तोहफा - गृहलक्ष्मी लघुकथा

सन्दीप तोमर

1st April 2021

शादी के पच्चीस साल बाद उसने नफ़ासत के साथ पति से कहा-'स्वीट हार्ट! इन पच्चीस सालों में हम दोनों ने एक-दूसरे को शिद्दत से प्यार किया और दिया। आज एक काम करते हैं, कुछ ऐसा एक-दूसरे से शेयर करते हैं, जो हमने आपस में छिपाया हो, मेरा मतलब एक-दूसरे के सामने कन्फेस। लेकिन शर्त ये है कि कोई भी किसी तरह का गिला-शिकवा नहीं करेगा।

तोहफा - गृहलक्ष्मी लघुकथा

'डार्लिंग, शुरुआत तुम करो, पता तो चले कि तुमने मुझसे क्या-क्या छिपाया है।'-पति ने इसकी जुल्फों में अंगुलियाँ घुमाते हुए कहा।

'था कोई जो मुझे बेपनाह मोहब्बत करता था, उसके हाथों में जादू था, कभी-कभी तो बिना छुए ही मदहोश कर देता, सच कहूँ तो तुमसे भी कभी वो तृप्ति नहीं मिल पाई.....'- पिघला गरम शीशा मानों कानों से होते हुए गालों तक बह गया। आगे के शब्द पति की कानों तक ही नहीं पहुँच पाए।

'क्या हुआ जानू, कहाँ ख़ो गए, किसी की याद आ गयी क्या? बताओ न कौन थी वो?'-पत्नी ने गालों पर चुंबन करते हुए उसे छेड़ा।

'हाँ, वो जो भी है, आज भी जिद्द करती है कि बेटी दस साल की होने को है, अब तो मुझे पत्नी का दर्जा दे दो, कब तक मुझे दूसरे शहर में रखोगे, वो कहती है, मुझे दीदी से मिलवाओ, मैं उन्हें सबके साथ रहने पर सहमत कर लूँगी। तुम कहो तो उसे तुमसे मिला दूँ?'-पति ने कहा।

पत्नी को पेट में ऐंठन महसूस हुई, वह बिना चप्पल पहने वॉशरूम की ओर भागी।

यह भी पढ़ें -मिसाल - गृहलक्ष्मी लघुकथा

-आपको यह लघुकथा कैसी लगी? अपनी प्रतिक्रियाएं जरुर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही आप अपनी लघुकथा भी हमें ई-मेल कर सकते हैं-Editor@grehlakshmi.com  

-डायमंड पॉकेट बुक्स की अन्य रोचक कहानियों और प्रसिद्ध साहित्यकारों की रचनाओं को खरीदने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें-https://bit.ly/39Vn1ji  

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

घी ब्रेड खान...

घी ब्रेड खाना बना जान पर आफत

जादुई चिराग ...

जादुई चिराग - गृहलक्ष्मी लघुकथा

मोक्ष - गृहल...

मोक्ष - गृहलक्ष्मी लघुकथा

समझौता - गृह...

समझौता - गृहलक्ष्मी लघुकथा

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

घर पर वाइट ह...

घर पर वाइट हैड्स...

वाइट हैड्स से छुटकारा पाने के लिए 7 टिप्स

बच्चे पर मात...

बच्चे पर माता-पिता...

आपकी यह कुछ आदतें बच्चों में भी आ सकती हैं

संपादक की पसंद

तोहफा - गृहल...

तोहफा - गृहलक्ष्मी...

'डार्लिंग, शुरुआत तुम करो, पता तो चले कि तुमने मुझसे...

समझौता - गृह...

समझौता - गृहलक्ष्मी...

लेकिन मौत के सिकंजे में उसका एकलौता बेटा आ गया था और...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription