सिर्फ एक दिन में घूमना हो पुणे तो खास जगहों की लिस्ट है तैयार

चयनिका निगम

22nd February 2021

पूरा एक दिन महाराष्ट्र के बड़े शहर पुणे में बिताना हो तो टूरिस्ट प्लेसेस की लिस्ट आपके बहुत काम आएगी।

सिर्फ एक दिन में घूमना हो पुणे तो खास जगहों की लिस्ट है तैयार

एक दिन में कोई शहर घूमना हो तो आप कौन सा शहर घूमना चाहेंगी। आपके पास जरूर एक लंबी लिस्ट होगी। लेकिन उस लिस्ट में भी कुछ नाम होंगे जिन्हें आप निश्चित ही घूम लेना चाहती होंगी। इन शहरों में एक नाम है पुणे ना हो ये कैसे हो सकता है। महाराष्ट्र का ये शहर मॉडर्न है तो खुद में ढेर सारा इतिहास भी समेटे हुए है। मराठी कल्चर को सामने रखते इस शहर में खाने के ढेरों ठिकाने हैं तो ये तकनीकी हब के तौर पर भी काफी जाना जाता है। दुनियाभर से लोग इस शहर में करियर बनाने और प्रोफेशनल पढ़ाई करने भी आते हैं। ढेरों रंगों वाला ये शहर 1 दिन में देखने की योजना है तो इसे ऐसे पूरा करें, जगह पहले से तय होंगी तो पूरा दिन आसानी से गुजरेगा और अपको मजा भी खूब आएगा। कौन-कौन सी हैं ये जगह जान लीजिए-

130 साल पुराना आगा खान पैलेस-

सुबह नाश्ता करने के बाद आप आगा खान पैलेस की ओर चल दीजिए। हम आपको होटल में नहीं पुणे के स्ट्रीट फूड का स्वाद लेने की सलाह देंगे। यहां आपको स्वादिष्ट साउथ इंडियन फूड बहुत अच्छा मिलेगा। साथ में मराठी ब्रेकफास्ट भी आपको लाजवाब मिल जाएगा। अब आते हैं आपके पहले स्टॉप आगा खान पैलेस पर। इस पैलेस का निर्माण आज से करीब 130 साल पहले 1892 में हुआ था। इस महल में ही ‘भारत छोड़ो आंदोलन' के दौरान महात्मा गांधी को रखा गया था। इस पैलेस का भारत की आजादी से गहरा नाता है। सुल्तान मोहम्मद आगा खान तृतीय ने इस महल को बनवाया था और उन्होंने ऐसा अच्छे मकसद से किया था। उन्होंने ऐसा गांव के लोगों को रोजगार देने के लिए किया था। उस वक्त इस महल को 5 साल में और 12 लाख रुपए की लागत के साथ 1000 मजदूरों नें बनाया था। 

पातालेश्वर मंदिर के दर्शन-

सुबह के समय मंदिर जाना किसको बुरा लगता है। इसलिए अब चल दीजिए आठवीं शताब्दी में बने पातालेश्वर टैम्पल की ओर। भगवान शिव के लिए बना ये मंदिर काफी भक्तों का आकर्षण बनता है। यहां बना म्यूजियम भी बेहद खास है और यात्रियों को अपनी ओर खींचता जरूर है। यहां कई सारी खास चीजें हैं। 5000 अक्षर लिखा चावल का दाना भी यहां रखा गया है। इसके बारे में गिनीज़ बुक ऑफ वर्ड रिकॉर्ड में भी बताया गया है। ये मंदिर सुबह 8.30 से 5.30 तक खुलता है। 

 

दगड़ूसेठ के दर्शन-

पुणे को ज्यादातर बार गणेश महोत्सव के लिए भी जाना जाता है। गणेश महोत्सव में भी दगड़ूसेठ हलवाई गणपति मंदिर के दर्शन करने को तो लोग मानो तरसते हैं। आप जिस भी मौसम में आएं इस मंदिर के दर्शन जरूर करें। मंदिर के इस नाम के पीछे भी एक खास वजह है। दरअसल इस मंदिर को दगड़ूसेठ नाम के हलवाई ने बनवाया था। इसलिए ही इस मंदिर का ये नाम पड़ा। 

 

शनिवार वाड़ा की सैर-

शनिवार वाड़ा 1732 में बनाया गया था। 1818 तक इस पर पेशवा का अधिकार था लेकिन इसके बाद इसका अधिकार पेशवा के हाथों से निकल कर ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के पास चला गया।  आप यहां कुछ देर रुकेंगी तो अच्छा रहेगा क्योंकि शाम के समय यहां पर लाइट एंड साउंड शो होता है, जिसका मजा लेना पुणे की ट्रिप को सफल जरूर बना देगा। 

लक्ष्मी रोड मार्केट है बेस्ट-

पुणे आने के बाद अगर शॉपिंग करने का मन कर जाए तो लक्ष्मी रोड मार्केट आपका ही इंतजार कर रही है। इस मार्केट में आप खासतौर पर मराठी साड़ी खरीदने आ सकती हैं। जिसे पहनना आपको अच्छा लगेगा ही। यहां आपको नौवारी साड़ी के भी बेस्ट डिजाइन आपको जरूर मिल जाएंगे। दूसरी खरीदारी भी यहां की जा सकती है और साथ पेट पूजा का भी यहां पूरा इंतजाम है। 

कोरेगांव पार्क का नशा-

पुणे का कोरेगांव पार्क शहर का पॉश इलाका है। यहां बड़े बंगले हैं तो रेस्टोरेन्ट भी। कुल मिलाकर इस जगह सिर्फ टहलना भी अच्छा अहसास देगा। 

जर्मन बेकरी है जरूरी-

पुणे को जिन कई चीजों के लिए जाना जाता है, उनमें से एक है, जर्मन बेकरी। ये बेकरी भी कोरेगांव में ही है। इस बेकरी को पसंद करने वालों में विदेशी भी हैं। यहां आकर पेट पूजा करने के बाद ही आगे बढ़ें। 

सिंहगढ़ किला है पुणे का शान-

पुणे से करीब 30 किलोमीटर दूर बने इसे किले को पहले कोंढना कहा जाता था। समुद्रतल से 4400 फुट की ऊंचाई पर बना ये किला काफी सुंदर है और ऐतिहासिक महत्व रखता है। यहां एक लंबे ट्रेक के बाद आएंगी तो आपका स्वागत महाराष्ट्र के खाने से होगा। 

ओकायामा गार्डेन में बीते शाम-

पुणे का ओकायामा गार्डेन 10 एकड़ में बसा है और बहुत सुंदर है। इस पार्क में पौधे हैं, फूल हैं और हरियाली ही हरियाली है। ये जगह आपका दिल जरूर जीत लेगी और आपका जाने का मन बिलकुल नहीं करेगा। इस जगह पर आने का सही समय सुबह 6 से 10.30 और शाम एलपी 4 से 8 बजे तक है। यहां आने के लिए 5 रुपए प्रति व्यक्ति फीस भी देनी होती है। 

नेशनल वार म्यूजियम-

ये एक ऐसा म्यूजियम है, जहां आपको जरूर आना चाहिए। ये म्यूजियम उन सिपाहियों को समर्पित है, जिन्होंने अपनी जान देश पर समर्पित कर दी। यहां पर मिलिट्री टैंक हैं तो गन भी और रॉकेट तक यहां पर रखे गए हैं। कार्गिल युद्ध के समय इस्तेमाल हुआ जेट फाइटर एमआईजी 23 बीएन और आईएनएस त्रिशूल के रेपलिका भी यहां देखे जा सकते हैं। यहां आने का सही समय सुबह 9.30 से 12 बजे तक है तो दोपहर में 3 बजे से शाम 7 बजे तक भी यहां आया जा सकता है। 

ये भी पढ़ें-

2021में घूमें वहां,जहां आए सबसे ज्यादा मजा

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

चलो जम्मू, घ...

चलो जम्मू, घूमो जम्मू

ट्रिप चाहिए ...

ट्रिप चाहिए हटकर तो इस बार हो आइए मैसूर

पुणे: आठ अष्...

पुणे: आठ अष्टविनायक मंदिर करेंगे कामना पूरी...

एक सिंगल लेड...

एक सिंगल लेडी ट्रैवलर की डायरी

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

घर पर वाइट ह...

घर पर वाइट हैड्स...

वाइट हैड्स से छुटकारा पाने के लिए 7 टिप्स

बच्चे पर मात...

बच्चे पर माता-पिता...

आपकी यह कुछ आदतें बच्चों में भी आ सकती हैं

संपादक की पसंद

तोहफा - गृहल...

तोहफा - गृहलक्ष्मी...

'डार्लिंग, शुरुआत तुम करो, पता तो चले कि तुमने मुझसे...

समझौता - गृह...

समझौता - गृहलक्ष्मी...

लेकिन मौत के सिकंजे में उसका एकलौता बेटा आ गया था और...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription