वेट लॉस करने के लिए वॉटर फास्टिंग, क्या हैं फ़ायदे और कमियां?

Spardha Rani

22nd April 2021

वॉटर फास्टिंग वेट लॉस करने की प्रक्रिया को बढ़ा सकता है लेकिन इसके अपने फ़ायदे और कमियां भी हैं।

वेट लॉस करने के लिए वॉटर फास्टिंग, क्या हैं फ़ायदे और कमियां?

वेट लॉस करना आसान नहीं है तो मुश्किल भी नहीं है। इसके लिए जरूरी है कि हम एक डाइट का पालन करें, लाइफ स्टाइल में बदलाव करें और एक्सरसाइज करें। इन दिनों वेट कम करने के लिए फास्टिंग एक आम तरीका हो गया है, जिसकी मदद से लोग वेट लॉस कर रहे हैं। इसमें लोग सीमा में रहकर खाते हैं, बाकी समय उपवास करते हैं। यह बहुत पॉपुलर है और इसके कई फ़ायदे भी हैं। वेट कम करने में फास्टिंग वाले प्लान में एक पॉपुलर प्लान वॉटर फास्टिंग है। इन दिनों यह बहुत फेमस होता जा रहा है, इसके तहत पानी एक अलावा किसी अन्य चीज का सेवन मना है। इसे कई सेलेब्रिटीज भी मानते हैं और करते हैं। इस वजह से भी यह पॉपुलर होता जा रहा है।

अधिकतर लोगों का मानना है कि वॉटर फास्टिंग वेट लॉस की प्रक्रिया को बढ़ाता है। लेकिन यहां यह सवाल भी उठता है कि क्या सिर्फ पानी पर रहने से असल में वेट लॉस किया जा सकता है? क्या यह डाइट सुरक्षति है? क्या इसके फ़ायदे हमेशा के लिए हैं या सिर्फ तुरंत के लिए हैं? ऐसे कई सवालों का जेहन में उठाना लाजमी है। इसलिए यह आर्टिकल आपके इन सभी सवालों का जवाब है।

वेट लॉस के लिए वॉटर फास्टिंग

शोधकर्ताओं का मानना है कि फैट लॉस करने के लिए वॉटर फास्टिंग कई बार आश्चर्यजनक तौर पर काम कर जाता है। इस तरह की फास्टिंग में व्यक्ति लंबे समय तक सिर्फ पानी पीता है, बाकी कुछ खाता नहीं है। इसकी कोई समय सीमा नहीं है कि व्यक्ति को कितनी देर तक वॉटर फास्टिंग करनी है। लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि वॉटर फास्टिंग करने वाले 24 घंटे से लेकर 3 दिन तक सिर्फ पानी पर रह सकते हैं। डिटॉक्स डाइट में से लेमन क्लींज भी कुछ ऐसा ही है।

वेट लॉस के अलावा भी अन्य कई ऐसे कारण हैं, जिसकी वजह से व्यक्ति वॉटर फास्टिंग कर सकता है। इसमें धार्मिक, आध्यात्मिक या मानसिक स्पष्टता कारण हो सकते हैं। कई वेलनेस और थेरेप्यूटिक इंस्टिट्यूट में भी इन दिनों मेडिटेशन के साथ वॉटर फास्टिंग को जगह दी जा रही है। इसके लिए, बिना भोजन के रहने के लिए शेड्यूल्ड मेडिकल प्रक्रिया की भी जरूरत पड़ सकती है।

कई स्टडी और रिसर्च में वॉटर फास्टिंग को जगह दी गई है। ये सब अभी भी फुल प्रूफ नहीं हैं लेकिन शोध बताते हैं कि वॉटर फास्टिंग के कई हेल्थ बेनेफिट्स हैं। यह डायबिटीज के जोखिम को कम करता है, कुछ कैंसर से बचाता है, हार्ट समस्याओं को कम करता है, हाई ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करता है, न्यूरोलॉजिकल समस्याओं से राहत देता है और ऑटोफैगी (बॉडी में अपने आप टिश्यू का अवशोषण) को प्रमोट करता है।

वॉटर फास्टिंग कैसे करता है वेट लॉस

जो लोग वॉटर फास्टिंग करते हैं, उनका मुख्य लक्ष्य अपने हेल्थ को सही करना है। इस रेजिम में वेट लॉस तेजी से होता है क्योंकि फास्टिंग के दौरान बॉडी को एनर्जी के लिए किसी तरह के कार्बोहाइड्रेट पर निर्भर नहीं रहना पड़ता है। इस समय बॉडी एनर्जी के लिए स्टोर किए गए फैट का उपयोग करती है और इस तरह से फैट कम हो जाते हैं।

वॉटर फास्टिंग के दौरान वेट कम करने में मदद के दौरान आप ऑटोफैगी तक जल्दी पहुंच जाते हैं। ऑटोफैगी एक ऐसी प्रक्रिया है, जब टॉक्सिक सेल्स टूट जाते हैं या उनकी मरम्मत होती है। इसके साथ ही, यह एक ऐसा समय अहि जब आप कुछ भी प्रोसेस्ड, हाई कार्बोहाइड्रेट या कैलोरी वाले फूड्स का सेवन नहीं कर रहे होते हैं तो आप अपनी बॉडी को साफ रखने में मदद करते हैं। पानी एक जीरो- कैलोरी ड्रिंक जो है!

वॉटर फास्टिंग : क्या हो सकता है और कैसे करें

अमूमन जो लोग वॉटर फास्टिंग करते हैं, वे बिना किसी कंसलटेशन के करते हैं। यदि आप एक बिगिनर हैं है आप असल की वॉटर फास्टिंग के लिए अपनी बॉडी को 2-3 दिन पहले से ही कम खाकर तैयार कर सकती हैं। दिन में एक बार न खा कर या छोटे- छोटे पोर्शन खाकर आप ऐसा कर सकती हैं। स्टडीज बताते हैं कि वॉटर फास्टिंग के दौरान आप रोजाना 0।9 किलो लूज़ कर सकती हैं। अगर आप 24-72 घंटे का वॉटर फास्ट कर रही हैं तो आपको सिर्फ पानी पीना है और कुछ नहीं। रोजाना 2-3 लीटर पानी पीना सही है।

अपने फास्ट से पहले सही तरह से खा लें ताकि आपको बहुत ज्यादा भूख न लगे। एनर्जी वाले प्रोटीन फूड्स खाना सही रहता है। इस समय आपको अपनी गतिविधियों को कम करना चाहिए क्योंकि आपको कमजोरी महसूस हो सकती है।

अपने फास्ट को खत्म करने के बाद कुछ रूल्स का पालन करना जरूरी हैं। चूंकि आपने पिछले दिनों कुछ भी हेवी नहीं खाया है तो छोटे और आसानी से पचने वाले मील लें। धीरे- धीरे रेग्युलर और बड़े मील तक जाएं।

क्या सुरक्षित है वॉटर फास्टिंग

वॉटर फास्ट आपकी कैलोरी इनटेक को कम करके आपके वजन को कम करने में मदद करता है। आपको यहां यह याद रखना जरूरी है कि आपने जो किलो कम किए हैं, वे अमूमन वॉटर वेट या मसल मास हैं। इसलिए अन्य फास्टिंग की तरह वॉटर फास्टिंग लंबे समय के लिए फायदेमंद नहीं भी हो सकता है।

आपको यह जानकार भी आश्चर्य होगा कि वॉटर फास्ट आपको डिहाइड्रेट कर सकता है क्योंकि आपको फूड्स से भी पानी मिलता है। वॉटर फास्ट पर रहने वाला व्यक्ति डिजी, थकान, इरिटेटिंग महसूस कर सकता है। इस समय ब्लड प्रेशर भी अचानक कम हो सकता है।

किसे नहीं करना चाहिए वॉटर फास्टिंग

अगर आपकी उम्र 18 से कम या 70 से ज्यादा है।

अगर आपका वजन कम है।

अगर आप प्रेगनेंट हैं।

अगर आप ब्रेस्ट फ़ीड करा रही हैं।

अगर आप इटिंग डिसऑर्डर की समस्या से परेशान हैं।

अगर आप कार्डियक समस्या से परेशान हैं।

अगर आप कोई विशेष दवा ले रही हैं।

 

ये भी पढ़ें - 

क्या है वॉटर वेट? वॉटर वेट कम करने के तरीके 

वेट लॉस के लिए वेजीटेरियन डाइट 

 

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

क्या है वॉटर...

क्या है वॉटर वेट? वॉटर वेट कम करने के तरीके...

Celebrity Fi...

Celebrity Fitness - नीता अंबानी ने खोला अपना...

इस तरीके से ...

इस तरीके से मेथी दाना का सेवन करने से पक्का...

जानिए वजन घट...

जानिए वजन घटाने में कैसे मदद करता है जिंजर...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

वापसी - गृहल...

वापसी - गृहलक्ष्मी...

 बीस साल पहले जब वह पहली बार स्कूल आया था ,तब से लेकर...

7 ऐसे योग आस...

7 ऐसे योग आसन जो...

स्ट्रेस, देर से सोना, देर से जागना, जंक फूड खाना, पौष्टिक...

संपादक की पसंद

हस्त रेखा की...

हस्त रेखा की उत्पत्ति...

जिन मनुष्यों ने हस्त विज्ञान की खोज की उसे समझा और...

अक्सर पैसे ब...

अक्सर पैसे बढ़ाने...

बाई काम पर आती रहे, काम अच्छा करे और पैसे बढ़ाने की...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription