडो है स...

एवोकाडो है सेहत का खजाना, डाइट में ज़रूर करें...

कैसे रखें उच...

कैसे रखें उच्च रक्तचाप पर नियंत्रण

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

क्या है वॉटर...

क्या है वॉटर वेट?...

आपने कुछ खाया और खाते ही अचानक आपको महसूस होने लगा...

विजडम टीथ या...

विजडम टीथ यानी अकल...

पिछले कुछ दिनों से शिल्पा के मुंह में बहुत दर्द हो...

संपादक की पसंद

नारदजी के कि...

नारदजी के किस श्राप...

कहते हैं कि मां लक्ष्मी की पूजा करने से पैसों की कमी...

पहली बार खुद...

पहली बार खुद अपने...

मेहंदी लगाना एक कला है और इस कला को आजमाने की कोशिश...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription