OTT - घर बैठे बोर हो रहे है, तो अभी देखें ऑनलाइन ये हॉरर शो

Richa Mishra Tiwari

12th April 2021

घर में बैठे-बैठे बोर हो रहे है। तो घबराइए मत आज हम आपके साथ कुछ ऐसे ऑनलाइन हॉरर शो शेयर करने जा रहे है जिससे आपकी बोरियत बिलकुल दूर हो जाएगी।

OTT - घर बैठे बोर हो रहे है, तो अभी देखें ऑनलाइन ये हॉरर शो

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का संक्रमण एक बार फिर पैर पसारने लगा है। जिसके चलते अब राज्यों ने भी पाबंदिया लगानी शुरू कर दी है। कई राज्यों में तो राज्य सरकार ने लॉकडाउन, नाईट कर्फ्यू और संडे लॉकडाउन की भी घोषणा कर दी है। ऐसे में एक बार फिर लोग घर में खाली बैठ गए है। वहीं अगर आप भी कुछ ऐसी ही परिस्थितियों में फंसे हुए है और घर में बैठे-बैठे बोर हो रहे है। तो घबराइए मत आज हम आपके साथ कुछ ऐसे ऑनलाइन हॉरर शो शेयर करने जा रहे है जिससे आपकी बोरियत बिलकुल दूर हो जाएगी।

ऑनलाइन हुई मूवी रिलीज़

गौरतलब है कि, साल 2020 के शुरुआत में ही केंद्र सरकार द्वारा लॉकडाउन की घोषणा हो गई थी। जिसके चलते देश में सभी कुछ बंद हो गया था। ऐसे में रिलीज़ होने वाली मूवीज की डेट आगे बढ़ा दी गई थी। लेकिन हालत सही न होने के कारण मूवीज को ओटीटी प्लेटफार्म पर रिलीज़ की गई। हालांकि यहां भी मूवीज को उतना हो रिस्पॉन्स मिला जितना की बड़े परदे पर मिलता है। ऑनलाइन मूवीज देखने के लिए आप अमाज़ॉन प्राइम, ऑल्ट बालाजी, हॉटस्टार जैसे एप्लीकेशन डाउनलोड कर और इनका सब्स्क्रिब्शन लेकर इन्हे ऑनलाइन इंजॉय कर सकते है।

2020 की टॉप 5 हॉरर मूवीज

अगर आप घर में खाली बैठे-बैठे बोर हो रहे है तो ये हॉरर मूवीज आपकी बोरियत को बिल्कुल दूर कर देंगी। आप इन मूवीज को अपने पूरे परिवार के साथ मिल कर भी देख सकते है। जिससे आपको न बोरियत महसूस होगी और एक क्वालिटी टाइम आपका भी आपकी फैमिली के साथ गुजरेगा। 2020 की टॉप 5 हॉरर मूवीज:

बुलबुल


अनुष्का शर्मा के प्रोडक्शन हाउस क्लीन स्लेट फिल्म की नई पेशकश नेटफ्लिक्स पर स्ट्रीम हो रही है। बुलबुल मूवी की कहानी है 1881 के बंगाल की। उस बंगाल की जो ना चाहते हुए भी अपने काला जादू और ज़मींदारों के लिए मशहूर है, और फिल्म इन दो मशहूर चीज़ों के इर्द गिर्द घूमती रहती है। फिल्म सस्पेंस नहीं है। फिल्म केकिरदारों की बात की जाए तो सब ने अपने किरदार बखूबी निभाया है।

घोस्ट स्टोरीज


जोया अख्तर, अनुराग कश्यप, दिबाकर बैनर्जी और करण जौहर की नेटफ्ल‍िक्स मूवी 'घोस्ट स्टोरीज' चार अलग हॉरर ड्रामा पर निर्धारित है। 1 जनवरी 2020 को रिलीज हुई घोस्ट स्टोरीज में दर्शकों के अंदर डर का भाव लाने की नाकाम कोशिश की गई है। डायरेक्टर अनुराग कश्यप और दिबाकर बैनर्जी ने डर का एक नया कॉन्सेप्ट ट्राई किया है। पहली कहानी डायरेक्टर जोया अख्तर की है जिसमें जाह्नवी कपूर एक बुजुर्ग और बीमार महिला की देखभाल के लिए उसके घर पर रहने लगती है। घर में एक बूढ़ी महिला है जिसे लोगों के आने से पहले ही उनके दरवाजे पर होने एहसास हो जाता है। कहानी के अंत के करीब में जाह्नवी को डर का एहसास तब होता है जब उसे घर में एक लाश मिलती है।

दूसरी कहानी अनुराग कश्यप की है। कहानी एक प्रेग्नेंट महिला नेहा के इर्द-गिर्द घूमती है नेहा की बहन की मौत हो जाती है जिसके बाद से ही उसके 5-6 साल के बेटे की देख रेख नेता करती है। लड़के के पिता पूरे दिन ऑफिस में बिताने के बाद शाम को उसे घर से ले जाते हैं। ये बच्चा अपनी मौसी के प्रेग्नेंसी पर ध्यान देने की वजह से उनसे नाराज होता है और इस बच्चे से ईर्ष्या करने लगता है। मुर्गी के अंडे की वजह से चीजें बेहद अजीबोगरीब हो जाती हैं और फिल्म की डार्क एंडिंग होती है।

तीसरी कहानी दिबाकर बैनर्जी द्वारा निर्देशि‍त है। यह कहानी हॉलीवुड फिल्मों में जोंबीज की कहानी से प्रेरित है। इस कड़ी में एक सीधा-सादा आदमी बीसघरा पहुंचता है जो एक छोटा सा गांव है। यहां केवल दो बच्चे जिंदा बचे हैं। ये बच्चे इस शख्स को आगाह करते हैं कि सौगढ़ा के लोग बीसघरा के लोगों को खा गए हैं। इस जगह का एक नियम है कि अगर आप हिलोगे तो आप मरोगे। अगर आप बोलोगे तो आप मरोगे। जो मानवों को खाता है उन्हें ये लोग नहीं खाते हैं।

चौथी कहानी करण जौहर की है। इस कहानी में शादी की रात जब दुल्हन को पता चलता है कि उसका पति अपनी मरी हुई नानी से बात करता है तो वह घबरा जाती है। वह अपने पति को उसकी मरी हुई नानी से अलग करने की कोशिश करती है पर खुद हादसे का शिकार हो जाती है।

भूत (द हॉन्टेड शिप)


इस मूवी में पृथ्वी (विक्की कौशल) एक हादसे में अपनी छोटी बेटी और पत्नी (भूमि पेडनेकर) को खो देते है। पृथ्वी मुंबई में अकेला रहता है और शिपिंग ऑफिसर की नौकरी करता है। वो खुद को अपनी पत्नी और बेटी की मौत का जिम्मेदार मानता है इसलिए उसमें इस बात का गिल्ट हमेशा बना रहता है। मुंबई में एक शिप आती है जो भूतिया होती है पृथ्वी शिप के अंदर जाता है और एक अजीब सा डर महसूस करता है। जिसके बाद वह इसकी जड़ तक जाने की कोशिश करता है और इसमें कामियाब हो जाता है। मूवी बहुत ही अच्छे कांसेप्ट पर बनी हुई है। आप इस मूवी को अमाज़ॉन प्राइम पर देख सकते है।

रूही


रूही में मेन किरदार जाह्नवी कपूर, राजकुमार राव और वरुण शर्मा का है। यह मूवी कॉमेडी हॉरर मूवी की केटेगरी में बिल्कुल फिट बैठती है। 'रूही' एक छोटे शहर में रहने वाले दो लड़कों और उनकी जिंदगी में आई एक लड़की की कहानी है। मूवी में भूरा पांडे (राजकुमार राव) और कट्टानी कुरैशी (वरुण शर्मा) कुछ अजीब परिस्‍थ‍ितियों में रूही (जान्‍हवी कपूर) के साथ फंस जाते हैं। रूही को देखकर ऐसा लगता है कि वह सीधी-सादी लड़की है, लेकिन फिर रूही का दूसरा रूप सामने आता है। जो की उससे बिलकुल अलग रहता है, रूही का दूसरा रूप भूतिया, चुड़ैल वाला होता है। इस पर्सनैलिटी का नाम है आफ्जा। अब भूरा को रूही से प्‍यार हो जाता है और कट्टानी को आफ्जा से। इन तीनों के बीच रोमांस का अलग ही पेंच चलता है और कहानी यहीं से आगे बढ़ती है।

12 'O' क्लॉक (अंदर का भूत)

यह मूवी अंधविश्वास में लिपटी हुई एक कहानी है। फिल्म की शुरुआत गौरी (कृष्णा गौतम) नाम की लड़की से होती है जो रात को अचानक बिस्तर से उठकर इधर-उधर घूमने लगती है। उसके परिवार के लोग घोड़े बेच कर सो रहे होते है। वहीं वह अजीब ढंग से आंखें घुमाकर, मुंह बनाकर इस कमरे से उस कमरे में घूमती रहती है।

 

यह भी पढ़े। 
बॉलीवुड से जुड़े हमारे लेख आपको कैसे लगे? अगर आपको किसी सेलिब्रिटी के बारे में जानना हैं या हमारे कोई लेख आपको पसंद आया हो तो आप अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेेजें। आप फैशन संबंधी टिप्स व ट्रेंड्स भी हमें ई-मेल कर सकते हैं- editor@grehlakshmi.com

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

Filmy Buzz -...

Filmy Buzz - फॅमिली के साथ देखें ये 5 कॉमेडी...

Filmy Buzz -...

Filmy Buzz - बॉलीवुड की ये टॉप 10 सस्पेंस...

इस महीने रिल...

इस महीने रिलीज हो रही है ये बड़ी फिल्में,...

मैं सबकी फेव...

मैं सबकी फेवरेट बनना चाहती हूं - जाह्नवी...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

चित्त की महत...

चित्त की महत्ता...

श्री गुरुदेव की कृपा के बिना कुछ भी संभव नहीं। अध्यात्म...

तुम अपना भाग...

तुम अपना भाग्य फिर...

एक बार ऐसा हुआ कि पोप अमेरिका गए, वहां पर उनकी कई वचनबद्घताएं...

संपादक की पसंद

शांति के क्ष...

शांति के क्षण -...

मानसिक शांति के अत्यन्त सशक्त क्षण केवल दुर्बल खालीपन...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला...

एक महिला बोली : मुनिश्री! मैं बड़ी दु:खी हूं। यों तो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription