बूढ़ा बच्‍चा - गृहलक्ष्मी लघुकथा

शेर सिंह

1st April 2021

पुत्र की पुत्रवधु ने बीमार पड़े दादा जी को दूध में ओट्स बनाकर दिया। उन्‍होंने ओट्स के पूरे कटोरे को खाली कर दिया, तो बहू ने बिस्‍तर के पास दीवार में ठुकी कील पर लटकते हैंड-टावल से उनका मुंह पोंछा। फिर बोली, 'दादा जी... अब लेट जाओ... आपका दोपहर का भोजन हो गया है।'

बूढ़ा बच्‍चा - गृहलक्ष्मी लघुकथा

 'अ... च्‍... छा...!'

  बुजुर्ग दादा ने फंसी हुई आवाज़ में बड़ी मुश्किल से केवल 'अच्‍छा' कहा।

'अब आराम करना। .. उठना नहीं।' बहू उनके 'अच्‍छा' कहने के बावजूद संतुष्‍ट नहीं लग रही थी।

'मैं आपके कमरे के दरवाजे को... बाहर से बंद कर रही हूं।'

'अ... च्‍... छा...!' उसी रूंधी, फंसी आवाज़ में 'अच्‍छा' कहते हुए दादा जी लेट गए। बहू ने उनके कंबल आदि को व्‍यवस्थित किया।

खाली कटोरा और ट्रे को उठाकर वह अभी दरवाजे के पास पहुंची ही थी, दादा जी लेटे से कराहते हुए उठ बैठे। पलंग से टांगे लटका कर चप्‍पल ढूंढ़ने लगे। बर्तनों को वैसे ही पकड़े बहू उलटे पांव दादा जी की पलंग के पास पहुंची। दादा जी अधिक उम्र और बीमारी की वजह से बातों, वस्‍तुओं को ज्‍यादा याद नहीं रख पाते हैं। छोटे बच्‍चों की तरह तुनकने, रूठने और नाराज़ होने लगते हैं। बहू ही उनकी तीमारदारी और खाना-पानी देख रही थी। वह अपने पांच वर्ष के बेटे और बुजुर्ग दादा ससुर को एक जैसे मान रही थी। दोनों ही चंचल और हठी! बात-बात पर पैर पटकने वाले!

अब की बार बहू ने बनावटी गुस्‍से से आंखें तरेरते हुए मीठे से जैसे डांट दिया, 'अब नहीं उठना... लेट जाओ... बिल्‍कुल कोई शरारत नहीं... ठीक?'

'अच्‍छा...।' दादा जी ने फिर वही रटा-रटाया एक शब्‍द 'अच्‍छा' कहा और लेट गए। बहू मुस्‍कुरा कर दोबारा जूठे बर्तनों को उठाकर दरवाजे के पास पहुंची। पलट कर दादा जी की ओर देखा। दादा जी इस बार लेटे ही थे। बहू मंद मुस्‍कान के साथ संतुष्‍ट भाव से कमरे से बाहर आई। उसके लिए पांच वर्ष का बेटा और 95 वर्ष के दादा, दोनों एक समान हो गए थे।

शेर सिंह, कुल्‍लू हिमाचल प्रदेश

यह भी पढ़ें -प्रेम पगे रिश्ते - गृहलक्ष्मी लघुकथा

-आपको यह लघुकथा कैसी लगी? अपनी प्रतिक्रियाएं जरुर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही आप अपनी लघुकथा भी हमें ई-मेल कर सकते हैं-Editor@grehlakshmi.com

-डायमंड पॉकेट बुक्स की अन्य रोचक कहानियों और प्रसिद्ध साहित्यकारों की रचनाओं को खरीदने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें-https://bit.ly/39Vn1ji  

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

मजदूर दिवस -...

मजदूर दिवस - गृहलक्ष्मी लघुकथा

नई राह  - गृ...

नई राह - गृहलक्ष्मी कहानियां

मन की भूख अप...

मन की भूख अपार है - मुनिश्री तरुणसागरजी

असहाय - गृहल...

असहाय - गृहलक्ष्मी कहानियां

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

चित्त की महत...

चित्त की महत्ता...

श्री गुरुदेव की कृपा के बिना कुछ भी संभव नहीं। अध्यात्म...

तुम अपना भाग...

तुम अपना भाग्य फिर...

एक बार ऐसा हुआ कि पोप अमेरिका गए, वहां पर उनकी कई वचनबद्घताएं...

संपादक की पसंद

शांति के क्ष...

शांति के क्षण -...

मानसिक शांति के अत्यन्त सशक्त क्षण केवल दुर्बल खालीपन...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला...

एक महिला बोली : मुनिश्री! मैं बड़ी दु:खी हूं। यों तो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription