झगड़ा गधे की छाया का - ईसप की रोचक कहानियाँ

गृहलक्ष्मी टीम

16th April 2021

झगड़ा गधे की छाया का - ईसप की रोचक कहानियाँ

एक बार की बात है, एथेंस में एक युवक ने कहीं जाने के लिए एक गधा किराए पर लिया। गधे का मालिक भी साथ-साथ गया। उस दिन बड़ी भीषण गरमी थी। युवक ने सोचा, थोड़ी देर गधे की छाया में लेटकर आराम करना चाहिए। उसने चादर बिछाई और जमीन पर जहाँ गधे की छाया पड़ रही थी, वहाँ लेटकर आराम करने लगा।

थोड़ी देर में गधे के मालिक ने आकर कहा, "इस छाया में तो मैं भी लेगा।" युवक ने ऐतराज करते हुए कहा, "लेकिन मैंने गधा किराए पर लिया है, तो छाया भी मेरी हुई। तुम यहाँ क्यों लेट रहे हो?"

मालिक ने कहा, "तुमने किराया गधे पर सवारी का दिया है, छाया का तो नहीं दिया इसलिए गधे की छाया पर मेरा हक है।"

इस बात पर दोनों जोर-जोर से लड़ने लगे। इससे घबराकर वह गधा न जाने कब वहाँ से भाग खड़ा हुआ।

थोड़ी देर बाद उन्होंने देखा कि गधा तो यहाँ है ही नहीं, जिसकी छाया को लेकर वे झगड़ रहे हैं। अब तो दोनों की हालत देखने लायक थी।

सीखः झगड़े से किसी को फायदा नहीं होता।

यह भी पढ़ें -जब पहियों ने मचाया शोर: ईसप की मनोरंजक कहानियाँ

-आपको यह कहानी कैसी लगी? अपनी प्रतिक्रियाएं जरुर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही आप अपनी कहानियां भी हमें ई-मेल कर सकते हैं-Editor@grehlakshmi.com

-डायमंड पॉकेट बुक्स की अन्य रोचक कहानियों और प्रसिद्ध साहित्यकारों की रचनाओं को खरीदने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें-https://bit.ly/39Vn1ji 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

सोने के अंडे...

सोने के अंडे देने वाली हंसिनी - ईसप की प्रेरक...

संगीतज्ञ गधा...

संगीतज्ञ गधा : पंचतंत्र की कहानी

मोहल्ले का इ...

मोहल्ले का इकलौता नल - गृहलक्ष्मी कहानियां...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला - मुनिश्री तरुणसागरजी

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

चित्त की महत...

चित्त की महत्ता...

श्री गुरुदेव की कृपा के बिना कुछ भी संभव नहीं। अध्यात्म...

तुम अपना भाग...

तुम अपना भाग्य फिर...

एक बार ऐसा हुआ कि पोप अमेरिका गए, वहां पर उनकी कई वचनबद्घताएं...

संपादक की पसंद

शांति के क्ष...

शांति के क्षण -...

मानसिक शांति के अत्यन्त सशक्त क्षण केवल दुर्बल खालीपन...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला...

एक महिला बोली : मुनिश्री! मैं बड़ी दु:खी हूं। यों तो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription