सबका मालिक एक है, कब कहा था साईं बाबा ने

चयनिका निगम

4th March 2021

सबका मालिक एक है कहने वाले साईं बाबा ने ऐसा क्यों कहा था जान लीजिए-

सबका मालिक एक है, कब कहा था साईं बाबा ने

साईं बाबा की बात करते हुए अक्सर भक्तों के मुंह से ‘सबका मालिक एक है'। लेकिन कभी सोचा है ये युक्ति आई कहां से? कैसे साईं के मुंह से ये शब्द निकले या कैसे भक्तों ने इसे अपने में समा लिया? क्यों भक्त इस लाइन में पूरा जीवन महसूस कर लेते हैं। साईं बाबा ने बहुत सारी प्रेरणा देनी वाली बातों में से इसे ही क्यों चुना। ‘सबका मालिक एक है', साईं बाबा के दूसरे रूप में भी याद किया जाता है। यही वजह है कि दुनियाभर में साईं के अनगिनत भक्त हैं, जो उन्हें बिना किसी जात-पात ओर बात किए, पूजते हैं। ‘सबका मालिक एक है', इस युक्ति के पीछे की कहानी, जान लीजिए-

सारे धर्म एक हैं-

दरअसल साईं के भक्तों की मानें तो साईं हिंदू थे, लेकिन कुछ भक्तों के हिसाब से वो मुसलमान थे। इस वजह से भी ‘सबका मालिक एक है' की युक्ति को सही माना जाता है। माना जाता है कि नाथ संप्रदाय के लोग ऐसा ही जीवन जीते हैं। 

नाथ संप्रदाय-

साईं बाबा को भक्त नाथ संप्रदाय का मानते थे और इसके पीछे भी एक कहानी है। भक्तों ने ऐसा साईं बाबा के रहन-सहन को देखकर बोला था। साईं बाबा हाथ में कमंडल लिए रहते थे, भिक्षा मांगकर जीवन गुजारते थे, उनके कानों में छेद थे और वो हुक्का भी पीते थे। ऐसा नाथ संप्रदाय के लोग ही करते हैं। जबकि इसके बावजूद कुछ भक्त उन्हें मुसलमान भी मानते थे। 

मुसलमान भी थे साईं?-

जैसे कुछ भक्त साईं बाबा को नाथ संप्रदाय का मानते हैं ठीक वैसे ही कुछ भक्त उन्हें मुसलमान भी मानते रहे हैं। दरअसल साईं फारसी का शब्द है और इसका अर्थ संत है। पुराने समय में मुसलमान सन्यासियों को संत ही कहा जाता था। साईं की वेषभूषा भी कुछ-कुछ ऐसी ही थी। तभी शिर्डी के एक पुजारी ने उन्हें मुसलमान मान लिया था और साईं नाम दे दिया था। माना ये भी जाता है कि अक्सर मस्जिद में रहने वाले साईं बाबा मुसलमान होने की वजह से ऐसा करते हैं। साईं बाबा तो मस्जिद से बर्तन मंगवाकर फातिहा पढ़वाने के बाद ही खाना खाते थे। 

साईं सच्चरित कहती है-

साईं सच्चरित, साईं के जीवन पर लिखी गई एक अकेली किताब है। इसमें ये माना गया है कि साईं ने सबका मालिक एक है जैसी बात कही ही नहीं थी। वो तो ‘अल्लाह मालिक एक' कहा करते थे। जबकि उन्हें हिंदू बताने के लिए कई भक्तों ने उनकी युक्ति को ‘सबका मालिक एक है' में बदल दिया। 

धर्म और अध्यात्म संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

ये भी पढ़ें-

बेटियों में बचपन से ही आत्मविश्वास भरना बेहद जरूरी है

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

सांई बाबा हि...

सांई बाबा हिन्दू थे या मुसलमान? जानिए शिर्डी...

श्रद्धा  के ...

श्रद्धा के साथ पढ़ें साईंबाबा की व्रत कथा,...

शिरडी को साई...

शिरडी को साई बाबा ने महामारी से कुछ इस तरह...

क्या आप जानत...

क्या आप जानते हैं साईं बाबा से जुडी ये 8...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

घर पर वाइट ह...

घर पर वाइट हैड्स...

वाइट हैड्स से छुटकारा पाने के लिए 7 टिप्स

बच्चे पर मात...

बच्चे पर माता-पिता...

आपकी यह कुछ आदतें बच्चों में भी आ सकती हैं

संपादक की पसंद

तोहफा - गृहल...

तोहफा - गृहलक्ष्मी...

'डार्लिंग, शुरुआत तुम करो, पता तो चले कि तुमने मुझसे...

समझौता - गृह...

समझौता - गृहलक्ष्मी...

लेकिन मौत के सिकंजे में उसका एकलौता बेटा आ गया था और...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription