भगवान गणेश का सिद्धिविनायक रूप है खास

चयनिका निगम

4th March 2021

भगवान गणेश के भक्त हैं तो आपको उनके सिद्धिविनायक रूप को भी जान लेना चाहिए। इस रूप से जुड़ी खास बातें ये रहीं।

भगवान गणेश का सिद्धिविनायक रूप है खास
गणेश जी के मंदिर सिद्धिविनायक की खूब महिमा आपने देखी होगी। हो सकता है कि आपने मुंबई वाले सिद्धिविनायक मंदिर में गणेश भगवान के दर्शन भी किए होंगे। ये मंदिर है ही इतना खास कि इसे देखने तो लोग विदेशों से भी आते हैं। लेकिन कभी आपने गणेश भगवान के इस रूप के बारे में जाना है। क्या आप जानती हैं कि भगवान गणेश का सिद्धिविनायक रूप कैसे दूसरों से अलग है। कैसे भगवान गणेश का ये रूप भक्तों का मन मोह लेता है। भगवान गणेश के भक्तों में खुद को भी शामिल मानती हैं तो इनके दर्शन के लिए खुद को हमेशा तैयार रहती होंगी। लेकिन क्या इनके रूपों खासतौर पर सिद्धिविनायक रूप के बारे में जानती हैं? भगवान गणेश के सिद्धिविनायक रूप में क्या खासियत हैं ये जानना जरूरी है। अब मुंबई के सिद्धिविनायक मंदिर में बड़े-बड़े फिल्मी सितारे और सेलेब्रिटी यूंही तो नहीं जाते हैं न-

सबसे लोकप्रिय रूप-

सिद्धिविनायक गणेश भ्ग्व्वन का सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला रूप है। भक्त इनके दर्शन करके खुद को धन्य मानते हैं। 

मूर्ति की खासियत-

गणेश जी की सिद्धिविनायक मूर्ति का रूप भी कुछ अलग होता है। इसको एक बात पहचान लेने के बाद आप इनकी भक्ति में लीन होने से खुद को रोक बिलकुल नहीं पाएंगी। गणेश जी की प्रतिमा की सूंड़ बाकी मूर्तियों से कुछ अलग होती है। सिद्धिविनायक की प्रतिमाँ की सूंड़ दाईं ओर मुड़ी होती है। इन प्रतिमाओं वाले मंदिरों को सिद्धिविनायक मन्दिर कहा जाता है। 

चतुर्भुजी विग्रह वाले सिद्धिविनायक-

सिद्धिविनायक गणेश की प्रतिमा में और भी कई खासियतें होती हैं। इन्के दाएं हाथ में कमल होता है तो बाएं हाथ में अंकुश। इतना ही नहीं नीचे वाले दाएं हाथ में मोतियों की माला है तो बाएं हाथ में मोदक का कटोरा। 

धन और ऐश्वर्य-

गणेश जी के सिद्धिविनायक रूप में प्रतिमा के दोनों ओर रिद्धी और सिद्धि, दोनों पत्नियां भी विराजती हैं। ये धन और ऐश्वर्या का प्रतीक माना जाता है। 

तीसरे नेत्र वाले गणेश-

गणेश भगवान का ये रूप उनके पिता से मिलता-जुलता है। उनके मस्तक पर तीसरा नेत्र है तो गले में सांप भी है। 

अनोखा रूप-

सिद्धिविनायक के इस रूप को अनोखा माना जाता है और इस रूप को खास इसलिए बोलते हैं। इसको चतुर्भुज विग्रह कहा आता है। 

गणेश भगवान के 8 रूप-

भगवान गणेश के 8 रूपों के बारे में आमतौर पर बात की जाती है। गणेश पुराण, मुद्गल पुराण, गणेश अंक में इन रूपों के बारे में बताया गया है। इसके नामों को पहचान लीजिए।  वक्रतुंड, एकदंत, महोदर, गजानन, लंबोदर, विकट, विघ्नराज, और धूम्रवर्ण, नामों को गणेश भगवान के रूप में पहचान मिली हुई है। 

धर्म संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

ये भी पढ़ें-

बेटियों में बचपन से ही आत्मविश्वास भरना बेहद जरूरी है

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

गणेश भगवान क...

गणेश भगवान की मूर्ति का आकार बढ़ रहा है इस...

सिद्धि विनाय...

सिद्धि विनायक कब जाएं?

पुणे: आठ अष्...

पुणे: आठ अष्टविनायक मंदिर करेंगे कामना पूरी...

बुधवार को बु...

बुधवार को बुद्ध देव की करें आराधना

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

घर पर वाइट ह...

घर पर वाइट हैड्स...

वाइट हैड्स से छुटकारा पाने के लिए 7 टिप्स

बच्चे पर मात...

बच्चे पर माता-पिता...

आपकी यह कुछ आदतें बच्चों में भी आ सकती हैं

संपादक की पसंद

तोहफा - गृहल...

तोहफा - गृहलक्ष्मी...

'डार्लिंग, शुरुआत तुम करो, पता तो चले कि तुमने मुझसे...

समझौता - गृह...

समझौता - गृहलक्ष्मी...

लेकिन मौत के सिकंजे में उसका एकलौता बेटा आ गया था और...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription