क्या ज्यादा पसीना आना बाल झड़ने का कारण हो सकता है

मोनिका अग्रवाल

12th March 2021

पसीना केवल एक प्राकृतिक जैविक घटना है जो आपके शरीर को ठंडा रखने में मदद करती है। बहुत अधिक कारणों से पसीना अधिक आना चिंताजनक हो सकता है।

क्या ज्यादा पसीना आना बाल झड़ने का कारण हो सकता है

ज्यादा पसीना आना बाल झड़ने का कारण

हालांकि पसीना केवल एक प्राकृतिक जैविक घटना है जो आपके शरीर को ठंडा रखने में मदद करती है। बहुत अधिक कारणों से पसीना अधिक आना चिंताजनक हो सकता है। चाहे वह बढ़ता तापमान हो जो आपको पसीने में तर बतर कर रहा है या जिम में वर्कआउट सेशन। सिर, चेहरे और स्कैल्प पर अत्यधिक पसीना आने से हर दिन एक खराब हेयर डे की तरह महसूस हो सकता है।क्या आप जानते हैं कि पसीना, जो पानी और प्राकृतिक लवणों का एक संयोजन है, आपके बालों के लिए सही नहीं है? डॉक्टरों के अनुसार, अत्यधिक पसीना आपके बालों के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है और आपके बालों की बनावट को बदल सकता है। 

क्या पसीने के कारण बाल झड़ते हैं

जब आपको बहुत पसीना आता है, तो पसीना आपके स्कैल्प पर बनता है और रोम छिद्रों को बंद करता है। नतीजतन, यह बालों की ग्रोथ के लिए एक अजीब सी स्थिति बनाता है, जिससे बाल झड़ने लगते हैं। कुछ लोगों में हाइपरहाइड्रोसिस नामक एक कंडिशन होती है, जो बहुत एक्टिव ग्रंथियों के कारण अत्यधिक पसीने का कारण बनती है। हालांकि यह एक आम विकार, पर सामाजिक स्थितियों में चिंता का कारण हो सकता है। इसलिए ज्यादा से ज्यादा पानी पीने की सलाह दी जाती है, जिससे कि पसीना और यूरिन के माध्यम से शरीर की गंदगी को बाहर निकाला जा सके। लेकिन यही पसीना कुछ समस्याएं भी खड़ी कर सकता है। पसीना, जो पानी और प्राकृतिक लवणों का एक संयोजन कहा जाता है इससे आपका हेयर फॉल का डर रहता है। गर्मियों के सीजन में बालों के टूटने के केस ज्यादा आते हैं क्योंकि गर्मियों में पसीना निकलने से स्कैल्प पर नमी आती है और बालों के झड़ने जैसे केस सामने आते हैं। पसीना आने से बालों के झड़ने की समस्या भी बढ़ती जा रही है। -

पसीना आने के हो सकते हैं कई कारण -

• बालों के झड़ने पसीना 

• अति सक्रिय पसीने की ग्रंथियां 

• तनाव लेना 

• गर्मी का होना 

• लेबर करना 

• चटपटा भोजन 

• हार्मोनल चेंजेस 

1. बालों के झड़ने पसीना -

समर सीजन में ही पसीने की शिकायत ज्यादा होती है और जब आपको बहुत पसीना आता है, तब पसीने से बालों के झड़ने की बात भी सामने आती है। बता दें कि पसीना आपके स्कैल्प पर बनता है जिससे रोम छिद्रों के बंद होने की आशंका भी रहती है। रोमछिद्र बंद हो जाने से यह बालों के विकास के लिए सही नहीं माना जा सकता है। यही कारण है कि बाल झड़ने लगते हैं। वहीं कुछ लोगों में हाइपरहाइड्रोसिस जैसी स्थिति बन जाती है जो एक्टिव ग्रंथियों की वजह से अत्यधिक पसीना बनाती है। यह एक आम विकार है, लेकिन ध्यान न देने पर चिंता का कारण भी बन सकता है।

2. अति सक्रिय पसीने की ग्रंथियां -

अधिक स्वेट आने कारण है ओवर एक्टिव स्वैट ग्लैंड्स हैं। शारीरिक गतिविधि या तापमान में वृद्धि के कारण आपकी पसीने की ग्रंथियों को संकेत देने के लिए रिस्पॉन्स होती है और इससे ग्लैंड्स अति सक्रिय हो जाते हैं।     

3. तनाव लेना

अधिक तनाव लेना या चिंता करना  यहां तक कि एक गुस्सा करने से भी ग्लैंड्स एक्टिव हो जाते हैं। गुस्सा करने से आपका दिन भी प्रभावित होता है। क्या तनाव लेने से भी बाल झड़ते हैं, आपके दिलो दिमाग में यह विचार आना स्वाभाविक है। बता दें कि टेलोजेन इफ्लुवियम और एलोपेशिया एरीटा तनाव से जुड़े दो सामान्य प्रकार के विकार हैं जो बालों के झड़ने के कारण होते हैं। हालांकि इसे आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है।

4. गर्मी का होना -

गर्मियों में पसीने को कोई भी नहीं रोक सकता, क्योंकि यह तापमान पर निर्भर करता है जोकि प्राकृतिक है। गर्मी से बचने के लिए आप उचित बालों की देखभाल करने के साथ ही दिनचर्या का पालन कर सकते हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि जिस तरह सूरज आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचाता है, उसी तरह यह आपके बालों को भी नुकसान पहुंचा सकता है। इसलिए हमेशा मौसम को लेकर भी अलर्ट रहना चाहिए।

5. लेबर करना -

शारीरिक परिश्रम करना जरूरी होता है क्योंकि आपकी आमदानी भी परिश्रम करने पर ही निर्भर करती है। लेकिन आप अगर धूप में काम करते हैं तो काम के दौरान आप धूप से बचने का प्रयास करें और कोशिश करें कि पीक हॉवर में आप धूप में न जाएं। 

6. हार्मोनल चेंजेस -

हद से ज्यादा पसीना हार्मोनल परिवर्तन का कारण होता है। जैसे पीरियड होने की वजह से और हार्मोनल दवाओं के इस्तेमाल के कारण भी हो सकता है। अन्य हार्मोनल परिवर्तन जैसे कि गर्भावस्था और किशोरावस्था के दौरान होने वाले पसीने के कारण भी आपको पसीना आ सकता है।

7. चटपटा भोजन -

अधिकतर मसालेदार भोजन के सेवन से भी स्वेट आ सकता है।  मसालेदार खाद्य पदार्थों में पाया जाने वाला रसायन कैपसाइसिन कभी-कभी नुकसान भी करता है, जिससे ऑटोमेटिक पसीना आने लगता है। यह नसों को उत्तेजित करता है, जिससे आपको गर्मी फील होने लगती है। यही कारण है कि जब आप मसालेदार भोजन करते हैं तो आपको अधिक पसीना आता है।

कैसे अपने बालों को पसीने के प्रकोप से बचाएं?

एप्पल साइडर सिरका

एप्पल साइडर सिरका पसीने को नियंत्रित करने के लिए जाना जाता है। गर्म पानी में एप्पल साइडर सिरका एक चम्मच डालें, और अपने सिर पर मिश्रण की मालिश करें। फिर इसे कुछ मिनट के लिए छोड़ दें।

इसेंशियल आॅयल

इसेंशियल आॅयल के साथ अपने स्कैल्प की मालिश करना इसे शांत कर सकता है और बालों के झड़ने को कम कर सकता है। विशेषज्ञ बालों के झड़ने को कम करने के लिए देवदार के एसेंशियल ऑयल को प्रयोग करने की सलाह देते हैं। लैवेंडर के तेल में रोगाणुरोधी और जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो स्कैल्प को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। कैमोमाइल तेल से चमक और कोमलता आती है।

लीव-इन कंडीशनर

इससे पहले कि आप शारीरिक रूप से काम करने वाले किसी एक्टिविटी में भाग लें, अपने बालों को लीव-इन कंडीशनर जो कि एक पौष्टिक सीरम है,का प्रयोग कीजिए। आप वर्कआउट के बाद एक डीप कंडीशनर का इस्तेमाल भी कर सकती हैं। क्योंकि यह पसीने के बाद भी आपके बालों को ठीक रहने में मदद करेगा।

स्ट्रेस बस्टर

तनाव और चिंता के कारण आपको सामान्य से अधिक पसीना आ सकता है, इसलिए आप स्ट्रेस मैनेजमेंट तकनीक पर विचार कर सकती हैं और ऐसी आदतों को अपनायें जो आपको तनाव को कम करने में मदद करें, जैसे कि ध्यान और व्यायाम।

खुले कपड़े पहनें

बढ़ते तापमान में आपको अधिक पसीना आ सकता है, इसलिए आपको हल्के, और सूती वाले कपड़े पहनने चाहिए। उन कपड़ों से बचना सबसे अच्छा है जो आपको गर्मी और असहज महसूस कराते हैं।

कुछ खाद्य पदार्थों से बचें

मसालेदार भोजन से आपको अधिक गरमी महसूस होती है। इसलिए आप इसे बचें। विशेषज्ञों के अनुसार कॉफी में मौजूद कैफीन से आपके हृदय की गति बढ़ जाती है, व रक्तचाप के स्तर में भी फर्क पड़ता है, इसलिए आपके पसीने की ग्रंथिया सक्रिय हो जाती हैं।

पसीने से बालों के झड़ने के लक्षण

1.अपरिपक्व बालों का झड़ना

यदि आप अपनी बालों का अत्याधिक गिरना या बालों में किसी भी प्रकार का बदलाव महसूस करतीं हैं और आप हाई इंटेंस वर्कआउट करना चाहती हैं तो आप विशेषज्ञ से परामर्श कर सकती हैं। 

2.समय से पहले सफेद होना

यदि आप अभी टीनएजर है या युवा हैं और फिर भी आपके पास समय से पहले भूरे या सफेद हो रहे हैं तो यह चिंता का विषय है।

पसीना आना पूरी तरह से प्राकृतिक क्रिया है और और हमारे स्वास्थ्य के लिए जरूरी भी है। लेकिन जरूरत से ज्यादा पसीना आना सिर्फ बालों के लिए ही नहीं बल्कि  ओवरऑल हेल्थ के लिए भी नुकसानदायक है। इसलिए आप ऊपर लिखित सुझावों को अपना सकती हैं और बालों का झड़ना यदि जरूरत से ज्यादा है तो एक्सपर्ट की सलाह भी ले सकती हैं।

बालों को रोज धोना जरूरी है

यह एक ऐसा सवाल है जो अक्सर महिलाओं को परेशान करता है कि, बाल कितनी बार धोएं या रोज बालों को शैंपू किया जाए। नहीं ! माना कि बालों को रोज धोने से बालों की गंदगी और अत्यधिक पसीना निकल जाता है। लेकिन जरूरी है कि बालों में कुदरती नमी बनी रहे। अगर रोज बाल धोए जाएंगे तो बालों का कुदरती तेल कम हो जाएगा और बाल रूखे रहने लगेंगे। रूखे बाल जल्दी उलझते और झड़ते हैं। आप अपने बालों को सप्ताह में दो या तीन बार धोयें। अगर आपको ज्यादा पसीना आता है तो आप स्कैल्प और बालों के बीच में शैंपू करें।

यह भी पढ़ें-

अच्छे शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य के लिए जानें हीलिंग टच थेरेपी के बारे में

ज़ीरो ऑयल कुकिंग -दिल की बीमारियों से छुटकारा

आपको हमारे ब्यूटी टिप्स कैसे लगे? अपनी प्रतिक्रियाएं हमें जरूर भेजें। ब्यूटी-मेकअप से जुड़े टिप्स भी आप हमें ई-मेल कर सकते हैं-editor@grehlakshmi.com

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

गर्मी और धूप...

गर्मी और धूप से अपने बालों को कैसे बचाएं...

थायराइड के च...

थायराइड के चौकाने वाले लक्षण

स्वच्छता बढ़...

स्वच्छता बढ़ाए आपके आत्मविश्वास को

चाहिए स्वस्थ...

चाहिए स्वस्थ और सुंदर तन तो अपनाएं ये घरेलू...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

चित्त की महत...

चित्त की महत्ता...

श्री गुरुदेव की कृपा के बिना कुछ भी संभव नहीं। अध्यात्म...

तुम अपना भाग...

तुम अपना भाग्य फिर...

एक बार ऐसा हुआ कि पोप अमेरिका गए, वहां पर उनकी कई वचनबद्घताएं...

संपादक की पसंद

शांति के क्ष...

शांति के क्षण -...

मानसिक शांति के अत्यन्त सशक्त क्षण केवल दुर्बल खालीपन...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला...

एक महिला बोली : मुनिश्री! मैं बड़ी दु:खी हूं। यों तो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription