बच्चों को खिलाएं, क्रिएटिव तरीके से हेल्थी खाना

चयनिका निगम

22nd April 2021

बच्चों को हेल्थी खाना खिलाना आज के समय में बड़ा ही कठिन काम है। लेकिन थोड़ी क्रिएटिविटी के बाद बच्चों को पोषण खाने में छुपा कर जरूर खिलाया जा सकता है।

बच्चों को खिलाएं, क्रिएटिव तरीके से हेल्थी खाना

बच्चों को खाना खिलाना एक बड़ा काम है। ये बड़ा काम तब और बड़ा हो जाता है, जब बच्चों को पौष्टिक खाने के बजाए सिर्फ जंक फूड में ही स्वाद आता हो। ऐसे समय पर बच्चों को न्यूट्रीशन से भरपूर खाना खिलाना भी एक बड़ा काम होता है। ये बड़ा काम तब और कठिन होता है जब बच्चा सामने से देख कर हेल्थी खाना जैसे फल आदि न खाना चाहे। ऐसे वक्त में उन्हें हेल्थी खाना कैसे खिलाया जाए? छुपा कर या कहें क्रिएटिव तरीके से। जी हां, अगर बच्चा ऐसे हेल्थी खाना नहीं खाएगा तो उसे ऐसे ही खिलाना पड़ेगा। पर ये भी कोई आसान काम बिलकुल नहीं है। बच्चे अब इतने समझदार हैं कि पेरेंट्स की ऐसी आदतों को पकड़ लेते हैं। तो हम बस वही आइडिया ले आए हैं, जिनके सहारे आप बच्चों को हेल्थी खाना आसानी से खिला पाएंगी। उनको स्वाद भी महसूस होगा और उनकी हेल्थ को भी कोई नुकसान नहीं होगा-

खुद आप बनें रोल मॉडल-

तरीके से सुझाने से पहले ये जान लीजिए कि बच्चे की हेल्थी इटिंग के लिए आपको ही रोल मॉडल बनना होगा। जब आपको बच्चा हेल्थी खाते हुए देखेगा तो यकीन मानिए कि वो भी फास्ट फूड खाने की सोचेगा तक नहीं। इसलिए उनको क्रिएटिव तरीके से हेल्थी खाना खिलाने से पहले खुद की आदतों पर ध्यान देंगी तो शायद ये काम करना ही नहीं पड़ेगा। 

सोच के घोड़े-

जब भी बच्चे को क्रिएटिव तरीके से बिना बताए हेल्थी खाना खिलाने की बारी आए तो आपको ये जानना जरूरी है कि क्रिएटिविटी की कोई सीमा नहीं है। इसके लिए आपको अपनी सोच के घोड़े दौड़ाने होंगे। खुद ही सोचना होगा कि कैसे और किस तरह से खाने में हेल्थ का स्वाद घोला जा सकता है। जैसे पराठे बनाते समय उसमें म्योनीज और सॉस लगा दिया। इसी तरह के कई आइडिया हैं, जिनको लेकर आप अपने बच्चे को क्रिएटीवली हेल्थी खाना खिला पाएंगी। 

फलों वाला पराठा-

आप सोच रही होंगी कि फलों को पराठे के अंदर भर देना है क्या? नहीं ऐसा करने से तो बच्चे को तुरंत ही फलों का स्वाद आ जाएगा और उसे तब पराठे में स्वाद तो बिलकुल नहीं लगेगा। इसलिए फलों वाला पराठा बनाने का तरीका थोड़ा अलग है। इसके लिए आपको फल सीधे तौर पर नहीं बल्कि इनके रस से आटा बनाने के बाद बनाने हैं। आटे में ही फलों की पौष्टिकता मिल जाएगी। फिर इसके बाद आप चाहें तो पराठे को पनीर या आलू से स्टफ भी कर सकती हैं। रस निकालने के बाद बचे हुए फलों के मिश्रण को आलू के साथ मिलकर स्टफ भी किया जा सकता है। 

दाल का पिज्जा-

दाल का पिज्जा? ये क्या है भाई, आप भी यही सोच रही हैं तो हम आपको बता दें कि बच्चों का पसंदीदा पिज्जा वाला स्वाद ही उन्हें आएगा। बस दाल के गुण भी उन्हें मिल सकेंगे। इसके लिए आपको कोई भी दाल या कई दालों के मिश्रण को भिगोकर और पीस कर तैयार करना है। पीसनी थोड़ी मोटी और गाढ़ी है। अब इसको तवे पर चीले की तरह फैला लीजिए। थोड़ा मोटा रखेंगी तो बेस पिज्जा जैसा तो नहीं लेकिन फिर भी बनाने में मददगार होगा। अब इसे दोनों तरफ हल्का सेंक लेने के बाद अब इसे एक प्लेट में ले लें। अब इसमें पिज्जा की तरह म्योनीज और सॉस लगा लें। साथ में पिज्जा जैसी टॉपिंग लगाएं। कोशिश करें सब्जी और पनीर वाली हेल्थी टॉपिंग चुनें। अब इसको फिर से तवे पर रखें और ऊपर से एक प्लेट ढक दें। पिज्जा वाला मटेरियल अच्छे से पाक जाएगा। बस आंच धीमी रखें ताकि चीला न जल जाए। बस कुछ मिनटों में बच्चे के लिए दाल चीला तैयार है। ऊपर से ओर्गेनो भी डाल सकती हैं। 

पोहा के चीज बॉल-

पोहा एक ऐसी चीज है जिसको हमेशा से ही हेल्थी माना गया है। इसको बस हो सकता है हर दूसरे दिन खाना बच्चे के लिए कठिन हो। इसलिए किसी-किसी दिन इसे बनाया जा सकता है। इसके लिए आपको पोहे को बहुत अच्छे से भिगोना है। ये इतना भीगा हो कि आलू के साथ मिल जाए और बाद में गोले बनाना भी आसान हो। इसमें आलू की मात्रा कम रखी जा सकती है ताकि बहुत आलू बच्चे के पेट में ना जाए। अब इसमें आप कुछ उबली ही सब्जियां जैसे गाजर या मटर भी मिला सकती हैं। अब इसमें धनिया के साथ हल्की मिर्च, जो बच्चा खा सके मिलाएं। अब आटा जैसा बनाकर छोटे बॉल बना लें। बॉल बनाते समय बीच में चीज रखना न भूलें। लीजिए तैयार हैं पोहा वाले हेल्थी चीज बॉल। 

दाल चावल बच्चों की पसंद-

दाल चावल ज़्यादातर भारतीय बच्चों को पसंद होता ही है। ऐसे में बच्चे को सिर्फ उसकी पसंद की दाल के साथ चावल खिलाते रहना सही नहीं है। बल्कि आप पंचमेल दाल भी बना सकती हैं। इसमें बच्चे को कई दालों की पौष्टिकता मिल जाएगी। और वो स्वाद से खाना भी खा लेगा। 

 

ये भी करें-

खुद पौष्टिक खाना बनाने की कोशिश अच्छी बात है लेकिन इसके साथ आप कुछ और टिप्स भी आजमा सकती हैं। जैसे

  • नूडल्स मैदे वाले न लेकर चावल या रवे वाले लिए जा सकते हैं। 
  • बर्गर का बन भी मैदे वाला न लें। बाजार में मल्टीग्रेन बन मिल जाते हैं। 
  • चावल बनाएं तो माढ़ निकाल कर। 
  • सब्जियां बच्चों को नहीं पसंद है तो उन्हें बनाएं ऐसी चीजों के साथ जो बच्चों को पसंद हो जैसे गोभी मंचूरियन। 

कुकरीसंबंधी यह लेख आपको कैसा लगा?अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

ये भी पढ़ें-

होम मेड ड्रिंक्स से करें बॉडी डिटाक्स

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

जंकफूड को कै...

जंकफूड को कैसे बनाएं हैल्दी

बच्चे की फास...

बच्चे की फास्ट-फूड खाने की आदत से कैसे मिलेगा...

बच्चे नहीं प...

बच्चे नहीं पड़ेंगे बीमार जब इम्युनिटी मजबूत...

बच्चा हो हेल...

बच्चा हो हेल्थी, रहे कोलेस्ट्रॉल से दूरी...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

जन-जन के प्र...

जन-जन के प्रिय तुलसीदास...

भगवान राम के नाम का ऐसा प्रताप है कि जिस व्यक्ति को...

भक्ति एवं शक...

भक्ति एवं शक्ति...

शास्त्रों में नागों के दो खास रूपों का उल्लेख मिलता...

संपादक की पसंद

अभूतपूर्व दा...

अभूतपूर्व दार्शनिक...

श्री अरविन्द एक महान दार्शनिक थे। उनका साहित्य, उनकी...

जब मॉनसून मे...

जब मॉनसून में सताए...

मॉनसून आते ही हमें डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, जैसी...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription